• Hindi News
  • International
  • Nepal Government Said Strict Action Will Be Taken If Narendra Modi's Effigy Is Burnt, Differences With Neighboring Country Will Be Resolved Through Talks

भारत विरोधी प्रदर्शन पर नेपाल की चेतावनी:सरकार ने अपने लोगों से कहा- किसी ने पड़ोसी देश के खिलाफ प्रोटेस्ट किया या पुतला जलाया तो सख्त कार्रवाई होगी

काठमांडूएक महीने पहले

नेपाल की शेर बहादुर देउबा सरकार ने साफ कर दिया है कि किसी भी विरोध प्रदर्शन के दौरान भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पुतला जलाया गया या भारत के सम्मान के खिलाफ नारेबाजी हुई तो सख्त कार्रवाई की जाएगी। रविवार को जारी बयान में साफ तौर पर कहा गया है कि नेपाल सरकार अपने सभी पड़ोसियों से करीबी और मजबूत रिश्ते चाहती है और अगर कहीं मतभेद या विवाद होते हैं तो इन्हें डिप्लोमैटिक लेवल पर बातचीत के जरिए सुलझाया जाएगा।

पिछले दिनों नेपाल के धाराचूला क्षेत्र से एक युवक तार के सहारे नदी पार कर भारत में प्रवेश कर रहा था। तार टूट गया और युवक नदी में बह गया। नेपाल में कुछ भारत विरोधी संगठनों का आरोप है कि भारत की तरफ से किसी ने तार काट दिया था। इसकी वजह से युवक नदी में गिर गया और उसकी मौत हो गई।

मुश्किल में नेपाल सरकार
धाराचूला की घटना के बाद नेपाल में कुछ भारत विरोधी संगठनों और खासकर वामपंथी संगठनों ने प्रदर्शन किए थे। इस दौरान मोदी का पुतला जलाया गया था। संगठनों का आरोप है कि यह तार भारत के एक सीमा सशस्त्र बल के जवान ने काटे थे। वामपंथी संगठनों ने लोगों को भारत के खिलाफ भड़काने की भी कोशिश की थी। इसके बाद मोदी का पुतला जलाया गया था।

इस घटना के बाद नेपाल सरकार मुश्किल में आ गई थी। वो ये नहीं समझ पा रही थी कि भारत से बातचीत कर इस मामले को सुलझाया जाए या फिर विरोध करने लोगों पर कार्रवाई की जाए। पिछले कुछ दिनों से नेपाल में कुछ लोग इस मामले को उछालने का प्रयास कर रहे थे।

तीन दिन में दूसरी वॉर्निंग
नेपाल की होम मिनिस्ट्री ने तीन दिन में दूसरी बार विरोध प्रदर्शन करने वालों को सख्त चेतावनी दी है। इसमें कहा गया है कि अगर पड़ोसी देश के प्रधानमंत्री का पुतला जलाया गया तो संबंधित लोगों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। खास बात यह है कि बयान में भारत या भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम नहीं लिया गया है, लेकिन चूंकि यह युवक की मौत का मामला साफ तौर पर भारत से जुड़ा था, लिहाजा इसे भारत और मोदी के संदर्भ में ही समझा गया।

धाराचूला की घटना 30 जुलाई को हुई थी। मारे गए युवक का नाम जय सिंह धामी था। नेपाल सरकार ने कहा था कि वह इस मामले को भारत के सामने उठाएंगे। 31 अगस्त को भारत के विदेश मंत्रालय ने साफ कर दिया था कि इस तरह की किसी घटना के बारे में उसे जानकारी नहीं है। पिछले हफ्ते ‘कांतिपुर टाइम्स’ ने एक रिपोर्ट में कहा था कि नेपाल के एयरस्पेस में भारत के कई मिलिट्री हेलिकॉप्टर लगातार उड़ते देखे जा सकते हैं। नेपाल सरकार ने ये भी साफ कर दिया है कि देश में भारत द्वारा चलाए जा रहे डेवलपमेंट प्रोजेक्ट्स के बारे में अफवाह या निगेटिव कमेंट्स करने वालों के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...