• Hindi News
  • International
  • More Than 30 Officers Including Officers, Mayor And Health Director Were Punished For Not Stopping The Delta Variant

कोरोना से निपटने का चीनी स्टाइल:डेल्टा वैरिएंट को नहीं रोक पाए अफसर, मेयर और हेल्थ डायरेक्टर समेत 30 से ज्यादा अफसरों को मिली सजा

बीजिंग9 महीने पहले

चीन में कोरोना का डेल्टा वैरिएंट तेजी से पांव पसार रहा है। पिछले 1 महीने से कम समय में ही 900 से ज्यादा केस सामने आने के बाद 30 से ज्यादा लापरवाह अधिकारियों को सजा दी गई है।

सरकारी मीडिया ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक, देशभर में 30 से अधिक अधिकारियों, महापौरों और हेल्थ डायरेक्टर्स को सरकार ने सजा दी है। इनके अलावा अस्पतालों और एयरपोर्ट डायरेक्टर को भी लापरवाही और स्थानीय स्तर पर फैले संक्रमण ​​​​के लिए जिम्मेदार मानते हुए सजा दी गई है।

ताजा मामले की शुरुआत माॅस्‍को से आई एक उड़ान के जरिए हुई
रिपोर्ट के मुताबिक, चीन में कोरोना के ताजा मामले की शुरुआत माॅस्‍को से आई एक उड़ान के जरिए हुई। मध्‍य जुलाई में चीन के पूर्वी शहर नानजिंग स्थित इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर माॅस्‍को से एक यात्री विमान उतरा था। इस विमान में सवार 7 लोग कोरोना के डेल्‍टा वेरिएंट से संक्रमित थे। इन यात्रियों से एयरपोर्ट की सफाई करने वालों में कोरोना वायरस फैल गया, जिसने धीरे-धीरे अन्य शहरों को भी अपनी चपेट में लेना शुरू कर दिया।

नानजिंग बना डेल्टा वैरिएंट का हॉटस्पॉट
पूर्वी चीन के यांगझोऊ में कोरोना संक्रमण की जांच में लापरवाही बरतने पर 5 अधिकारियों को चेतावनी दी गई है। इन्हें वायरस के फैलने के लिए जिम्मेदार बताया गया है। नए मामलों के बढ़ने के मामले में यांगझोऊ ने नानजिंग को पीछे छोड़ दिया है। नानजिंग ही वह शहर है जहां पहली बार कोरोना के डेल्टा वैरिएंट के मरीज मिलने शुरू हुए।

चीन के सबसे बड़े हॉटस्पॉट नानजिंग में सोमवार तक 308 मामलों की पुष्टि हुई है, जबकि 6 मरीज गंभीर रूप से बीमार हैं। बताया जा रहा है कि यदि यहां एक भी मरीज की जान गई तो 6 महीने में यह चीन में कोरोना से होने वाली पहली मौत होगी।

वुहान समेत 15 प्रांतों में फिर से फैल रही माहमारी
दिसंबर 2019 में पहली बार वुहान में उभरे कोरोना वायरस को कुचलने के बाद चीन एक बार फिर से गंभीर हालात की ओर बढ़ रहा है। बताया जा रहा है कि देश के 31 प्रांतों में से वुहान समेत आधे से अधिक प्रांत में कोरोना के मामले तेजी से फैल रहे हैं।

हालांकि चीन की विशाल आबादी के अधिकांश हिस्से को टीका लगाया जा चुका है, फिर भी अधिकारी वैक्सीनेशन पर भरोसा नहीं करने के बजाय वायरस को बाहर निकालने के लिए बड़े पैमाने पर परीक्षण और लॉकडाउन की नीति को लागू करने की तैयारी में हैं।

वुहान में केस बढ़े तो फिर घिरेगा चीन
वुहान में केस बढ़ने से चीन सबसे ज्यादा चिंता में है। दरअसल अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया जैसे देश बार-बार आरोप लगाते रहे हैं कि वुहान के लैब से ही चीन में कोरोना वायरस ने जन्म लिया और यह तेजी से बाकी के देशों में फैलता गया।

ऐसे में चीन कभी नहीं चाहेगा कि वुहान को लेकर फिर से वैश्विक स्तर पर पुरानी चर्चा शुरू हो। चीन ने वुहान में टेस्टिंग बढ़ा दी है। यहां अब तक 1.3 करोड़ लोगों की टेस्टिंग की गई है। इसे और तेजी से आगे बढ़ाया जा रहा है। वुहान में सोमवार को 2 केस सामने आए हैं।

हेनान में बाढ़ के बाद अब संक्रमण का खतरा
चीन का हेनान प्रांत जुलाई में आई भीषण बाढ़ से अभी उबरा भी नहीं था कि कोरोना के नए मामलों ने यहां के प्रशासन की चिंता बढ़ा दी है। बाढ़ की वजह से इस प्रांत में 300 से अधिक लोग मारे गए थे। यहां की राजधानी झेंगझोऊ में एक अस्पताल नए केस का हॉटस्पॉट बना हुआ है। अब यह अन्य क्षेत्रों में भी तेजी से फैल रहा है।

खबरें और भी हैं...