अमेरिका / रेगिस्तान में मां पानी तलाशने गई, लौटी तब तक 6 साल की भारतीय बच्ची की लू लगने से मौत



यूएस-मैक्सिको बॉर्डर इलाका। (फाइल फोटो) यूएस-मैक्सिको बॉर्डर इलाका। (फाइल फोटो)
X
यूएस-मैक्सिको बॉर्डर इलाका। (फाइल फोटो)यूएस-मैक्सिको बॉर्डर इलाका। (फाइल फोटो)

  • एरिजोना के दक्षिणी रेगिस्तान में इस साल दूसरी मौत, गर्मी के चलते पिछले साल अमेरिका में 127 की जान गई 
  • मेडिकल एग्जामिनर के मुताबिक- एरिजोना का तापमान 42 डिग्री हो गया था, चेतावनी भी जारी की गई

Dainik Bhaskar

Jun 15, 2019, 03:59 PM IST

वॉशिंगटन. अमेरिका के एरिजोना स्थित रेगिस्तान में लू लगने 6 साल की एक भारतीय बच्ची की मौत हो गई। अमेरिकी बॉर्डर पेट्रोल के मेडिकल एग्जामिनर ने बताया कि घटना के वक्त बच्ची की मां उसे अन्य शरणार्थियों के पास छोड़कर पानी लेने के लिए गई थी। एरिजोना के ल्यूकविल के पश्चिमी इलाके में अमेरिकी बॉर्डर पेट्रोल ने बुधवार को बच्ची को ढूंढा था। उसका नाम गुरप्रीत कौर था। वह जल्द ही अपना 7वां जन्मदिन मनाने वाली थी।

शरणार्थी मैक्सिको के रास्ते अमेरिका में प्रवेश करते हैं

  1. रिपोर्ट के मुताबिक, गुरप्रीत और उसकी मां उन पांच भारतीयों के समूह में शामिल थीं, जिन्हें तस्करों ने मैक्सिको से सटे सीमावर्ती इलाके में मंगलवार सुबह 10 बजे छोड़ा था। कुछ देर बाद गुरप्रीत की मां एक अन्य महिला के साथ पानी ढूंढने गईं। दोनों ने अपने बच्चों को वहां अन्य महिला के पास छोड़ दिया।

  2. कुछ देर बाद गुरप्रीत की मां और महिला रेगिस्तान में रास्ता भटक गए। बॉर्डर पेट्रोल एजेंट ने दोनों को बुधवार सुबह 8 बजे ढूंढा। अधिकारियों ने बताया कि गुरप्रीत की मां अंग्रेजी नहीं जानती थी। ऐसे में उसने सांकेतिक भाषा में बात की। 

  3. इस साल एरिजोना के दक्षिणी रेगिस्तान में होने वाली यह दूसरी मौत है। चीफ पेट्रोल एजेंट रॉय ने कहा,‘‘यह मौतें अकारण हो रही हैं। तस्कर कुछ मुनाफे के लिए लोगों की जान जोखिम में डाल रहे हैं।’’

  4. इससे पहले शरणार्थी परिवारों के लिए इलाके में हीट स्ट्रोक को लेकर चेतावनी भी जारी की गई थी। इस समय शरणार्थी मैक्सिको से अमेरिका में प्रवेश करने की कोशिश कर रहे हैं। 

  5. इमिग्रेशन अधिकारियों के अनुसार, बड़ी संख्या में भारतीय मैक्सिको बॉर्डर पार करके अमेरिका पहुंच रहे हैं। इनमें हजारों अफ्रीकन और एशियन शरणार्थी भी शामिल हैं, जो तस्करी गिरोह की मदद से मैक्सिको के रास्ते अमेरिका के दक्षिणी रेगिस्तान में पहुंच जाते हैं।

  6. चीफ मेडिकल ऑफिसर ग्रेग हेस ने कहा बच्ची की मौत हाइपरथर्मिया (गर्मी बढ़ने) के कारण हुई। यह एक दुर्घटना थी। इस साल 30 मई तक दक्षिणी एरिजोना में 58 शरणार्थियों की मौत दर्ज की है। 2018 में अमेरिका में हीटस्ट्रोक के चलते 127 मौतें हुई थीं। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना