इंटरनेशनल वर्ल्ड म्यूजियम डे:दुनिया के सारे संग्रहालय इतिहास दिखाएंगे, लेकिन दुबई का म्यूजियम दिखाएगा मानव जीवन का भविष्य

दुबई7 महीने पहलेलेखक: शानीर सिद्दीकी
  • कॉपी लिंक

18 मई को पूरी दुनिया अंतरराष्ट्रीय म्यूजियम डे मना रही है। इस मौके पर विश्व के सारे म्यूजियम विजिटर्स को अपने अंदर समेटे हुए इतिहास और ऐतिहासिक कहानियों से रू-ब-रू कराएंगे। उधर, दुबई में दुनिया का इकलौता ऐसा म्यूजियम है, जो भविष्य और संभावनाओं की बात करता दिखेगा। फरवरी 2022 में जनता के लिए खोला गया ‘म्यूजियम ऑफ द फ्यूचर’ 7 मंजिला कॉलम फ्री म्यूजियम दुनिया की सबसे खूबसूरत इमारतों में से एक है।

दुबई के शासक शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम के नजरिए को आगे बढ़ाने के लिए बने इस म्यूजियम को भविष्य के प्रयोगों का म्यूजियम कहा जा सकता है। डेटा विश्लेषण, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, वर्चुअल और उससे भी आगे की रियलिटी के अलावा मानव-मशीन वार्तालाप की आधुनिक तकनीकों को विकसित करने के लिए यह लेबोरेटरी के रूप में काम कर रहा है।

1000 करोड़ की लागत से बने इस म्यूजियम को भविष्य के प्रयोगों का म्यूजियम कहा जा सकता है
1000 करोड़ की लागत से बने इस म्यूजियम को भविष्य के प्रयोगों का म्यूजियम कहा जा सकता है
7 साल में तैयार इस म्यूजियम की खूबसूरती लोगों को हैरान कर देती है।
7 साल में तैयार इस म्यूजियम की खूबसूरती लोगों को हैरान कर देती है।

आम सोच से बहुत दूर भविष्य में ले जाता है
यह म्यूजियम विजिटर्स को स्पेशल मिशनों में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित भी करता है। यह इनोवेशन के लिए आइडिया की बात भी करता है और आम सोच से बहुत दूर भविष्य में ले जाता है। 7 साल में तैयार इस म्यूजियम की लागत लगभग 1,000 करोड़ रुपए है। पिछले दिनों दुबई टूरिज्म ने अपने नवीनतम अभियान ‘क्रिएटिंग द फ्यूचर विद शाहरुख खान’ में भी इसे फीचर किया था।

दुबई टूरिज्म ने क्रिएटिंग द फ्यूचर विद शाहरुख खान अभियान में इस म्यूजियम को फीचर किया था।
दुबई टूरिज्म ने क्रिएटिंग द फ्यूचर विद शाहरुख खान अभियान में इस म्यूजियम को फीचर किया था।

नेशनल ज्योग्राफिक ने 14 खूबसूरत संग्रहालयों में जगह दी
नेशनल ज्योग्राफिक ने इसे धरती के 14 सबसे खूबसूरत संग्रहालयों में स्थान दिया है। यूनीक आर्किटेक्चर की वजह से इसने टिकला इंटरनेशनल बिल्डिंग अवॉर्ड भी जीता है। ऑटोडेस्क डिजाइन सॉफ्टवेयर भी इसे दुनिया की सबसे नवीन इमारतों में से एक बताता है।

यह म्यूजियम डेटा विश्लेषण, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, वर्चुअल और उससे भी आगे की रियलिटी पर काम कर रहा है।
यह म्यूजियम डेटा विश्लेषण, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, वर्चुअल और उससे भी आगे की रियलिटी पर काम कर रहा है।
खबरें और भी हैं...