मिशन / चांद पर 2024 तक इंसान भेजने के लिए 11 कंपनियों में होड़, यान के 316 करोड़ रु. तक के मॉडल बनाए



एयरोजेट रॉकेटडाइन का मॉडल। एयरोजेट रॉकेटडाइन का मॉडल।
ब्लू ओरजिन का मॉडल। ब्लू ओरजिन का मॉडल।
बोइंग का मॉडल। बोइंग का मॉडल।
स्पेसएक्स का मॉडल। स्पेसएक्स का मॉडल।
डायनेस्टिक का मॉडल। डायनेस्टिक का मॉडल।
मास्टेन स्पेस सिस्टम्स का मॉडल। मास्टेन स्पेस सिस्टम्स का मॉडल।
नोथ्रोप ग्रूमन इनोवेशन सिस्टम्स का मॉडल। नोथ्रोप ग्रूमन इनोवेशन सिस्टम्स का मॉडल।
ऑर्बिट बियॉन्ड का मॉडल। ऑर्बिट बियॉन्ड का मॉडल।
सिएरा नेवादा कोर्पोरेशन का मॉडल। सिएरा नेवादा कोर्पोरेशन का मॉडल।
एसएसएल का मॉडल। एसएसएल का मॉडल।
लॉकहीड मार्टिन का मॉडल। लॉकहीड मार्टिन का मॉडल।
X
एयरोजेट रॉकेटडाइन का मॉडल।एयरोजेट रॉकेटडाइन का मॉडल।
ब्लू ओरजिन का मॉडल।ब्लू ओरजिन का मॉडल।
बोइंग का मॉडल।बोइंग का मॉडल।
स्पेसएक्स का मॉडल।स्पेसएक्स का मॉडल।
डायनेस्टिक का मॉडल।डायनेस्टिक का मॉडल।
मास्टेन स्पेस सिस्टम्स का मॉडल।मास्टेन स्पेस सिस्टम्स का मॉडल।
नोथ्रोप ग्रूमन इनोवेशन सिस्टम्स का मॉडल।नोथ्रोप ग्रूमन इनोवेशन सिस्टम्स का मॉडल।
ऑर्बिट बियॉन्ड का मॉडल।ऑर्बिट बियॉन्ड का मॉडल।
सिएरा नेवादा कोर्पोरेशन का मॉडल।सिएरा नेवादा कोर्पोरेशन का मॉडल।
एसएसएल का मॉडल।एसएसएल का मॉडल।
लॉकहीड मार्टिन का मॉडल।लॉकहीड मार्टिन का मॉडल।

  • नासा को स्पेसएक्स, बोइंग और ब्लू ओरिजिन जैसी प्रमुख कंपनियों से उम्मीद
  • कंपनी को मिशन के लिए कम से कम 20% फंड खुद लगाना होगा 

Dainik Bhaskar

May 20, 2019, 04:35 PM IST

वॉशिंगटन. चांद पर 2024 तक दोबारा इंसान भेजने के लिए नासा ने 11 कंपनियों को चुना है। अंतरिक्ष यात्री के तौर महिला भी हो सकती है। नासा के अनुसार, अगले 6 महीने में एयरोस्पेस इंजीनियरिंग की 11 कंपनियों में से किसी एक पार्टनर का चयन किया जाना है, ताकि मिशन के लिए जरूरी उपकरणों को डिजाइन किया जा सके। मिशन के तहत नासा की योजना स्पेस स्टेशन के स्ट्रक्चर (कैप्सूल) बनाने की है, जो गेटवे का काम करेगा। यह चांद की सतह पर लैंडिग की जगह खोजेगा। 

 

अगले कुछ सालों में चंद्रमा की निचली कक्षा में लॉन्च होने वाले कैप्सूल के निर्माण का काम शुरू होगा। नासा द्वारा चुनी गई कंपनियों का मुख्य फोकस आर्टमिस मिशन के लिए तीन अलग तरह के पुर्जे बनाने पर होगा। इसमें वह कैप्सूल भी होगा जिसमें एस्ट्रोनॉट्स चांद तक जाएंगे और वहां से वापस आएंगे।

 

पार्टनरशिप में हार्डवेयर के संचालन पर फोकस
नासा मुख्यालय में मानव-चांग अन्वेषण कार्यक्रमों के निदेशक मार्शल स्मिथ ने कहा, "चंद्रमा पर अपनी वापसी को हम गति दे रहे हैं। इससे हम अपने पारंपरिक तरीके से किए जाने काम को भी चुनौती दे रहे हैं। हम हार्डवेयर के विकास और उनके संचालन को पार्टनरशिप में व्यवस्थित करेंगे। हमारी टीम जितनी जल्दी हो सके, चांद पर दोबारा उतरने को बेताब है। पब्लिक/प्राइवेट पार्टनरशिप की यह टीम चांद की सतह पर मानव कदम को उतारने वाले सिस्टम का भी अध्ययन कर रही है।

 

20% फंड कंपनियों को लगाना है
कंपनियों ने चांद पर भेजे जाने वाले रॉकेट के मॉडल भी बनाए हैं। इनमें से एक रॉकेट की कीमत 316 करोड़ रुपए है। इसके साथ ही प्रत्येक कंपनी को कुल लागत का कम से कम 20% फंड खुद लगाना है। इस एक कदम से नासा की उम्मीद है कि भविष्य के मिशन पर लागत कम होगी, जिससे करदाताओं पर बोझ कम होगा।

 

इन 11 कंपनियों में से होगा चयन
1. एयरोजेट रॉकेटडाइन
2. ब्लू ओरिजिन
3. स्पेसएक्स
4. बोइंग
5. डायनेस्टिक
6. लॉकहीड मार्टिन
7. मास्टेन स्पेस सिस्टम्स
8. नोथ्रोप ग्रूमन इनोवेशन सिस्टम्स
9. ऑर्बिट बियॉन्ड
10. सियरा नेवादा कॉरपोरेशन
11. एसएसएल

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना