• Hindi News
  • International
  • Some Unexploded Bombs Were Also Recovered; 13 People Injured, The Area Sealed To Search For The Attacker

न्यूयॉर्क के ब्रुकलिन मेट्रो स्टेशन में गोलीबारी:हमलावर ने की 33 राउंड फायरिंग, 16 लोग जख्मी; शक के घेरे में आए एक शख्स की तस्वीर जारी

न्यूयॉर्क10 महीने पहले
गोलीबारी के बाद मेट्रो स्टेशन के फ्लोर पर पड़े लोग। इनमें से कई लोगों के पैर में गोली लगी है।

अमेरिका के न्यूयॉर्क में एक मेट्रो स्टेशन पर मंगलवार को हुई फायरिंग में 16 लोग घायल हो गए, जबकि तीन की हालत गंभीर है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, हमलावर ने 33 राउंड फायरिंग की, जिसमें 8 लोग घायल हो गए। बाकी भगदड़ या बम की वजह से जख्मी हुए।

न्यूयॉर्क पुलिस का कहना है कि इस मामले में 62 साल के फ्रैंक आर जेम्स की तलाश जारी है। फ्रैंक ने हाल ही में एक वैन किराए पर ली थी पुलिस को आशंका है कि यह वैन मेट्रो स्टेशन फायरिंग से जुड़ी हो सकती है। हालांकि उन्हें अभी तक इस मामले मे सस्पेक्ट नहीं माना गया है।

न्यूयॉर्क पुलिस मेट्रो स्टेशन फायरिंग मामले में 62 साल के फ्रैंक आर जेम्स की तलाश कर रही है। तस्वीर क्रेडिट- बीबीसी
न्यूयॉर्क पुलिस मेट्रो स्टेशन फायरिंग मामले में 62 साल के फ्रैंक आर जेम्स की तलाश कर रही है। तस्वीर क्रेडिट- बीबीसी

पुलिस के मुताबिक, फायरिंग करने वाला शख्स कंस्ट्रक्शन वर्कर जैसे कपड़े पहने था। न्यूयॉर्क पोस्ट के मुताबिक शख्स कुछ छोटे बम लेकर स्टेशन में घुसा था। उसके हाथ में गन भी थी। इलाका सील कर दिया गया है। कुछ रिपोर्ट्स में कहा गया है कि ब्रुकलिन स्टेशन की इस घटना के बाद वहां जब सर्च ऑपरेशन चलाया गया तो कुछ बिना फटे बम भी मिले।

कैसे हुई घटना?

फायरिंग में घायल होने के बाद जमीन पर पड़े लोग। एक व्यक्ति घायल के पैर में कपड़ा बांधकर खून रोकने की कोशिश करता दिखाई दे रहा है।
फायरिंग में घायल होने के बाद जमीन पर पड़े लोग। एक व्यक्ति घायल के पैर में कपड़ा बांधकर खून रोकने की कोशिश करता दिखाई दे रहा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, न्यूयॉर्क के सबअर्बन एरिया ब्रुकलिन में लोग रोज की तरह लोकल मेट्रो स्टेशन पर पहुंच रहे थे। यहां से ये लोग शहर के कई दूसरे हिस्सों तक पहुंचते हैं। इसके लिए मेट्रो स्टेशन पर एक ट्यूब एरिया है। यहां से तीन अलग रूट्स के लिए मेट्रो ट्रेन चलती हैं। सुबह करीब 8.30 बजे (अमेरिकी वक्त के मुताबिक) अचानक ब्लास्ट और चंद सेकेंड्स बाद फायरिंग की आवाज आई। इसके बाद अफरातफरी मच गई।

कंस्ट्रक्शन वर्कर्स की ड्रेस में दिखा हमलावार

शुरुआती रिपोर्ट्स में कहा गया है कि हमलावर की पीठ पर एक गैस सिलेंडर भी था और वो गैस मास्क भी पहने था। एक कैमिकल लिक्विड की बॉटल भी बरामद हुई है।
शुरुआती रिपोर्ट्स में कहा गया है कि हमलावर की पीठ पर एक गैस सिलेंडर भी था और वो गैस मास्क भी पहने था। एक कैमिकल लिक्विड की बॉटल भी बरामद हुई है।

कुछ चश्मदीदों का कहना है कि एक शख्स कंस्ट्रक्शन वर्कर्स (जो मेट्रो स्टेशन पर मेंटेनेंस का काम देखते हैं) की ड्रेस में दिखा। उसने एक थैला ट्रेन के करीब फेंका। उसके हाथ में गन भी थी। चंद मिनट बाद धुआं कम हुआ तो कई लोग प्लेटफॉर्म पर गिरे दिखे। इनके शरीर से खून बह रहा था।

घटना में ताइवान का एक नागरिक भी घायल हुआ है। उसे इमरजेंसी मेडिकल सर्विस ने ब्रुकलिन के एक हॉस्पिटल में एडमिट कराया है।
घटना में ताइवान का एक नागरिक भी घायल हुआ है। उसे इमरजेंसी मेडिकल सर्विस ने ब्रुकलिन के एक हॉस्पिटल में एडमिट कराया है।

ट्रेन सर्विस बंद
घटना के फौरन बाद इस स्टेशन से सभी ट्रेन सर्विसेज बंद कर दी गईं। जो ट्रेन जहां थी, उसे वहीं रोक दिया गया। न्यूयॉर्क पुलिस की कमांडो टीम ने स्टेशन को अपने कंट्रोल में ले लिया। एक चश्मदीद ने न्यूयॉर्क पोस्ट से कहा- पहले हमने बम धमाके जैसी आवाज सुनी। इसके बाद फायरिंग होने लगी। लोगों ने वहां छिपने की जगह तलाशी, लेकिन कई फायरिंग की चपेट में आ गए।

न्यूयॉर्क पुलिस की स्पेशल कमांडो टीम ने ब्रुकलिन स्टेशन को चारों तरफ से घेर लिया। अब तक हमलावर को नहीं पकड़ा जा सका है।
न्यूयॉर्क पुलिस की स्पेशल कमांडो टीम ने ब्रुकलिन स्टेशन को चारों तरफ से घेर लिया। अब तक हमलावर को नहीं पकड़ा जा सका है।

हमलावर कौन?

हमले के बाद स्टेशन पर मौजूद लोग परेशान नजर आए। पुलिस ने ज्यादातर पैसेंजर्स को सुरक्षित निकाल लिया। घायलों को अस्पताल ले जाया गया।
हमले के बाद स्टेशन पर मौजूद लोग परेशान नजर आए। पुलिस ने ज्यादातर पैसेंजर्स को सुरक्षित निकाल लिया। घायलों को अस्पताल ले जाया गया।

चश्मदीद ने आगे कहा- हमने एक अश्वेत हमलावर को देखा। उसकी लंबाई करीब 5 फीट 5 इंच रही होगी। वो ऑरेंज कलर का जम्प सूट पहने था। उसने चेहरे पर गैस मास्क भी लगाया हुआ था। उसकी पीठ पर एक सिलेंडर भी था। हम नहीं जानते, उसमें क्या था।

एक रिपोर्ट के मुताबिक, 2021 में जनवरी से अप्रैल के बीच गोलीबारी की 269 घटनाएं हुईं थीं। इस साल अब तक इसी दौरान 290 घटनाएं हुई हैं। इसकी वजह फ्री गन कल्चर है।
एक रिपोर्ट के मुताबिक, 2021 में जनवरी से अप्रैल के बीच गोलीबारी की 269 घटनाएं हुईं थीं। इस साल अब तक इसी दौरान 290 घटनाएं हुई हैं। इसकी वजह फ्री गन कल्चर है।
वॉशिंगटन पोस्ट के मुताबिक, जिस इलाके में फायरिंग हुई, वहां की ज्यादातर आबादी अश्वेत है। यहां सेंट्रल अमेरिका, प्यूर्टो रिको और इक्वेडोर के नागरिक रहते हैं।
वॉशिंगटन पोस्ट के मुताबिक, जिस इलाके में फायरिंग हुई, वहां की ज्यादातर आबादी अश्वेत है। यहां सेंट्रल अमेरिका, प्यूर्टो रिको और इक्वेडोर के नागरिक रहते हैं।