• Hindi News
  • International
  • Kashmir News, India Pakistan and Kashmir Issue; US Working On Two Way Strategy To India Pakistan Tension Over Kashmir Is

कश्मीर मसला / भारत-पाक तनाव को कम करने के लिए अमेरिका दोतरफा रणनीति पर काम कर रहा: ट्रम्प प्रशासन



अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प। -फाइल अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प। -फाइल
X
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प। -फाइलअमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प। -फाइल

  • पाक सीमा पार घुसपैठ करने और कश्मीर में आतंकी गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए टेरर फंडिंग करने से बचे- अधिकारी
  • अमेरिकी अधिकारी ने कहा- भारत को जम्मू-कश्मीर में सामान्य स्थिति करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा

Dainik Bhaskar

Aug 24, 2019, 11:08 AM IST

वॉशिंगटन. जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव को कम करने के लिए अमेरिका दोतरफा रणनीति पर काम कर रहा है। ट्रम्प प्रशासन के अधिकारी न कहा कि पहली रणनीति पाकिस्तान पर दबाव डालना है, ताकि वह सीमा पार से घुसपैठ करने, खासकर कश्मीर में आतंकी गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए वित्तीय या अन्य सहायता देने से बचे।

 

अधिकारी के मुताबिक, दूसरी रणनीति भारत को जम्मू-कश्मीर में सामान्य स्थिति करने के लिए प्रोत्साहित करना है। साथ ही यह सुनिश्चित करना है कि वहां के लोगों के मानवाधिकारों की रक्षा हो। राजनीतिक कैदियों को रिहा किया जाए और संचार माध्यमों को फिर से शुरू किया जाए।

 

अमेरिकी सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प नियंत्रण रेखा के पार आतंकियों की घुसपैठ को रोकने और भारत पर हमला करने वाले आतंकी समूहों पर नकेल कसने के लिए पाकिस्तान से कार्रवाई करने के लिए कहा है।

 

‘पाक आतंकी गतिविधियों के लिए अपनी मिट्‌टी का इस्तेमाल न होने दे’

रणनीति के पहले हिस्से को दर्शाते हुए एक अन्य अधिकारी ने कहा कि भारत-पाक के बढ़ते तनाव के बीच यह महत्वपूर्ण है कि इस्लामाबाद सीमा पार आतंकवाद के लिए अपनी मिट्टी का इस्तेमाल नहीं होने देने के लिए प्रतिबद्धता दिखाए।

 

1989 में भारत में पाकिस्तान द्वारा किए गए घुसपैठ का उल्लेख करते हुए अधिकारी ने कहा कि अमेरिका ने इस्लामाबाद को ऐसी किसी भी रणनीति को दोहराने के खिलाफ चेतावनी दी है। 1989 की यह कार्रवाई कश्मीर के लोगों के साथ-साथ पाकिस्तान के लिए भी एक विफलता थी।

 

पाक को एफएटीएफ ब्लैकलिस्ट कर सकती है

अमेरिकी अधिकारियों ने कहा कि इस्लामाबाद टेरर फंडिंग के खिलाफ कार्रवाई नहीं करता है तो पाकिस्तान को फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) द्वारा ब्लैकलिस्ट किए जाने की संभावना का सामना करने के लिए तैयार रहना चाहिए। फ्रांस स्थित एफएटीएफ एक अंतर-सरकारी संगठन है जो टेरर फंडिंग और मनी लॉन्ड्रिंग पर नजर रखती है।

 

हाल ही में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ ट्रम्प ने फोन पर बातचीत की थी। उन्होंने पाकिस्तान को भारत के खिलाफ बयानबाजी करने और जम्मू-कश्मीर की स्थिति पर तनाव बढ़ाने से बचने के लिए कहा था।

 

जी-7 में मानवाधिकार मुद्दे पर चर्चा संभव

अमेरिकी प्रशासन के अधिकारी ने कहा कि राष्ट्रपति ट्रम्प पीएम मोदी के साथ बैठक के लिए बेहद उत्सुक हैं। जी-7 शिखर सम्मेलन के दौरान फ्रांस में मोदी और ट्रम्प के बीच बैठक के दौरान मानवाधिकार के मुद्दे पर चर्चा हो सकती है। उम्मीद जताई जा रही है कि प्रधानमंत्री मोदी क्षेत्रीय तनाव को कम करने और कश्मीर में मानवाधिकारों की रक्षा के लिए अपनी योजनाओं पर बात करेंगे। साथ ही दोनों नेता रणनीतिक साझेदारी, रक्षा सहयोग, आतंकवाद और व्यापारिक मुद्दों पर चर्चा कर सकते हैं। अमेरिका को उम्मीद है कि भारत टैरिफ कम करेगा और अपने बाजार खोलेगा।

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना