• Hindi News
  • International
  • Moderna Coronavirus Vaccine Trial Result Latest Updates | Moderna Covid Vaccine Is Safe And Effective For Children

टीके पर अच्छी खबर:मॉडर्ना का दावा- हमारी वैक्सीन 12 से 17 साल के बच्चों पर भी 100% कारगर, US में अप्रूवल के लिए अप्लाई करेगी

न्यूयॉर्क5 महीने पहले
मॉडर्ना ने फरवरी में अपनी वैक्सीन का किशोरों पर ट्रायल किया था। फोटो ह्यूस्टन की है, जहां एक टीनएजर को इसका टीका लगाया गया।
  • मॉडर्ना अगले साल भारत में सिंगल डोज कोविड वैक्सीन की 5 करोड़ डोज उतार सकती है

मॉडर्ना ने अपनी वैक्सीन के बच्चों पर हुए दूसरे और तीसरे चरण के ट्रायल के नतीजे घोषित किए हैं। कंपनी ने मंगलवार को बयान जारी कर बताया कि उसकी वैक्सीन बच्चों पर 100% प्रभावी और सुरक्षित पाई गई है। यह ट्रायल 12 से 17 साल के बच्चों पर किया गया था।

इस बीच मॉडर्ना से जुड़ी एक और अहम खबर यह भी है कि कंपनी अपनी सिंगल डोज कोविड वैक्सीन को अगले साल भारत में उतार सकती है। सूत्रों के मुताबिक, कंपनी भारत में वैक्सीन की 5 करोड़ डोज उतारने के लिए सिप्ला समेत देश की कई और दवा कंपनियों से बातचीत कर रही है।

मॉडर्ना ने ट्रायल में 3,732 बच्चों को शामिल किया
ट्रायल में 12 से 17 साल के 3,732 बच्चों को शामिल किया गया। इनमें 2,488 बच्चों को दोनों डोज लगाए गए। जिन बच्चो को वैक्सीन के दोनों डोज लगे थे, उनमे कोरोना के लक्षण सामने नहीं आए। नतीजे आने के बाद मॉडर्ना ने कहा कि वह अपनी वैक्सीन को बच्चों के लिए मंजूरी दिलवाने के लिए अमेरिका की रेगुलेटर बॉडी FDA के पास जून में अप्लाई करेगी।

बच्चों के लिए अमेरिका में दूसरी वैक्सीन होगी
अगर मॉडर्ना को मंजूरी मिल जाती है तो यह अमेरिका में किशोरों के लिए दूसरी वैक्सीन होगी। फेडरल रेगुलेटर्स ने इसी महीने 12 से 15 साल के बच्चों के लिए फाइजर-बायोएनटेक की वैक्सीन को मंजूरी दी है। फाइजर की वैक्सीन को शुरुआत में 16 और उससे ज्यादा उम्र के लोगों पर इस्तेमाल के लिए इजाजत दी गई थी। वहीं, मॉडर्ना की वैक्सीन 18 और उससे ज्यादा उम्र के लोगों को लगाई जा रही है।

न्यूयॉर्क के माउंट सिनाई हॉस्पिटल के वैक्सीन एक्सपर्ट क्रिस्टिन ओलिवर का कहना है कि मॉडर्ना के नतीजे बहुत आशा जगाने वाले दिखते हैं। किशोरों को कोविड से बचाने के लिए जितनी ज्यादा वैक्सीन हों उतना ही अच्छा होगा।

सबसे पहले फाइजर को मिली मंजूरी
बच्चों के लिए अप्रूवल पाने वाली दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन फाइजर की थी। कनाडा के ड्रग रेगुलेटर हेल्थ कनाडा ने 12 से 15 साल के बच्चों के लिए यह वैक्सीन लगाने की इजाजत दी थी। इससे पहले यह वैक्सीन 16 साल से ज्यादा उम्र वालों को लगाई जा रही थी। इसके बाद अमेरिका में भी इसे इजाजत मिल गई।

खबरें और भी हैं...