• Hindi News
  • International
  • Axel Springer | Media Company Axel Springer Removes Top Editor Of Bild After Bad Report On Workplace Behavior

खराब बर्ताव का खामियाजा:जर्मनी के सबसे बड़े अखबार बिल्ड के एडिटर इन चीफ हटाए गए, शिकायतों के बाद फौरन कार्रवाई

फ्रेंकफर्ट2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बिल्ड के एडिटर जूलियन रिशेल्ट (फाइल) - Dainik Bhaskar
बिल्ड के एडिटर जूलियन रिशेल्ट (फाइल)

यूरोप की सबसे बड़ी मीडिया कंपनी एक्सेल स्प्रिंगर ने अपने सबसे लोकप्रिय अखबार बिल्ड के एडिटर इन चीफ जूलियन रिशेल्ट को तुरंत प्रभाव से हटा दिया है। कंपनी ने एक बयान में माना कि जूलियन के खिलाफ ऑफिस में कर्मचारियों से खराब बर्ताव के गंभीर आरोप थे। बिल्ड जर्मनी का सबसे ज्यादा बिकने वाला अखबार है।

खुद मानी थी गलती
रिशेल्ट इस साल की शुरुआत में छुट्टी पर चले गए थे। तब उन पर कुछ गंभीर आरोप लगे थे। बाद में उन्होंने माना था कि उनका अफेयर ऑफिस की एक कर्मचारी के साथ है। हालांकि, जब इस मामले की जांच हुई तो पता लगा कि रिशेल्ट पर गलत कामों के जो आरोप लगाए गए हैं, वो गलत हैं और उन्होंने पद का दुरुपयोग नहीं किया है। इस मामले में जूलियन को क्लीन चिट मिल गई थी।

पॉलिटिको का भी मालिकाना हक
एक्सेल स्प्रिंगर ने इसी साल अगस्त में पॉलिटिको का मालिकाना हक भी खरीदा था। अब उसने एक बयान में माना है कि जूलियन के बर्ताव के बारे में नई जानकारियों सामने आई हैं। मैनेजमेंट ने वेबसाइट पर जारी बयान में कहा- हमारा मानना है कि जूलियन पर्सनल और प्रोफेश्नल लाइफ को बहुत साफ तरीके से अलग नहीं रख पाए। हमने उनके मामले में जांच पूरी कर ली थी। कुछ सच्चाई और सामने आई है। हालांकि, कंपनी के फैसले पर अब तक जूलियन की तरफ से कोई बयान सामने नहीं आया है।

रिशेल्ट के बारे में अमेरिकी अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स ने एक रिपोर्ट पब्लिश की थी। इसके बाद उनकी कंपनी को एक्शन लेने पर मजबूर होना पड़ा। हालांकि, पहली बार जब यह रिपोर्ट सामने आई थी तब रिशेल्ट ने आरोपों को खारिज कर दिया था।

ट्रेनी से संबंध
NYT ने रविवार को जारी रिपोर्ट में कहा था कि रिशेल्ट के ऑफिस की एक ट्रेनी से संबंध थे। उन पर आरोप थे कि उन्होंने उस ट्रेनी को आफिस के नजदीक एक होटल में बुलाया था और उसे सीक्रेट तौर पर पैसे भी दिए थे।

कंपनी ने साफ तौर पर कहा कि रिशेल्ट ने कंपनी के बोर्ड को गुमराह करने की कोशिश की और इस स्तर पर उनका बर्ताव बेहद गैर जिम्मेदाराना है। इसलिए उन्हें लीडरशिप के रोल में अब नहीं रखा जा सकता। 2015 में कंपनी ने बिजनेस इनसाइट को 442 मिलियन डॉलर जबकि पॉलिटिको को इसी साल 1 बिलियन डॉलर में खरीदा था।