अमेरिका / पहली बार नेल्सन मंडेला के बनाए स्कैच की नीलामी, कीमत 63 लाख रुपए



95 वर्षीय मंडेला का 6 दिसंबर, 2013 को निधन हो गया था। -फाइल 95 वर्षीय मंडेला का 6 दिसंबर, 2013 को निधन हो गया था। -फाइल
राष्ट्रपति पद से रिटायर होने के बाद मंडेला शौकिया तौर पर चित्रकारी करते थे। राष्ट्रपति पद से रिटायर होने के बाद मंडेला शौकिया तौर पर चित्रकारी करते थे।
मंडेला को ‘दक्षिण अफ्रीका का गांधी' कहा जाता है। -फाइल मंडेला को ‘दक्षिण अफ्रीका का गांधी' कहा जाता है। -फाइल
X
95 वर्षीय मंडेला का 6 दिसंबर, 2013 को निधन हो गया था। -फाइल95 वर्षीय मंडेला का 6 दिसंबर, 2013 को निधन हो गया था। -फाइल
राष्ट्रपति पद से रिटायर होने के बाद मंडेला शौकिया तौर पर चित्रकारी करते थे।राष्ट्रपति पद से रिटायर होने के बाद मंडेला शौकिया तौर पर चित्रकारी करते थे।
मंडेला को ‘दक्षिण अफ्रीका का गांधी' कहा जाता है। -फाइलमंडेला को ‘दक्षिण अफ्रीका का गांधी' कहा जाता है। -फाइल

  • नेल्सन मंडेला ने अपने जीवन के 27 साल अफ्रीका की जेल में बिताए थे
  • 1964 से 1982 तक उन्हें केपटाउन के रॉबेन आइलैंड पर रखा गया था
  • नीलामी में शामिल स्कैच का नाम ‘द सेल डोर, रॉबेन आईलैंड’ रखा गया

Dainik Bhaskar

Apr 30, 2019, 07:49 AM IST

वॉशिंगटन. दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला द्वारा बनाया गया स्कैच अगले महीने न्यूयॉर्क की प्रदर्शनी में रखा जाएगा। इसे 'द सेल डोर, रॉबेन आईलैंड' नाम दिया गया है। इसकी नीलामी 2 मई को होगी। स्कैच की कीमत करीब 63 लाख रुपए (90 हजार डॉलर) रखी गई है। इसमें अफ्रीका की रॉबेन आइलैंड में बनी जेल की एक सेल दिखाई गई है। मंडेला ने जेल में 27 बिताए। इनमें से 18 साल रॉबेन आईलैंड की जेल में गुजारे थे।

 

अफ्रीकन मॉडर्न ऑर्ट के डायरेक्टर गिलेस पेपिएट बताया कि हमारे पास 20वीं सदी के सबसे महान व्यक्ति के बनाए करीब 25 स्कैच मौजूद हैं। इनमें से एक पहली बार प्रदर्शनी में रखा जा रहा है और इसकी नीलामी भी होगी। राष्ट्रपति पद से रिटायर होने के बाद मंडेला शौकिया तौर पर चित्रकारी करते थे। अब तक यह स्कैच मंडेला की बेटी पुमला मकाजीवे के पास थे। पेपिएट के मुताबिक, नीलामी से मिली रकम मंडेला फाउंडेशन को दान कर दी जाएगी।

 

अफ्रीका में रंगभेद के खिलाफ आंदोलन छेड़ा था
मंडेला 1942 से ही राजनीति से जुड़ गए थे। 1944 में उन्होंने अफ्रीका में रंगभेद के खिलाफ आंदोलन चला रही अफ्रीकन नेशनल कांग्रेस की सदस्यता ली। इसके बाद मंडेला ने दोस्तों के साथ अफ्रीकन नेशनल कांग्रेस यूथ लीग की नींव रखी। 1961 में मंडेला और उनके साथियों के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा चला, लेकिन सभी निर्दोष साबित हुए।

 

मंडेला ने 27 साल जेल में गुजारे, पहले अश्वेत राष्ट्रपति बने
1962 में मजदूरों को हड़ताल के लिए उकसाने और बिना इजाजत देश छोड़ने के आरोप में मंडेला को गिरफ्तार कर लिया गया। उन पर मुकदमा चला और 12 जुलाई 1964 को उन्हें उम्रकैद की सजा सुनाई गई। 27 साल सजा काटने के बाद 1990 में रिहा हुए। इसके बाद 1993 में उन्हें नोबेल शांति पुरस्कार से नवाजा गया। 1994 में दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति चुनावों में नेल्सन मंडेला को जीत मिली। उन्होंने पहले अश्वेत राष्ट्रपति के तौर पर सरकार बनाई।

 

95 साल की उम्र में निधन हुआ

नेल्सन मंडेला का जन्म 18 जुलाई, 1918 को दक्षिण अफ्रीका की बासा नदी के किनारे एक गांव में हुआ था। पिता ने उन्हें रोहिल्लाहल्ला मंडेला नाम दिया था, जिसे स्कूल में टीचर ने बदलकर नेल्सन कर दिया। 6 दिसंबर, 2013 को 95 वर्षीय मंडेला का निधन हो गया था। उन्हें 'दक्षिण अफ्रीका का गांधी' कहा जाता है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना