पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मेहुल की मुश्किलें बढ़ीं:एंटीगुआ के सूचना मंत्री बोले- नागरिकता लेते वक्त चौकसी ने अपने खिलाफ केस की जानकारी नहीं दी, रद्द कर सकते हैं सिटिजनशिप

एंटीगुआ3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चौकसी को पिछले हफ्ते डोमिनिका की कोर्ट में पेश किया गया था। तब वो व्हीलचेयर पर नजर आया था। - Dainik Bhaskar
चौकसी को पिछले हफ्ते डोमिनिका की कोर्ट में पेश किया गया था। तब वो व्हीलचेयर पर नजर आया था।

पंजाब नेशनल बैंक (PNB) घोटाले के आरोपी मेहुल चौकसी की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। एंटीगुआ सरकार ने संकेत दिए हैं कि चौकसी की नागरिकता रद्द की जा सकती है। एंटीगुआ के इन्फॉर्मेशन मिनिस्टर के मुताबिक, चौकसी ने जब नागरिकता के लिए आवेदन किया था, तब उसके खिलाफ चल रहे किसी केस या जांच की जानकारी एजेंसियों के पास नहीं थी। इसके मायने ये हुए कि मेहुल ने भारत में अपने खिलाफ चल रहे केस की जानकारी एंटीगुआ सरकार को नहीं दी थी।

इस बीच, एंटीगुआन्यूजरूम वेबसाइट ने खबर दी है कि चौकसी डोमिनिका में बेल के लिए नई एप्लीकेशन लगा सकता है। हालांकि, इसकी सुनवाई कब और किन हालात में होगी, इसकी तस्वीर साफ नहीं है। चौकसी 23 मई को एंटीगुआ से कथित तौर पर भागकर डोमिनिका पहुंचा था। तब से वो वहां की पुलिस की हिरासत में है।

अब एंटीगुआ में भी जांच होगी
एंटीगुआ के इन्फॉर्मेशन मिनिस्टर मेलफोर्ड निकोलस ने मंगलवार शाम कहा- चौकसी ने जब नागरिकता के लिए ‌आवेदन दिया, तब उसका नाम किसी एजेंसी के सामने नहीं आया। यानी एजेंसियों को इस बात की जानकारी नहीं दी गई कि उसके खिलाफ कोई केस चल रहा है।

निकोलस ने आगे कहा- अब हम जानते हैं कि उसने फर्जी शपथपत्र दिया था और हम उसकी नागरिकता रद्द कर कते हैं। वो इसे कोर्ट में चैलेंज कर सकता है।

भारत के सामने पेशकश
चौकसी ने दो दिन पहले भारत के सामने एक नई पेशकश रखी। उसने कहा है कि भारतीय अधिकारी डोमिनिका आएं और अपनी जांच से जुड़े कोई भी सवाल पूछें। चौकसी ने दावा किया है कि उसने भारत सिर्फ इलाज के लिए छोड़ा था। वह कानून का पालन करने वाला नागरिक है। चौकसी ने ये बातें डोमिनिका हाईकोर्ट में भेजे अपने हलफनामे में कही हैं।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, चौकसी ने हलफनामे में कहा कि भारतीय अधिकारी मेरे खिलाफ किसी भी जांच के सिलसिले में सवाल कर सकते हैं। मैं उन्हें यहां आने और सवाल पूछने का ऑफर देता हूं। मैंने भारत में किसी एजेंसी से बचने की कोशिश नहीं की है। जब मैं अमेरिका में इलाज कराने के लिए भारत छोड़ रहा था, तब मेरे खिलाफ किसी भी एजेंसी द्वारा कोई भी वारंट नहीं जारी किया गया था।

डोमिनिका पहुंचने से पहले एंटीगुआ में रह रहा था चौकसी
मेहुल चौकसी एंटीगुआ की नागरिकता लेकर 2018 से वहीं रह रहा था, लेकिन 23 मई को अचानक वहां से लापता हो गया। इसके 2 दिन बाद वह डोमिनिका में पकड़ा गया था। इसके बाद उसे कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट ने उसे पुलिस हिरासत में हॉस्पिटल भेज दिया। उसने जमानत अर्जी लगाई है, लेकिन इस पर अंतिम सुनवाई टल रही है।