--Advertisement--

दुबई / इंटरपोल का नया प्रमुख चुनने के लिए दुनियाभर के पुलिस चीफ की बैठक



इंटरपोल की इस बात को लेकर आलोचना हो रही है कि वह राजनीतिक बदला लेने के लिए रेड नोटिस जारी करता है। (फाइल) इंटरपोल की इस बात को लेकर आलोचना हो रही है कि वह राजनीतिक बदला लेने के लिए रेड नोटिस जारी करता है। (फाइल)
मेंग होंगवेई चीन के लोक सुरक्षा उपमंत्री थे और सितंबर में चीन के दौरे पर जाने के बाद से लापता थे। (फाइल) मेंग होंगवेई चीन के लोक सुरक्षा उपमंत्री थे और सितंबर में चीन के दौरे पर जाने के बाद से लापता थे। (फाइल)
X
इंटरपोल की इस बात को लेकर आलोचना हो रही है कि वह राजनीतिक बदला लेने के लिए रेड नोटिस जारी करता है। (फाइल)इंटरपोल की इस बात को लेकर आलोचना हो रही है कि वह राजनीतिक बदला लेने के लिए रेड नोटिस जारी करता है। (फाइल)
मेंग होंगवेई चीन के लोक सुरक्षा उपमंत्री थे और सितंबर में चीन के दौरे पर जाने के बाद से लापता थे। (फाइल)मेंग होंगवेई चीन के लोक सुरक्षा उपमंत्री थे और सितंबर में चीन के दौरे पर जाने के बाद से लापता थे। (फाइल)

  • सितंबर में चीन के दौरे पर गए थे इंटरपोल के पूर्व चीफ मेंग होंगवेई, उन्हें हिरासत में ले लिया गया था
  • चीन में मेंग पर लगे भ्रष्टाचार के आरोप, 7 अक्टूबर को चीन की तरफ से उनका इस्तीफा भेजा गया था 

Dainik Bhaskar

Nov 18, 2018, 09:50 PM IST

दुबई. इंटरपोल का नया चीफ चुनने के लिए रविवार को दुबई में दुनियाभर के पुलिस प्रमुखों की बैठक शुरू हुई। इससे पहले चीन ने इंटरपोल के पूर्व चीफ मेंग होंगवेई को हिरासत में ले लिया था। होंगवेई चीन के लोक सुरक्षा उपमंत्री थे और सितंबर में चीन के दौरे पर जाने के बाद से लापता थे। मेंग पर शी जिनपिंग प्रशासन में ही रिश्वत लेने के आरोप लगे थे।

 

इंटरपोल की इस मीटिंग में इस पर भी विचार किया जाएगा कि कोसोवो को पूर्ण सदस्य माना जाए या नहीं। ताकि इंटरपोल को कोसोवो के अफसरों के खिलाफ रेड नोटिस जारी करने का अधिकार मिल सके। रेड नोटिस इंटरपोल द्वारा सभी सदस्य देशों को जारी किया जाता हैं जिसमें किसी अन्य देश द्वारा गिरफ्तार करने के लिए व्यक्ति की पहचान की जाती है। इंटरपोल के मुताबिक, अभी दुनिया में 57 हजार 289 रेड नोटिस सक्रिय हैं।

 

इंटरपोल की हो रही आलोचना
इंटरपोल की इस बात को लेकर आलोचना हो रही है कि वह राजनीतिक बदला लेने के लिए रेड नोटिस जारी करता है। जबकि संस्था का चार्टर में साफतौर पर कहा गया है कि रेड नोटिस का इस्तेमाल राजनीतिक कारणों के लिए नहीं किया जाएगा। दो साल पहले भी इंटरपोल ने रेड नोटिस व्यवस्था को मजबूत करने के लिए कानून जामा पहनाने की कोशिश की थी।

 

पत्नी ने दी थी मेंग की जिंदगी के खतरे में होने की जानकारी
मेंग ने 25 सितंबर को अपने मोबाइल से सोशल मीडिया पर पत्नी को एक संदेश भेजा। इसमें उन्होंने लिखा, ‘‘मेरे फोन का इंतजार करना।’’ इसमें मेंग ने चाकू वाला इमोजी बनाया था। इसके बाद पत्नी ने मेंग की जिंदगी खतरे में बताते हुए फ्रांस की पुलिस से शिकायत की थी। 5 अक्टूबर को फ्रांस सरकार ने जांच शुरू की। इसमें पता चला कि मेंग 29 सितंबर को चीन के लिए रवाना हुए थे। 

 

चीन ने एक लाइन का बयान जारी करते हुए कहा था कि मेंग को नियमों के उल्लंघन के आरोप में हिरासत में लिया गया है। चीन के अफसरों ने यह भी कहा कि उन पर भ्रष्टाचार और अन्य आरोपों की जांच कानून के दायरे में रहकर ही की जाएगी। मेंग नवंबर 2016 में इंटरपोल के प्रेसिडेंट बने थे और उनका कार्यकाल 2020 तक था। इंटरपोल के महासचिव जर्गेन स्टॉक ने बताया कि चीन से मेंग का इस्तीफा 7 अक्टूबर को आया था। चीन के अधिकारियों ने कहा था कि अब वह इंटरपोल में सेवाएं जारी नहीं रख सकते।

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..