UNGA में प्रस्ताव- यूक्रेन को मुआवजा दे रूस:वोटिंग से दूर रहा भारत; 94 देशों ने कहा- यूक्रेन को हर्जाना तो मिलना ही चाहिए

वॉशिंगटन3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

रूस-यूक्रेन जंग करीब 11 महीने बाद भी जारी है। इसको रोकने की तमाम कोशिशें अब तक नाकाम साबित हुई हैं। सोमवार को इस मामले में नया ट्विस्ट आया। यूनाइटेड नेशन जनरल असेंबली (UNGA) में एक प्रस्ताव लाया गया। इसमें कहा गया कि यूक्रेन को जंग से जो नुकसान हुआ है, उसकी भरपाई रूस करे।

इस प्रस्ताव पर वोटिंग भी हुई। भारत ने इसमें हिस्सा नहीं लिया। प्रस्ताव में रूसी हमले की वजह से यूक्रेन को हुए नुकसान की भरपाई के लिए मुआवजा देने की मांग की गई। इसमें कहा गया है कि रूस ने अंतरराष्ट्रीय कानून तोड़ा है।

94 देशों ने की पक्ष में वोटिंग
अमेरिका और उसके सहयोगी पश्चिमी देशों के समर्थन से इस प्रस्ताव को UNGA में पेश किया गया था। इसमें यूक्रेन के पक्ष में 94 देशों ने वोट किया। इसके बाद प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया गया। बेलारूस, चीन, क्यूबा, ​​उत्तर कोरिया, ईरान, रूस और सीरिया को मिलाकर 14 देशों ने प्रस्ताव के खिलाफ वोट किया।
भारत के साथ भूटान, ब्राजील, मिस्र, इंडोनेशिया, इज़राइल, नेपाल, पाकिस्तान, दक्षिण अफ्रीका और श्रीलंका समेत 73 देशों ने वोटिंग में हिस्सा नहीं लिया।

UN में भारत की स्थाई प्रतिनिधि रुचिरा कंबोज ने वोट नहीं करने का कारण बताया है।
UN में भारत की स्थाई प्रतिनिधि रुचिरा कंबोज ने वोट नहीं करने का कारण बताया है।

भारत ने वोट नहीं करने की वजह बताई
UN में भारत की स्थायी प्रतिनिधि रुचिरा कंबोज ने कहा- हमें यह विचार करना होगा कि क्या UN में हुई वोटिंग से सब ठीक हो जाएगा? साथ ही महासभा में पारित हुए ऐसे प्रस्तावों की कानूनी रूप से क्या होगा यह भी स्पष्ट नहीं है। रुचिरा ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन से PM नरेंद्र मोदी की कही बात "यह युद्ध का समय नहीं है" को दोहराया। कहा- भारत बातचीत और कूटनीति के जरिए जंग रोकना चाहता है।

कंबोज ने आगे कहा- बिना अंतरराष्ट्रीय कानून को ध्यान में रखे ऐसे प्रस्ताव नहीं लाना चाहिए, जिससे संयुक्त राष्ट्र के भविष्य के एजेंडे पर असर हो। ऐसे कदमों से बचना चाहिए जो बातचीत को खतरे में डालकर इस संघर्ष को बढ़ाएं।

चीन, उत्तर कोरिया, ईरान और सीरिया को मिलाकर 14 देशों ने प्रस्ताव के खिलाफ वोट किया।
चीन, उत्तर कोरिया, ईरान और सीरिया को मिलाकर 14 देशों ने प्रस्ताव के खिलाफ वोट किया।

भारत यूक्रेन की स्थिति को लेकर चिंतित: कंबोज
कंबोज ने यह भी कहा कि भारत यूक्रेन की स्थिति को लेकर चिंतित है। इस युद्ध में कई लोगों की जान गई है और लाखों महिलाएं, बच्चे और बुजुर्ग बेघर हो गए। जिसकी वजह से उन्हें पड़ोसी देशों में रहने के लिए मजबूर होना पड़ा। उन्होंने दुनिया में आई आर्थिक गिरावट के लिए भी युद्ध को जिम्मेदार बताया।

करीब 50 देशों ने रूस को जिम्मेदार ठहराया
UNGA में लगभग 50 देशों ने माना कि यूक्रेन पर हमला करने के लिए रूस को अंतरराष्ट्रीय कानून के उल्लंघन के लिए जिम्मेदार ठहराना चाहिए। साथ ही नुकसान की भरपाई के लिए रूस को मुआवजा देना चाहिए।

UNGA में पहले भी लाए गए हैं प्रस्ताव
यह पहली बार नहीं है जब UNGA में इस तरह का प्रस्ताव पेश कर पास किया गया है। इससे पहले भी पश्चिमी देश कई प्रस्ताव लाए, लेकिन उसका कोई खास असर नहीं हुआ। फरवरी में शुरू हुई जंग के चलते दोनों देशों के हजारों सैनिक मारे जा चुके हैं। जंग की वजह से ग्लोबल फूड सिक्योरिटी और सप्लाई चेन पर असर पड़ा। क्रूड ऑयल काफी महंगा हो गया।