पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • International
  • Middle Class Numbers Plummeted Worldwide For The First Time Since The Nineties; Epidemic Affected

रिसर्च में खुलासा:नब्बे के दशक के बाद दुनियाभर में पहली बार मिडिल क्लास की संख्या घटी; महामारी ने किया प्रभावित

न्यूयॉर्क3 महीने पहलेलेखक: शॉन डोनन
  • कॉपी लिंक
प्यू रिसर्च सेंटर के शोधकर्ताओं ने पाया कि पिछले साल ऐसे लोग जिनकी दैनिक आमदनी 10 से 50 डॉलर (करीब 730 से 3,650 रुपए) थी, उनकी संख्या नौ करोड़ घटकर 250 करोड़ के आसपास रह गई। - Dainik Bhaskar
प्यू रिसर्च सेंटर के शोधकर्ताओं ने पाया कि पिछले साल ऐसे लोग जिनकी दैनिक आमदनी 10 से 50 डॉलर (करीब 730 से 3,650 रुपए) थी, उनकी संख्या नौ करोड़ घटकर 250 करोड़ के आसपास रह गई।

कोरोना के कारण बीते साल 1990 के दशक के बाद पहली बार दुनियाभर के मिडिल क्लास के लोगों की संख्या घटी है। विकासशील देशों के तकरीबन दो-तिहाई परिवारों ने माना है कि उन्हें आमदनी में नुकसान का सामना करना पड़ा है।

प्यू रिसर्च सेंटर के शोधकर्ताओं ने पाया कि पिछले साल ऐसे लोग जिनकी दैनिक आमदनी 10 से 50 डॉलर (करीब 730 से 3,650 रुपए) थी, उनकी संख्या नौ करोड़ घटकर 250 करोड़ के आसपास रह गई। रिसर्च के मुताबिक, ऐसे लोग जिनकी दैनिक आमदनी दो डॉलर (करीब 146 रुपए) से कम थी, उनकी संख्या 13.1 करोड़ बढ़ गई।

वहीं, ऐसे लोग जिनकी दैनिक आमदनी 50 डॉलर (3,650 रुपए या इससे अधिक) थी, ऐसे 6.2 करोड़ लोग मिडिल क्लास की श्रेणी में आ गए। इसका एक अर्थ यह भी है कि दुनियाभर में मिडिल क्लास के कुल 15 करोड़ लोग महामारी से प्रभावित हुए। यह आंकड़ा फ्रांस और जर्मनी की कुल आबादी से भी अधिक है। अध्ययन के लेखक राकेश कोचर कहते हैं कि आधुनिक इतिहास में इस तरह उदाहरण बहुत कम देखने को मिलते हैं, जब वैश्विक अर्थव्यवस्था में इतनी बड़ी गिरावट आई हो।

खबरें और भी हैं...