पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कनाडा के स्कूल में मिलीं सैकड़ों कब्र:दशकों पुराने बोर्डिंग स्कूल में मिले 215 बच्चों के शव, PM ट्रूडो ने कहा- यह इतिहास की शर्मनाक याद, ठोस कार्रवाई करेंगे

टोरेंटो4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कैम्लूप्स इंडियन रेजिडेंशियल स्कूल   की बिल्डिंग के सामने समुदाय के लोगों ने बच्चों की याद में श्रद्धांजलि दी। - Dainik Bhaskar
कैम्लूप्स इंडियन रेजिडेंशियल स्कूल की बिल्डिंग के सामने समुदाय के लोगों ने बच्चों की याद में श्रद्धांजलि दी।

कनाडा के एक पुराने बोर्डिंग स्कूल के कैम्पस में दफन 215 बच्चों के शवों के अवशेष बरामद किए गए हैं। इनमें कुछ बच्चे तीन साल से भी कम उम्र के थे। हाल ही में इन्हें रडार मशीन की मदद से तलाशा गया। प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने इसे इतिहास की शर्मनाक यादों में से एक बताया है। उन्होंने इस पर ठोस कार्रवाई का वादा भी किया है।

दशकों पुराने एक बोर्डिंग स्कूल के परिसर में 215 आदिवासी समुदाय के बच्चों की कब्र मिली है। इनमें तीन साल के मासूम बच्चों के शवों के अवशेष भी है। इस पर प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने दुख जताया। उन्होंने कहा कि 'इसने मेरा दिल तोड़ दिया। ये हमारे इतिहास की शर्मनाक यादों में से एक है। इस खबर से प्रभावित सभी लोगों के बारे में सोच रहा हूं। हम आपके साथ हैं। इस मसले पर ठोस कार्रवाई करेंगे'

जिन बच्चों के शव पाए गए हैं, वे सभी 1978 में बंद हुए कैम्लूप्स इंडियन रेजिडेंशियल स्कूल के छात्र थे। यह कनाडा के सबसे बड़े बोर्डिंग स्कूलों में से एक था। यह 1890 से 1969 तक कैथोलिक चर्च के अंडर में था। इसके बाद कनाडा सरकार ने इसका संचालन अपने हाथों में ले लिया था।

यह तस्वीर साल 1937 की कनाडा के ब्रिटिश कोलम्बिया में स्थित कैम्लूप्स इंडियन रेजिडेंशियल स्कूल की है।
यह तस्वीर साल 1937 की कनाडा के ब्रिटिश कोलम्बिया में स्थित कैम्लूप्स इंडियन रेजिडेंशियल स्कूल की है।

क्या है पूरा मामला
ट्रूथ एंड रिकंसिलिएशन कमीशन ने पांच साल पहले स्कूल संस्थान में हुए बच्चों पर अत्याचार पर एक रिपोर्ट भी दी थी। इसमें बताया गया था कि अत्याचार और लापरवाही से 3,200 बच्चों की मौत हुई थी। इसमें कैम्लूप्स स्कूल में 1915 से 1963 के बीच 51 मौत हुई थीं। रिपोर्ट्स में इस तरह के बोर्डिंग स्कूल में 1.50 लाख बच्चों के शारीरिक उत्पीड़न, रेप, कुपोषण और अन्य अत्याचार की बात सामने आई थी। ऐसे बोर्डिंग स्कूल 1840 से 1990 के दशक तक ओटावा ईसाई चर्च संचालित करते थे।

कनाडा सरकार इस घटना पर माफी मांग चुकी
कनाडा सरकार ने 2008 में इस घटना के लिए माफी मांगी थी। फर्स्ट नेशन के प्रमुख, टेमलप्स टी क्वपेमसी ने कहा कि हम कोरोनर ऑफिस के साथ इस मसले पर काम कर रहे हैं। जिन समुदाय के बच्चे इस स्कूल में पढ़ते थे, उनके संपर्क में हैं। हम जल्द इसके नतीजे तक पहुंच जाएंगे। कैम्लूप्स शहर की चीफ ऑफ कम्युनिटी रोजने कासिमिरी का कहना है कि हम इसकी जांच करने में सक्षम हैं। हमें इसकी जानकारी थी। हमा