यूरोप में चौथी लहर:कोविड से आधी से अधिक मौतें यूरोप में हो रहीं, हर हफ्ते 20 लाख केस

6 दिन पहलेलेखक: नताशा फ्रोस्ट
  • कॉपी लिंक
तस्वीर जर्मनी के फ्रैंकफर्ट की है। देश में हर रोज 50 हजार से अधिक मामले आ रहे हैं। मामले बढ़ने और वैक्सीन नहीं लेने वाले लोगों पर सख्ती के बाद वैक्सीन सेंटर में बड़ी संख्या में भीड़ जुट रही है। - Dainik Bhaskar
तस्वीर जर्मनी के फ्रैंकफर्ट की है। देश में हर रोज 50 हजार से अधिक मामले आ रहे हैं। मामले बढ़ने और वैक्सीन नहीं लेने वाले लोगों पर सख्ती के बाद वैक्सीन सेंटर में बड़ी संख्या में भीड़ जुट रही है।
  • यूरोपीय देशों में पाबंदियों के खिलाफ प्रदर्शन, लोगों में नाराजगी चरम पर

यूरोप एक बार फिर दुनिया में कोरोना का केंद्र बन गया है। इस महीने दुनिया में कोरोना से हुई कुल मौतों में से आधी से अधिक यूरोपीय देशों में हुई है। यूरोप में हर हफ्ते 20 लाख से अधिक मामले आ रहे हैं। इस वायरस को रोकने के लिए यूरोपीय देश की सरकारें फिर से सख्त नियम लागू कर रही है। इस सख्ती के विरोध में प्रदर्शन भी हो रहे हैं।

ऑस्ट्रिया ने पूर्ण लॉकडाउन लगा दिया है। जर्मनी के स्वास्थ्य मंत्री जेन्स स्पैन ने चेताते हुए कहा कि इस साल के अंत तक जर्मनी के लोग या तो पूरी तरह वैक्सीनेटेड हो जाएंगे या ठीक हो जाएंगे या मर जाएंगे। केस बढ़ने के बाद बेल्जियम ने मास्क अनिवार्य कर दिया है। लोगों को घर से ही काम करने के निर्देश दिए हैं।

सख्त नियमों और वैक्सीन के लिए प्रेरित करने वाले सरकारी उपायों के विरोध में ऑस्ट्रिया, क्रोएशिया, बेल्जियम, डेनमार्क, इटली, नीदरलैड्स में प्रदर्शन हो रहे हैं। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि वे सार्वजनिक स्वास्थ्य के नाम पर सामान्य जीवन में दो साल की घुसपैठ से तंग आ चुके हैं। उधर, फ्रांस के प्रधानमंत्री जीन कास्टैक्स संक्रमण की चपेट में आ गए हैं। वे 10 दिन में घर में रहकर ही कामकाज देखेंगे। उधर, डब्ल्यूएचओ ने आशंका जताई है कि यूरोप में मार्च, 2022 तक कोरोना से कुल मौतों का आंकड़ा 20 लाख पहुंच सकता हैं।

यूरोपीय देश यात्रा नियमों का रिव्यू कर रहे, कई जगह मास्क अनिवार्य

जर्मनी: वैक्सीन अनिवार्य करने पर विचार चल रहा
जर्मनी में वैक्सीन अनिवार्य करने पर विचार किया जा रहा है। यहां वैक्सीन नहीं लेने वाले कामकाजी लोगों को हर रोज टेस्ट कराना होगा। मेट्रो-ट्रेन में भी रिपोर्ट दिखानी होगी। 68% वयस्क को दोनों डोज लग चुकी है। अन्य यूरोपीय देशों की तुलना में वैक्सीनेशन दर सबसे कम।

इटली: ब्रूस्टर डोज शुरू, 5 माह का अंतर जरूरी
इटली ने दोनों डोज ले चुके लोगों के लिए ब्रूस्टर डोज शुरू की है। दूसरी डोज लेने के 5 महीने बाद लोग बूस्टर डोज ले सकेंगे। इसके अलावा इटली ने नियम लाया है कि वैक्सीन नहीं लेने वाले लोगों को सरकारी स्वास्थ्य योजना का लाभ नहीं मिलेगा।

ब्रिटेन: शॉपिंग करने वालों को कराना होगा टेस्ट
ब्रिटेन में कोविड तेजी से पांव पसार रहा है। बीते 24 घंटे में करीब 45 हजार नए मामले आए हैं। क्रिसमस शॉपिंग कर लोगों के लिए कोविड टेस्ट कराना अनिवार्य कर दिया गया है। साथ ही ब्रिटेन जनवरी में वह यात्रा नियमों का भी रिव्यू करेगा।

ग्रीस: इनडोर जगहों पर वैक्सीन नहीं लेने वाले बैन
ग्रीस, चेक रिपब्लिकन व स्लोवाकिया में वैक्सीन नहीं लेने वाले लोग इनडोर स्थानों में नहीं जा सकेंगे। रेस्त्रां में भी प्रवेश मना है। स्लोवाकिया ने बिना टीकाकरण वाले लोगों के लिए लॉकडाउन लगा दिया है। यानी ये सार्वजनिक जगहों पर नहीं जा सकेंगे।

खबरें और भी हैं...