पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चीनी दर्शकों ने हॉलीवुड से मुंह मोड़ा:अमेरिका से तनाव के चलते अरबों का घाटा, स्टूडियोज ने रोकी फिल्मों की लॉन्चिंग

7 महीने पहलेलेखक: न्यूयॉर्क से मोहम्मद अली
  • कॉपी लिंक
अमेरिका लगातार कोरोना वायरस फैलने के पीछे चीन को जिम्मेदार ठहराता रहा है। इससे चीनियों में राष्ट्रवादी भावना बढ़ गई है और उन्होंने हॉलीवुड का बॉयकॉट शुरू कर दिया है। - Dainik Bhaskar
अमेरिका लगातार कोरोना वायरस फैलने के पीछे चीन को जिम्मेदार ठहराता रहा है। इससे चीनियों में राष्ट्रवादी भावना बढ़ गई है और उन्होंने हॉलीवुड का बॉयकॉट शुरू कर दिया है।
  • हॉलीवुड घाटे से उबरने के लिए भारत जैसे बड़े बाजार में निवेश और विस्तार बढ़ा सकता है

अमेरिका-चीन की तनातनी और कोरोना ने दुनिया की सबसे बड़ी फिल्म इंडस्ट्री हॉलीवुड की बादशाहत को खतरे में डाल दिया है। 2020 में चीन के बॉक्स ऑफिस ने 22.5 हजार करोड़ रुपए जुटाए, जो अमेरिकी बॉक्स ऑफिस की कमाई से करीब 7,400 करोड़ रुपए अधिक है। दूसरी तरफ, चीन के बाजार में हॉलीवुड फिल्में बुरी तरह पिट रही हैं। इस कतार में वंडर वुमन 1984 और चीनी दर्शकों को टारगेट कर बनाई गई डिज्नी फिल्म ‘मुलान’ भी हैं। इससे हॉलीवुड को अरबों का घाटा हुआ है।

कोरोना और चीनी दर्शकों के अघोषित बॉयकाट को देखते हुए हॉलीवुड के टॉप स्टूडियोज ने फिलहाल दर्जनों फिल्मों की लॉन्चिंग टाल दी है। 2 अप्रैल को रिलीज होने वाली जेम्स बॉन्ड की फिल्म ‘नो टाइम टु डाइ’ अब अक्टूबर में आएगी। 100 से ज्यादा फिल्मों का प्रोडक्शन भी रुका पड़ा है।

दरअसल, हॉलीवुड के बॉक्स ऑफिस का 70% रेवेन्यू विदेश से आता है। इसमें भी चीनी बाजार का हिस्सा 50% है। उदाहरण के लिए हॉलीवुड ब्लॉकबस्टर एवेंजर्स: एंडगेम ने चीन में 32 हजार करोड़ रुपए की कमाई की थी। चर्चित फिल्म एनालिस्ट शॉन राबिन्स बताते हैं कि लॉकडाउन के बाद चीन ने सिनेमाघर खोल दिए और हॉलीवुड ने सिर्फ इस बाजार के भरोसे ही फिल्में लॉन्च कर दीं, जिससे उन्हें बड़ा घाटा उठाना पड़ा।

एनालिस्ट का मानना है कि चीनी दर्शकों की हॉलीवुड से दूरी बनाने के कई कारण हैं। इनमें अमेरिका द्वारा चीन को कोरोना के लिए जिम्मेदार ठहराना और दोनों देशों के बीच चल रहे जियोपाॅलिटिक्स तनाव ने भी चीनियों में राष्ट्रवादी भावना को बढ़ा दिया। राबिन्स कहते हैं कि ऐसे हालात में हॉलीवुड को भारत जैसे बड़े बाजार में विस्तार करना होगा। भारत में बॉक्स ऑफिस का सालाना क्लेक्शन 3.2 लाख करोड़ रुपए है।

‘हॉलीवुड मेड इन चाइना’ की लेखक एनी कोकास बताती हैं, ‘चीनी बॉयकाट’ से भविष्य में हॉलीवुड के बजट पर असर पड़ेगा। फिल्मों के बजट घटेंगे। सवाल यह है कि बड़े प्रोडक्शन हाउस चीनी दर्शकों के बिना फिल्में कैसे बना पाएंगे।

सेलिब्रिटी टीके के लिए रिश्वत देने को भी तैयार

हॉलीवुड सेलिब्रिटी कोरोना वैक्सीन के लिए 7 लाख रुपए तक रिश्वत की पेशकश कर रहे हैं। वे वैक्सीन पाने के लिए खुद को हेल्थ वर्कर्स की तरह पेश कर रहे हैं। कुछ लोग तो वैक्सीन के लिए हॉस्पिटल को दान देने की भी बात कर रहे हैं। डिज्नी टेलीविजन, सीबीएस स्टूडियोज, वॉर्नर ब्रदर्स टीवी, यूनिवर्सल टीवी और नेटफ्लिक्स जैसे स्टूडियोज के वर्कर्स बड़ी संख्या में कोरोना से जूझ रहे हैं। इनके कारण 100 से ज्यादा फिल्मों की शूटिंग अटकी पड़ी है।