जापान / 60 साल में सबसे ताकतवर तूफान 'हगिबीस' ने तबाही मचाई, अब तक 8 की मौत, 106 जख्मी; 42 लाख विस्थापित



टोक्यो में गुलाबी आसमान की तस्वीरें लोगों ने सोशल मीडिया पर शेयर कीं। टोक्यो में गुलाबी आसमान की तस्वीरें लोगों ने सोशल मीडिया पर शेयर कीं।
X
टोक्यो में गुलाबी आसमान की तस्वीरें लोगों ने सोशल मीडिया पर शेयर कीं।टोक्यो में गुलाबी आसमान की तस्वीरें लोगों ने सोशल मीडिया पर शेयर कीं।

  • इस तूफान को हगिबीस नाम फिलिपींस ने दिया, वहां की भाषा में इसका मतलब रफ्तार होता है
  • तूफान से पहले जापान के तटीय इलाकों में 180 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चलीं, घर-गाड़ियां उड़ीं
  • तूफान से पहले टोक्यो में आसमान का रंग गुलाबी और बैंगनी हुआ

Dainik Bhaskar

Oct 13, 2019, 08:32 AM IST

टोक्यो. जापान में 60 साल के सबसे ताकतवर तूफान 'हगिबीस' ने तबाही मचा दी है। शनिवार की शाम को तट से टकराने के बाद तेज हवाओं और भारी बारिश से बाढ़ के हालात बन गए हैं। 180 किमी/घंटे की रफ्तार से हवाओं और भारी बारिश से कई घरों को नुकसान पहुंचा है। तूफान के कारण अब तक 8 लोग जान गंवा चुके, जबकि 106 से ज्यादा जख्मी हैं। प्रशासन ने करीब 42 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया है। तूफान को 'हगिबीस' नाम फिलीपींस ने दिया है। वहां की भाषा में इसका अर्थ 'रफ्तार' होता है।

 

तूफान हगिबीस के चलते केंटो और शिजुओका इलाके में 2 लाख 12 हजार घरों में बिजली सप्लाई बाधित हो चुकी है। मौसम विभाग ने इबाराकी, तोचिगी, नीगाता, फुकुशिमा और मियागी के लिए बहुत भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। इधर टोमियोका शहर में भारी बारिश के बीच भूस्खलन से दो घर गिर गए हैं। जिनमें एक व्यक्ति की मौत हो गई।

 

बांध से पानी छोड़ने के बाद बाढ़ की चेतावनी

जलस्तर बढ़ने की वजह से जापान के सबसे बड़े बांध शिरोआमा से पानी छोड़ा जा रहा है। अधिकारियों ने चेतावनी दी है कि सागामी नदी और उसके आस-पास के इलाकों में बाढ़ के हालात बन सकते हैं। इसके बाद फुकुशिमा, तोचिगी, गुन्मा, साइतामा, चीबा, टोक्यो, कानागावा, यामानाशी, नगानो, शिजुओका और माई में करीब 8 लाख 13 हजार लोगों को तुरंत घर छोड़कर सुरक्षित स्थानों पर भेजने के आदेश दिए गए हैं।

 

तूफान के असर से गुलाबी हुआ आसमान

इससे पहले तूफान के असर से राजधानी टोक्यो का आसमान गुलाबी और बैंगनी हो गया। तूफान आने की पूर्व चेतावनी के तौर पर इस संकेत के नजर आने के साथ ही आंधी-बारिश ने तटीय इलाकों में तबाही मचाना शुरू कर दिया था।

 

जापान में 1958 में इसी तरह के तूफान से भारी तबाही हुई थी। तब 1200 लोग मारे गए थे और हजारों बेघर हो गए थे। तेज हवाओं से हुई तबाही के वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किए जा रहे हैं। हवाएं इतनी तेज हैं कि सड़क पर चलती कई गाड़ियां पलट गईं और अभी दो लोगों की मौत की खबर है। तूफान के चलते जापान के कई इलाकों में बाढ़ और भूस्खलन की आशंका है। तटीय इलाकों को खाली करा लिया गया है। टोक्यो के अलावा शिजोका, गुन्मा और चीबा से 50 हजार लोगों को तुरंत सुरक्षित स्थानों पर जाने को कहा गया है। वहीं जापान के दस प्रांतों से करीब 42 लाख लोगों को सुरक्षित जगह पहुंचाया गया। 

 

सभी हवाई और ट्रेन सेवाएं बंद की गईं

जापान में सभी हवाई सेवाओं को स्थगित कर दिया गया है। जापानी कंपनियों ने 1929 अंतरराष्ट्रीय और घरेलू उड़ानें रद्द कर दी हैं। रेल नेटवर्क को भी बंद कर दिया गया है। टोक्यो में सभी सिनेमाघर, शॉपिंग मॉल और कारखाने बंद कर दिए गए हैं। लोगों को घरों में रहने की सलाह दी गई है। इमरजेंसी सेवाओं को हाई अलर्ट पर रखा गया है।

 

रग्बी विश्व कप और ग्रांड प्री टली

जापान में रग्बी विश्व कप के सभी मैच रद्द कर खिलाड़ियों को वापस भेजा गया है। इसके अलावा फॉर्मूला वन रेस जापानी ग्रांड प्री को टाल दिया गया है। जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने लोगों से सतर्क रहने की अपील की है। इससे एक दिन पहले उन्होंने लोगों से खाने की चीजें और दवाइयां पास रखने को कहा था। इस बीच जापान के मौसम विभाग के हवाले से कहा गया है कि चीबा के दक्षिण-पूर्वी तट पर 5.7 तीव्रता का भूकंप आया है।

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना