• Hindi News
  • International
  • In Britain, The Government Is Going To Increase The Time Limit For Freezing Sperm, Eggs And Embryos From 10 To 55 Years

अब बुढ़ापे में भी शुरू कर सकेंगे परिवार:ब्रिटेन में सरकार स्पर्म, एग और भ्रूण फ्रीज करने की समय सीमा बढ़ाकर 10 से 55 साल करने जा रही

लंदन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इस फैसले से लोगों को फैमिली प्लानिंग की तैयारियों के लिए खासा वक्त मिल सकेगा। - Dainik Bhaskar
इस फैसले से लोगों को फैमिली प्लानिंग की तैयारियों के लिए खासा वक्त मिल सकेगा।
  • स्वास्थ्य मंत्री ने कहा- इससे दंपती को फैमिली प्लानिंग की तैयारियों के लिए वक्त मिल सकेगा

नाती-पोतो को खिलाने की उम्र में परिवार शुरू करना! सुनकर अजीब लगता है न, पर ब्रिटेन में अब यह संभव हो सकेगा। यानी वहां अब लोग 75 की उम्र में भी माता-पिता बन सकेंगे। बोरिस जॉनसन सरकार स्पर्म, एग और भ्रूण को फ्रीज करने की समयसीमा 10 से बढ़ाकर 55 साल करने जा रही है। ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री साजिद जाविद के मुताबिक ये प्रस्ताव जल्द संसद में मंजूरी के लिए भेजा जाएगा।

जाविद ने कहा कि वर्तमान स्टोरेज की समयसीमा लोगों को परिवार शुरू करने जैसे महत्वपूर्ण फैसले को लेने में बाधा डालती है। नया कानून लोगों की दिमाग में चल रही टिक-टिक को बंद कर देगा। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि यह कदम लोगों की प्रजनन और समानता की आजादी की ओर ‘बड़ा कदम’ है क्योंकि सभी के लिए समान नियम लागू होंगे।

इस फैसले से लोगों को फैमिली प्लानिंग की तैयारियों के लिए खासा वक्त मिल सकेगा। मान लीजिए 75 साल की उम्र में फर्टिलिटी समस्या से ग्रस्त कोई पुरुष पिता बनना चाहता है, तो वह 20 साल की उम्र में फ्रीज किए गए स्पर्म का इस्तेमाल कर सकेगा। ब्रिटेन में सामाजिक कारणों के चलते दो तिहाई महिलाएं 35 साल की उम्र में एग्स फ्रीज कराती हैं, इस उम्र में उनकी प्रजनन क्षमता तेजी से घटने लगती है। पर अब उन्हें यह सहूलियत मिल जाएगी कि वे 20 साल की उम्र में एग फ्रीज करा सकेंगी।

इसके अलावा अगले 10 सालों में गर्भ धारण करने की बाध्यता भी नहीं रहेगी। ह्यूमन फर्टिलाइजेशन एंड एम्ब्रियोलॉजी अथॉरिटी की अध्यक्ष जूलिया चेन ने कहा कि जितनी जल्दी एक महिला अपने एग्स को फ्रीज करती है, उसके बाद में सफल आईवीएफ गर्भधारण की संभावना उतनी ही बेहतर होती है।

ब्रिटिश फर्टिलिटी सोसाइटी के प्रेसिडेंट डॉ. राज माथुर ने कहा, ‘इससे गंभीर बीमारियों से जूझ रहे लोगों के साथ सामान्य दंपतियों को भी मदद मिलेगी। लोगों के उस मूलभूत अधिकार की सुरक्षा सुनिश्चित होगी जिससे उनका भविष्य जुड़ा होता है।’

आठ साल में 10 गुना बढ़ गई एग फ्रीज कराने वाली महिलाओं की संख्या
दरअसल फ्रीजिंग टेक्नोलॉजी के तहत एग, स्पर्म और एम्ब्रियो को स्टोर करके प्रजनन क्षमता को संरक्षित किया जाता है, ताकि भविष्य में संतान पैदा करना चाहें तो समस्या न पेश आए। ब्रिटेन के स्वास्थ्य और सामाज देखभाल विभाग(डीएचएससी) ने कहा कि यह बदलाव रॉयल कॉलेज ऑफ ओब्स्टेट्रिशियन के रिसर्च की रिपोर्ट के बाद दी गई सलाह के आधार पर किया जा रहा है।

इसमें कहा गया था कि अंडाणु और एम्ब्रियो लंबे समय तक फ्रीज करने करने पर भी गुणवत्ता में कमी नहीं आती। ब्रिटेन में 2010 से लेकर 2018 में एग फ्रीज कराने वाली महिलाओं की संख्या करीब 10 गुना बढ़ गई है। देश में एग फ्रीज कराने का खर्च 3.39 लाख रुपए है। वहीं इलाज का खर्च करीब 1.52 लाख रुपए है। इसके अलावा हर साल स्टोरेज खर्च 35 हजार रुपए देना होता है।

खबरें और भी हैं...