यूक्रेन के हालात पर एक्शन में इजराइल:युद्ध हुआ तो फंसे यहूदियों को निकालेगा इजराइल, क्रीमिया पर रूसी हमले के समय भी मदद दी थी

कीव, यूक्रेन6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

रूस-यूक्रेन तनाव बढ़ता जा रहा है। इसी बीच इजराइल ने यूक्रेन की ओर मदद का हाथ बढ़ाया है। इजराइल ने लंबे समय से जरूरत पड़ने पर कई देशों से यहूदियों को निकालने की योजना तैयार कर रखी है। बढ़ते तनाव के कारण यूक्रेन के लिए उन योजनाओं को अपडेट किया है। इजराइल के अधिकारियों ने कहा कि युद्ध की स्थिति में इजरायल और सहायता समूह यूक्रेन के यहूदी समुदाय की मदद के लिए तैयार हैं। इसके पहले 2014 में जब रूस ने क्रीमिया पर कब्जा कर लिया था, तब भी इजराइल ने यूक्रेन की मदद की थी।

इज़राइली अधिकारियों ने कहा कि उन्हें राष्ट्रव्यापी अराजकता की उम्मीद नहीं हैं। अगर ऐसा होता है तो बड़े पैमाने पर एयरलिफ्ट की आवश्यकता होगी। लेकिन जरूरत पड़ने पर इजरायल कार्रवाई के लिए तैयार होगा। मई 1991 में इजरायली वायु सेना के एल अल जंबो जेट में युद्धग्रस्त अदीस अबाबा से 14,000 से अधिक इथियोपियाई लोगों को एयरलिफ्ट किया गया था। उस समय यह ऑपरेशन इजरायल के वर्तमान रक्षा मंत्री बेनी गैंट्ज़ की निगरानी में हुआ था।

परिस्थितियों का सामना करेंगे यूक्रेनी यहूदी
हारेत्ज़ अखबार की एक रिपोर्ट के अनुसार, इजरायल के रक्षा और विदेश मंत्रालयों और अन्य सुरक्षा शाखाओं के अधिकारियों की जनवरी में यूक्रेन के यहूदी समुदायों की संभावित युद्धकालीन जरूरतों का आकलन करने के लिए एक बैठक हुई थी। हालांकि इजरायल के विदेश मंत्रालय ने इस रिपोर्ट पर टिप्पणी नहीं की। साथ ही कहा कि वह यूक्रेन में अपने नागरिकों को परेशानी का सामना करने के लिए तैयार कर रहा है। हालांकि एक इज़राइली एडवाइजरी में कहा गया कि नागरिकों को तुरंत यूक्रेन छोड़ने पर विचार करना चाहिए। साथ ही इसमें कहा गया कि दूतावास के कर्मचारियों के परिवार के सदस्यों को निकालना जल्द शुरू किया जाएगा।

रूस ने यूक्रेन की सीमा को घेरा
रूस और पश्चिम के बीच बढ़ते तनाव और कीव पर मॉस्को के संभावित हमले की आशंका के बीच विदेश मंत्रालय का बयान जारी किया गया। रूस ने टैंक, युद्धपोतों, तोपखाने और मिसाइलों को और हजारों सैनिकों को यूक्रेन के साथ अपनी सीमा पर जमा किया है। इजरायल के समाचार आउटलेट यनेट के हवाले से अनुसार, इजरायल के इमिग्रेशन मंत्री पनीना तमानो-शता ने कहा, हम सभी परिस्थितियों के लिए तैयार हैं। जानकारी के अनुसार, यूक्रेन में 100,000 से अधिक यहूदी रहते हैं। सहायता समूह उन हजारों यहूदियों की सहायता करने में शामिल था जो 2014 में युद्ध शुरू होने पर यूक्रेन के पूर्वी डोनबास क्षेत्र से बेघर हुए थे।

यूक्रेन की सरहद के करीब मौजूद रूसी सेना के टैंक्स और फाइटर जेट्स की सैटेलाइट इमेज।
यूक्रेन की सरहद के करीब मौजूद रूसी सेना के टैंक्स और फाइटर जेट्स की सैटेलाइट इमेज।

पुतिन की जिद के आगे बाइडेन फेल
विवाद शांत करने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन से फोन पर बात की थी, जो बेनतीजा रही। बातचीत के दौरान बाइडेन ने पुतिन से युद्ध टालने की अपील की और चेतावनी भी दी कि अगर युद्ध हुआ तो रूस को करारा जवाब मिलेगा। वहीं, रूस ने अमेरिका को सनकी तक कह डाला।
बातचीत के कुछ देर बाद ही अमेरिका ने यूक्रेन स्थित अपने दूतावास को खाली करने का निर्देश भेज दिया। सुरक्षा अधिकारियों ने बताया कि दोनों शीर्ष नेताओं के बीच हालात स्थिरता को लेकर बात नहीं बन पाई है।

यूक्रेन में यहूदियों का इतिहास
यूक्रेन में यहूदियों का इतिहास एक हजार साल से अधिक पुराना है। उन्होंने हसीदवाद जैसी सबसे विशिष्ट आधुनिक यहूदी धार्मिक और सांस्कृतिक परंपराओं को विकसित किया है। जानकारी के अनुसार यूक्रेन में यहूदी समुदाय यूरोप में तीसरा सबसे बड़ा यहूदी समुदाय और दुनिया में पांचवां सबसे बड़ा है। समस-समय पर यहूदी समुदाय को उत्पीड़न और यहूदी विरोधी भेदभावपूर्ण नीतियों का सामना करना पड़ा।

खबरें और भी हैं...