• Hindi News
  • International
  • India's First Women UN Permanent Representative Ruchira Kamboj; Terrorism Is Biggest Threat To The World

UN में भारत की दो टूक:आतंकवाद दुनिया के लिए सबसे बड़ा खतरा; इससे निपटने के मुद्दे पर दोहरा रवैया गलत

न्यूयॉर्क4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

संयुक्त राष्ट्र में भारत की स्थायी प्रतिनिधि रुचिरा कम्बोज ने आतंकवाद के मुद्दे पर कुछ देशों के दोहरे मापदंड को लेकर गंभीर सवाल उठाए हैं।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की एक अहम मीटिंग में कम्बोज ने कहा- आतंकवाद दुनिया के लिए सबसे बड़ा खतरा है। इसको लेकर दोहरे मापदंड नहीं अपनाए जा सकते। ये बिल्कुल साफ है कि टेरेरिज्म का खतरा बहुत तेजी से बढ़ रहा है और इससे दुनिया का कोई भी हिस्सा अछूता नहीं रहा। कम्बोज दुनिया में आतंकवाद का खतरा विषय पर बोल रहीं थीं।

उन्होंने कहा- अगर हमने आतंकवाद को सिर्फ आतंकवाद नहीं माना, इसे अलग-अलग देखना बंद नहीं किया तो इससे खतरा बढ़ता जाएगा। अपनी सुविधा के हिसाब से इस समस्या को देखना खतरनाक साबित होगा। इसके खिलाफ दुनिया को एकजुट होकर कार्रवाई करनी होगी।

आतंकवाद पूरी दुनिया के लिए खतरा -रुचिरा कम्बोज
रुचिरा ने कहा कि दुनिया के एक हिस्से में आतंकवाद पूरी दुनिया की शांति और सुरक्षा के लिए खतरा है और इसलिए इस अंतरराष्ट्रीय चुनौती के लिए हमारी प्रतिक्रिया इंटीग्रेटेड, कोऑर्डिनेटेड और सबसे महत्वपूर्ण रूप से प्रभावी होनी चाहिए। उन्होंने कहा- आपको याद होगा कि पिछले साल 9/11 के आतंकी हमलों की 20वीं सालगिरह पर भारत के विदेश मंत्री ने संयुक्त रूप से आतंकवाद का मुकाबला करने के लिए कई सुझाव दिए थे।

कौन हैं रुचिरा कम्बोज
रुचिरा कम्बोज न्यूयॉर्क स्थित संयुक्त राष्ट्र में भारत की पहली महिला राजदूत हैं। इसी साल जून में उन्हें भारत का स्थायी प्रतिनिधि के तौर पर नियुक्त किया गया है। उन्होंने राजदूत टीएस तिरुमूर्ति की जगह ली है। पिछले मंगलवार को उन्होंने संयुक्त राष्ट्र में भारत की नई स्थायी प्रतिनिधि के रूप में अपना कार्यभार संभाला।

58 साल की कम्बोज 1987 बैच की भारतीय विदेश सेवा (IFS) अधिकारी हैं। वे भूटान में भारत की राजदूत और दक्षिण अफ्रीका में भारत की उच्चायुक्त के रूप में सेवाएं दे चुकी हैं।