• Hindi News
  • International
  • Indonesia is second only to China in polluting the sea Government aims to reduce plastic waste by 70% in 6 years

मुहिम / इंडोनेशिया में 3 बोतल देकर खरीद सकते हैं बस की टिकट, हर हफ्ते 16000 यात्री सफर कर रहे



Indonesia is second only to China in polluting the sea Government aims to reduce plastic waste by 70% in 6 years
X
Indonesia is second only to China in polluting the sea Government aims to reduce plastic waste by 70% in 6 years

  • इंडोनेशिया समुद्र को प्रदूषित करने के मामले में चीन के बाद दूसरे नंबर पर
  • सरकार ने 6 साल में 70% प्लास्टिक कचरा कम करने का लक्ष्य रखा 

Dainik Bhaskar

Aug 10, 2019, 11:57 AM IST

जकार्ता.  इंडोनेशियाई शहर सुरबाया के एक व्यस्त बस टर्मिनल पर बड़ी संख्या में लोग प्लास्टिक की बोतलों और डिस्पोजेबल कप लेकर लाइन में खड़े रहते हैं। किसी भी अजनबी व्यक्ति को यह नजारा देखकर हैरानी हो सकती है। दरअसल, इन प्लास्टिक वेस्ट को देकर लोग बस की टिकट हासिल करते हैं। इंडोनेशिया ने प्लास्टिक कचरे को कम करने और उसे समुद्र में जाने से रोकने लिए यह पहल की है। 

 

इंडोनेशिया समुद्र को प्रदूषित करने के मामले में चीन के बाद दूसरे नंबर पर है। मगर, अब इंडोनेशिया ने तय किया है कि वह साल 2025 तक समुद्र में फेंके जाने वाले अपने प्लास्टिक कचरे को करीब 70% तक कम कर लेगा। इसके लिए प्लास्टिक वेस्ट की रीसाइक्लिंग करना, लोगों में जागरूकता बढ़ाना और प्लास्टिक के उपयोग पर अंकुश लगाने जैसे कदम उठाए जा रहे हैं।

 

लोग कचरा जमा करने में लगे
अधिकारियों के मुताबिक, हर हफ्ते मुफ्त यात्रा के लिए लगभग 16000 यात्री प्लास्टिक का कचरा देकर बस की टिकट लेते हैं। अधिकारियों ने बताया कि एक घंटे तक बस की सवारी करने में, जिसमें असीमित बस स्टॉप शामिल हैं, उसके लिए तीन बड़ी बोतलें, पांच मध्यम बोतलें या 10 प्लास्टिक कप दिए जा सकते हैं। मगर, उन्हें साफ होना चाहिए और टटू-फूट नहीं होनी चाहिए। 44 साल के अकाउंटटें ने बोतलें-कप देने की इस योजना पर कहा- अब कार्यालय या घर के लोग इसे दूर फेंकने के बजाय कचरा जमा करने की कोशिश कर रहे हैं।

 

80 लाख टन प्लास्टिक हर साल महासागरों में जाता है
डिस्पोजेबल प्लास्टिक के खतरे को रोकने के लिए दुनिया भर की सरकारें तेजी से कदम उठा रही हैं। एलन मैकआर्थर फाउंडेशन की साल 2016 की रिपोर्ट में चेतावनी दी गई थी कि समुद्र में 2050 तक वजन के हिसाब से मछलियों से ज्यादा प्लास्टिक होगी। अनुमान है कि हर साल करीब 80 लाख टन प्लास्टिक महासागरों में जाता है। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना