पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

इराक में ISIS का घातक हमला:13 पुलिसकर्मियों की मौत और कई घायल, किरकुक शहर के पास स्थित चेकपॉइंट को निशाना बनाया

बगदाद21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस अधिकारी ने बताया कि ISIS ने फेडरल पुलिस चेकपॉइंट को निशाना बनाया। IS के दहशतगर्द पहले भी सुरक्षाकर्मियों पर हमला कर चुके हैं। - Dainik Bhaskar
पुलिस अधिकारी ने बताया कि ISIS ने फेडरल पुलिस चेकपॉइंट को निशाना बनाया। IS के दहशतगर्द पहले भी सुरक्षाकर्मियों पर हमला कर चुके हैं।

इराक में ISIS के हमले में 13 पुलिसकर्मियों की मौत हो गई और कई घायल हुए हैं। किरकुक शहर से करीब 65 किलोमीटर दक्षिण में अल-रशद के इलाके में हमला आधी रात के बाद हुआ। रिपोर्ट के मुताबिक, कुछ घायलों की हालत गंभीर है, जिससे मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है।

इराकी पुलिस के एक सीनियर अधिकारी ने बताया कि ISIS के दहशतगर्दों ने पुलिस चौकी को निशाना बनाया। उन्होंने कहा कि जिहादी यहां इराक की सेना और पुलिस को लगातार निशाना बनाते रहते हैं, लेकिन यह हमला इस साल ISIS के सबसे घातक हमलों में से एक था।

जुलाई में आत्मघाती बम धमाके में 35 की मौत हुई
इसी साल जुलाई में इराक के सदर शहर में आत्मघाती बम धमाके में 35 लोगों की मौत हुई थी और 60 से ज्यादा लोग जख्मी हुए थे। धमाका एक बाजार में हुआ। ईद होने की वजह से यहां काफी भीड़ थी। ISIS ने टेलीग्राम के जरिए संदेश शेयर करके इस हमले की जिम्मेदारी ली थी।

अप्रैल में इराक के सदर शहर में धमाके में 4 लोगों की मौत
बीते अप्रैल में भी इराक के सदर शहर के एक बाजार में कार में धमाका हुआ था। इसमें 4 लोग मारे गए थे और 20 जख्मी हुए थे। इस हमले की जिम्मेदारी भी IS ने ही ली थी। वहीं, जनवरी में सेंट्रल बगदाद तायारन स्क्वायर मार्केट में हुए सुसाइड बॉम्ब अटैक की जिम्मेदारी भी IS ने ली थी। इस धमाके में 30 लोग मारे गए थे।

IS के स्लीपर सेल सुरक्षाबलों को लगातार निशाना बना रहे
इराक की सरकार ने 2017 में दावा किया था कि उसने ISIS को हरा दिया है। सरकार का कहना था कि IS के पास स्लीपर सेल हैं, जो सुरक्षाबलों को लगातार निशाना बना रहे हैं। इराकी सरकार ने इसे एक बड़ी चुनौती मानी थी और इससे छुटकारा पाने के लिए प्लान तैयार करने की बात कही थी।

इराक में अपने सैनिकों की संख्या कम करने की तैयारी में US
इराक में अंतरराष्ट्रीय गठबंधन सैनिकों की संख्या फिलहाल 3,500 के करीब है, जिनमें से 2,500 अमेरिकी सैनिक हैं। US यहां अपनी सैन्य उपस्थिति को कम करने में जुटा हुआ है। अमेरिकी अधिकारियों का कहना है कि अगले साल से उसके सैनिकों की भूमिका इराकी सुरक्षाकर्मियों को ट्रेनिंग और सलाह देने तक सीमित हो जाएगी।

खबरें और भी हैं...