दुनिया की सबसे महंगी कार:1100 करोड़ रुपए में बिकी मर्सिडीज बेंज 300 SLR, साल 1955 में बनाए गए थे इसके दो मॉडल

लंदन3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

लग्जरी कारों की अगर बात की जाए तो सबसे पहले जबां पर मर्सिडीज बेंज का नाम आता है। इस जर्मन कार कंपनी की एक कार हाल ही में नीलाम हुई है। इसके बाद मर्सिडीज बेंज 300 SLR दुनिया की सबसे महंगी नीलाम होने वाली कार बन गई है। साल 1955 मॉडल की स्पोर्ट्स कार मर्सिडीज बेंज 300 SLR (Mercedes-Benz 300 SLR) एक प्राइवेट ऑक्शन में करीब 1100 करोड़ रुपए (143 मिलियन डॉलर) में नीलाम हुई है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस कार को एक अमेरिकन बिजनेसमैन डेविड मैकनील ने खरीदा है।

मर्सिडीज ने 300 SLR को 1955 में बनाकर तैयार किया गया था।
मर्सिडीज ने 300 SLR को 1955 में बनाकर तैयार किया गया था।
कंपनी ने Mercedes-Benz 300 SLR के दो मॉडल बनाए थे। तब से मर्सिडीज-बेंज ही इस कार की देख-रेख कर रही है।
कंपनी ने Mercedes-Benz 300 SLR के दो मॉडल बनाए थे। तब से मर्सिडीज-बेंज ही इस कार की देख-रेख कर रही है।
Mercedes-Benz 300 SLR अपने लुक्स और परफॉर्मेंस के कारण दुनिया की सबसे फेमस और महंगी क्लासिक कारों में शुमार है।
Mercedes-Benz 300 SLR अपने लुक्स और परफॉर्मेंस के कारण दुनिया की सबसे फेमस और महंगी क्लासिक कारों में शुमार है।
यह एक रेसिंग कार है। जिसके लुक्स काफी जबरदस्त हैं। इसमें 3.0-लीटर का इंजन है। इस कार की टॉप स्पीड 180 KM/H है।
यह एक रेसिंग कार है। जिसके लुक्स काफी जबरदस्त हैं। इसमें 3.0-लीटर का इंजन है। इस कार की टॉप स्पीड 180 KM/H है।
1956 में बनी इस सबसे महंगी बिकी मर्सिडीज बेंज 300 SLR को लोग प्यार से 'Mona Lisa Of Cars' भी कहते हैं।
1956 में बनी इस सबसे महंगी बिकी मर्सिडीज बेंज 300 SLR को लोग प्यार से 'Mona Lisa Of Cars' भी कहते हैं।
कंपनी ने नीलामी को सीक्रेट रखा था और केवल 10 लोगों को बुलाया गया था जो ऑटोमोबाइल फील्ड से जुड़े हुए थे।
कंपनी ने नीलामी को सीक्रेट रखा था और केवल 10 लोगों को बुलाया गया था जो ऑटोमोबाइल फील्ड से जुड़े हुए थे।
इसकी नीलामी जर्मनी के स्टटगार्ट स्थित मर्सिडीज-बेंज म्यूजियम में हुई।
इसकी नीलामी जर्मनी के स्टटगार्ट स्थित मर्सिडीज-बेंज म्यूजियम में हुई।
इस नीलामी ने फेरारी 250 GTO (Ferrari 250 GTO) के नीलामी के रिकॉर्ड को तोड़ दिया है, जो 542 करोड़ रुपए (70 मिलियन डॉलर) में बिकी थी।
इस नीलामी ने फेरारी 250 GTO (Ferrari 250 GTO) के नीलामी के रिकॉर्ड को तोड़ दिया है, जो 542 करोड़ रुपए (70 मिलियन डॉलर) में बिकी थी।