• Hindi News
  • International
  • Nepal Election Result Vote Counting 2022 Update; Bahadur Deuba Dadeldhura | Jhapa, Khagendra Adhikari

नेपाल चुनाव की मतगणना में देउबा की पार्टी को बढ़त:ओली को पछाड़कर नेपाली कांग्रेस ने काठमांडू समेत 3 सीटें जीतीं, भारत से रिश्ते रहे बड़ा चुनावी मुद्दा

काठमांडू9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

नेपाल में रविवार को मतदान की प्रक्रिया पूरी होने के बाद वोटों की गिनती कड़ी सुरक्षा के बीच शुरू हो चुकी है। इसमें नेपाली कांग्रेस ने अब तक 3 सीटें जीती हैं, जबकि CPN-UML केवल एक ही सीट पर जीत हासिल कर पाई है। चुनाव एक्सपर्ट्स ने फिर से त्रिशंकु संसद की आशंका जताई हैं।

नेपाली चुनाव आयोग के मुताबिक बहुप्रतीक्षित काठमांडू की सीट से नेपाल कांग्रेस के उम्मीदवार प्रकाश मान सिंह ने जीत हासिल की है। उन्होंने धुर दक्षिणपंथी राष्ट्रीय प्रजातंत्र पार्टी के रविंद्र मिश्रा को 129 वोटों से हराया है। नेपाल की सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी को मनाग औऱ मस्तांग इलाके में भी जीत मिली है। वहीं CPN-UML केवल ललितपुर की एक सीट ही जीत पाई है।

नेपाल निर्वाचन आयोग के मुताबिक, 22,000 से ज्यादा मतदान केंद्रों पर मतदान हुआ।
नेपाल निर्वाचन आयोग के मुताबिक, 22,000 से ज्यादा मतदान केंद्रों पर मतदान हुआ।

चुनाव के दौरान हिंसा में एक की हुई थी मौत

नेपाल में रविवार को आमचुनाव के लिए हुई वोटिंग में करीब 60% मतदान होने का अंदाजा है। वहीं, वोटिंग के दौरान हुई हिंसा में 1 शख्स की मौत हो गई थी। मुख्य मुकाबला वर्तमान प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा की नेपाली कांग्रेस और पूर्व प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली की नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के बीच है।

चुनाव में इस्तेमाल के लिए भारत ने दिए थे 80 वाहन

चुनाव में सहूलियत को लेकर भारत ने नेपाल को 80 वाहन इस्तेमाल के लिए दिए थे।

संसद और विधानसभा के लिए एक-साथ वोटिंग

नेपाल की संसद की कुल 275 सीटों और प्रांतीय विधानसभाओं की 550 सीटों के लिए वोटिंग हुई। 2015 में घोषित किए गए नए संविधान के बाद ये दूसरा चुनाव है। देश के 1 करोड़ 80 लाख से ज्यादा वोटर अपनी सरकार को चुनेंगे। इसके रिजल्ट एक हफ्ते में आने की उम्मीद है।

ओली ने चुनावी कैंपेन में उठाए भारतीय क्षेत्रों से जुड़े विवादित मुद्दे

केपी शर्मा ओली ने अपनी रैलियों में भारत-नेपाल के बीच चल रहे कालापानी क्षेत्रीय विवाद को उठाया। 2019 में नेपाली प्रधानमंत्री ने भारत सरकार के नए नक्‍शे पर आपत्ति जताते हुए दावा किया था कि नेपाल-भारत और तिब्‍बत के ट्राई जंक्‍शन पर स्थित कालापानी इलाका उसके क्षेत्र में आता है।

ओली सरकार के कार्यकाल में बढ़ा भारत-नेपाल तनाव

ओली का कहना है कि प्रधानमंत्री बनते ही वो भारत के साथ सीमा विवाद हल कर देंगे। वे देश की एक इंच भूमि भी जाने नहीं देंगे। हालांकि, एक्सपर्ट्स का कहना है कि 2 साल से ज्यादा सत्ता में रहने के बावजूद ओली ने इस विवाद को हल करने के लिए कोई प्रयास नहीं किया। बतौर PM ओली ने कालापानी, लिपुलेख और लिम्पियाधुरा को नेपाल में दर्शाता हुआ नया मैप जारी किया था। भारत इन्हें अपने उत्तराखंड प्रांत का हिस्सा मानता है। ओली ने इस नक्शे को नेपाली संसद में पास भी करा लिया था।

ओली राष्ट्रवादी मुद्दों को उछाल कर स्विंग वोटरों को अपने पक्ष में साधने में जुटे रहे।
ओली राष्ट्रवादी मुद्दों को उछाल कर स्विंग वोटरों को अपने पक्ष में साधने में जुटे रहे।

PM देउबा भारत के साथ बातचीत से विवाद सुलझाने के पक्ष में

नेपाली कांग्रेस के मुखिया और वर्तमान प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा ने कहा कि उकसाने और शब्दों की लड़ाई की बजाय वो भारत के साथ कूटनीति और बातचीत के जरिए विवाद सुलझाने की कोशिश कर रहे हैं।