24 घंटे में करारा जवाब:विंटर ओलिंपिक्स के किसी इवेंट में शामिल नहीं होंगे इंडियन एम्बेसडर; चीन ने गलवान संघर्ष के कमांडर को बनाया टॉर्च बेयरर

नई दिल्ली10 महीने पहले

चीन में आज से शुरू होने जा रहे विंटर ओलिंपिक्स 2022 की किसी भी ऑफिशियल सेरेमनी में भारत के राजदूत शिरकत नहीं करेंगे। विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को यह जानकारी दी। मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा- यह अफसोस की बात है कि चीन ओलिंपिक गेम्स के बहाने सियासत कर रहा है। बीजिंग में हमारे चार्ज डी’अफेयर्स (एक प्रकार से कार्यवाहक राजदूत) इन गेम्स की ओपनिंग या क्लोजिंग सेरेमनी में हिस्सा नहीं लेंगे।

भारत ने विंटर ओलिंपिक्स के बायकॉट का फैसला उन रिपोर्ट्स के बाद किया है जिनमें बताया गया था कि चीन ने खेलों के टॉर्च रिले में एक ऐसे कमांडर ‘की फाबाओ’ को मशाल सौंपी, जो 2020 में हुए गलवान घाटी संघर्ष में शामिल था। भारत के अलावा अमेरिका समेत कई देशों ने विंटर ओलिंपिक्स के डिप्लोमैटिक बायकॉट का फैसला किया है। फाबाओ ने बुधवार को टॉर्च रिले में शिरकत की थी। गुरुवार को भारत ने इन खेलों के डिप्लोमैटिक बायकॉट का फैसला किया।

फाबाओ चीन की सेना में रेजिमेंट कमांडर है।
फाबाओ चीन की सेना में रेजिमेंट कमांडर है।

कौन है फाबाओ?
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, फाबाओ चीन की सेना यानी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) में रेजिमेंट कमांडर है। 15 जून 2020 को लद्दाख की गलवान घाटी में संघर्ष के दौरान वो गंभीर तौर पर जख्मी हो गया था और उसे भारतीय सैनिकों ने पकड़ लिया था। बाद में उसे चीन को सौंप दिया गया था।

दिसंबर में उसने चीन के सरकारी टीवी चैनल (CCTV) को एक स्पॉन्सर्ड इंटरव्यू दिया था। इसमें उसने गलवान घाटी की घटना के बारे में बताया था। फाबाओ ने कहा था- मैं सरहद पर जाने के लिए फिर तैयार हूं। हम अपनी एक इंच जमीन भी किसी को नहीं देंगे। चीन की सेना ने उसे वीरता पुरस्कार भी दिया। टीवी प्रोग्राम में फाबाओ के साथ चार और सैनिक भी शामिल हुए थे।

गलवान घाटी में भारत के 20 सैनिक शहीद हो गए थे।
गलवान घाटी में भारत के 20 सैनिक शहीद हो गए थे।

चीन को मैसेज
5 मई 2020 में हुए गलवान संघर्ष में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे। अमेरिका समेत दुनिया के कई मीडिया हाउसेज ने बताया था कि गलवान घाटी में चीन के 40 सैनिक मारे गए थे। हालांकि, शी जिनपिंग सरकार ने कभी चीन की सेना यानी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) के मारे गए सैनिकों की सही तादाद नहीं बताई। यहां ये जान लेना भी जरूरी है कि अमेरिका समेत कई देशों ने विंटर ओलिंपिक्स 2022 का डिप्लोमैटिक बायकॉट कर चीन को मानवाधिकारों पर सख्त संदेश दिया है।

क्या चाहता है चीन?
गलवान घाटी में मारे गए अपने सैनिकों की संख्या चीन ने कभी नहीं बताई। अमेरिकी इंटेलिजेंस ने सबसे पहले खुलासा किया था कि संघर्ष में चीन के 40 से ज्यादा सैनिक मारे गए थे। जब यह रिपोर्ट्स पब्लिश हुईं तो चीन के विदेश मंत्रालय ने एक बयान में माना था कि उसे भी नुकसान हुआ है। हालांकि फिर भी ये कभी साफ नहीं किया कि नुकसान कितना हुआ। गुरुवार को ऑस्ट्रेलियाई मीडिया की एक रिपोर्ट में बताया गया कि गलवान में चीन के कम से कम 38 सैनिक मारे गए थे।

बहरहाल, लद्दाख में दोनों देशों के बीच अब भी तनाव बना हुआ है। 14 दौर की बातचीत के बाद भी कुछ अहम पॉइंट्स पर दोनों देशों के सैनिक आमने-सामने हैं।

चीन के नागरिक ने ही खोली थी पोल
पिछले साल अक्टूबर में चीन के एक ट्रैवल ब्लॉगर ली किजिआन ने गलवान पर चीन के झूठ की पोल खोल दी थी। किजियान ने चीन के कांगवाक्सी में मौजूद उन सैनिकों की कब्रों पर जाकर वीडियो बनाया था जो भारतीय सैनिकों के हाथों मारे गए थे। बाद में पिशान काउंटी की एक कोर्ट ने किजियान को शहीदों के अपमान का दोषी पाया और उसे 7 महीने की सजा सुनाई। वो फिलहाल जेल में है।