• Hindi News
  • International
  • Sneha Dubey India Pakistan | India Junior Diplomat Sneha Dubey Reply To Pakistan PM Imran Khan At United Nations

भारत की जूनियर अफसर इमरान पर भारी:कश्मीर राग पर पाक PM को जवाब- आतंकियों को पालते हो, लादेन को शहीद कहते हो; कश्मीर के सपने छोड़ दो

2 महीने पहले

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए संबोधन में भी कश्मीर राग अलापा है। इमरान ने कहा कि दक्षिण एशिया में स्थायी शांति जम्मू-कश्मीर विवाद के समाधान पर निर्भर है। इमरान के इस प्रोपेगैंडा का भारत की एक जूनियर अफसर ने करारा जवाब दिया है। संयुक्त राष्ट्र में भारत की डिप्लोमेट स्नेहा दुबे ने जिस तीखे अंदाज में इमरान पर पलटवार किया, उसकी हर कोई तारीफ कर रहा है और सोशल मीडिया पर उनके लिए नारी शक्ति हैशटैग ट्रेंड हो रहा है।

पढ़िए स्नेहा ने इमरान खान को क्या जवाब दिया-

'पूरा जम्मू-कश्मीर और लद्दाख हमेशा से भारत के अभिन्न हिस्से हैं और रहेंगे। इनमें पाकिस्तान के कब्जे वाले हिस्से भी शामिल हैं, पाकिस्तान को इन्हें तुरंत छोड़ देना चाहिए। संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देश जानते हैं कि पाकिस्तान का इतिहास आतंकियों को पालने और उनकी मदद करने का रहा है, यह पाक की नीति में शामिल है।

ये पहली बार नहीं है जब पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र के मंच का इस्तेमाल भारत के खिलाफ झूठ फैलाने और दुनिया का ध्यान भटकाने के लिए किया है, जबकि पाकिस्तान में आतंकी खुलेआम घूमते हैं। ओसामा बिन लादेन को भी पाकिस्तान ने शरण दी थी। यहां तक कि पाकिस्तानी हुकूमत आज भी लादेन को शहीद कहती है।'

अल्पसंख्यकों को दबाता है पाकिस्तान
दुबे ने कहा कि पाकिस्तान के लिए बहुलवाद को समझना बहुत मुश्किल है, वह अल्पसंख्यकों की उच्च पदों की आकांक्षा को दबाता है। पाकिस्तान आतंकियों को पालता-पोषता है और उम्मीद करता है कि वे सिर्फ पड़ोसियों को नुकसान पहुंचाएंगे। पाकिस्तान का रिकॉर्ड है कि उसने संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रतिबंधित आतंकियों की सबसे ज्यादा मेजबानी की है। हमारा क्षेत्र ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया पाकिस्तान की नीतियों से पीड़ित है। दूसरी तरफ पाकिस्तान अपनी सांप्रदायिक हिंसा को आतंकवाद की आड़ में छिपाने की कोशिश करता है।

संयुक्त राष्ट्र महासभा में पाकिस्तान को जवाब देते हुए स्नेहा दुबे।
संयुक्त राष्ट्र महासभा में पाकिस्तान को जवाब देते हुए स्नेहा दुबे।

कौन हैं स्नेहा दुबे?
स्नेहा दुबे 2012 बैच की IFS ऑफिसर हैं। वे गोवा में पली-बढ़ी हैं, स्कूली पढ़ाई गोवा में ही हुई थी। इसके बाद हायर एजुकेशन पुणे के फर्गुसन कॉलेज से और फिर एमफिल की पढ़ाई JNU दिल्ली से पूरी की। उन्होंने 12 साल की उम्र से ही IFS बनने का सपना देखना शुरू कर दिया था और 2011 में पहली कोशिश में ही सिविल सर्विसेज परीक्षा पास कर ली। उनका पहला अपॉइंटमेंट विदेश मंत्रालय में हुआ था। बाद में 2014 में उन्हें मैड्रिड स्थित भारतीय दूतावास भेज दिया गया। फिलहाल वे संयुक्त राष्ट्र में भारत की फर्स्ट सेक्रेट्री हैं।

भारत की बेटियों के पाक को जवाब पहले भी चर्चा में रहे हैं

2016 में IFS एनम गंभीर (बाएं) ने UN में पाक को करारा जवाब दिया था। 2019 में विदिशा मैत्रा (दाएं से ऊपर) ने और अब स्नेहा दुबे ने पाक को खरी-खरी सुनाई है।
2016 में IFS एनम गंभीर (बाएं) ने UN में पाक को करारा जवाब दिया था। 2019 में विदिशा मैत्रा (दाएं से ऊपर) ने और अब स्नेहा दुबे ने पाक को खरी-खरी सुनाई है।

सितंबर 2019: संयुक्त राष्ट्र में इमरान खान ने भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निजी हमला किया और भारत पर कई आरोप लगाए थे। इसके जवाब में IFS विदिशा मैत्रा ने कहा कि इमरान खान संयुक्त राष्ट्र के मंच का गलत इस्तेमाल कर रहे हैं और उनका भाषण नफरत से भरा है।

सितंबर 2016: भारत की डिप्लोमेट एनम गंभीर ने UN असेंबली में पाकिस्तान के उस वक्त के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को करारा जवाब दिया था। शरीफ के भाषण के बाद एनम ने कहा कि आतंकवाद को बढ़ावा देना पाकिस्तान की पुरानी नीति है। ये कितनी अजीब बात है कि आतंकवाद को बढ़ावा देने वाला देश मानवाधिकारों की बात करता है।

खबरें और भी हैं...