पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नेपाल की सियासत:सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को नोटिस जारी किया, पूछा- संसद भंग क्यों की गई थी- 15 दिन में जवाब दें

काठमांडू12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नेपाल के प्रधानमंत्री का अपनी ही पार्टी में विरोध हो रहा था। उनकी पार्टी में विभाजन हो चुका है। (फाइल) - Dainik Bhaskar
नेपाल के प्रधानमंत्री का अपनी ही पार्टी में विरोध हो रहा था। उनकी पार्टी में विभाजन हो चुका है। (फाइल)

नेपाल के सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और कैबिनेट को शोकॉज नोटिस जारी किया है। इसमें पूछा गया है कि 22 मई को संसद भंग करने का आदेश किस आधार पर दिया गया। नोटिस का जवाब 15 दिन में मांगा गया है। नेपाल में केपी शर्मा ओली केयरटेकर प्राइम मिनिस्टर हैं। ओली की नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी में दो धड़े हो चुके हैं। नेपाल में 12 और 19 नवंबर को चुनाव होने हैं।

पांच सदस्यीय बेंच ने की सुनवाई
नेपाल में संसद भंग किए जाने और नए चुनाव को लेकर सियासी पार्टियों में एक राय नहीं है। इस मामले से जुड़े मुद्दों पर कुल 30 याचिकाएं सुप्रीम कोर्ट में दायर की गईं थीं। इस मामले की सुनवाई भी टलती जा रही थी। बुधवार को चीफ जस्टिस चोलेन्द्र शमशेर राना की अगुआई वाली पांच सदस्यीय बेंच ने सुनवाई शुरू की। इसके बाद नोटिस जारी किए गए। कोर्ट ने सुनवाई के लिए देश के दो सीनियर एडवोकेट्स की भी मदद ली है।

राजनीतिक अस्थिरता भारी पड़ रही
नेपाल में कोविड-19 पर काबू नहीं पाया जा सका है। लेकिन, इसका कोई असर नेताओं पर नहीं पड़ रहा। ओली के प्रधानमंत्री बनते ही यह संकट शुरू हो गया था। पिछले साल 20 दिसंबर को भी संसद भंग करने की सिफारिश हुई थी। इसके बाद जैसे-तैसे सरकार चली और अब नवंबर में चुनाव का ऐलान कर दिया गया है।

13 साल में 11 प्रधानमंत्री बने

  • 28 मई 2008: नेपाली कांग्रेस से गिरिजा प्रसाद कोइराला प्रधानमंत्री बने। वे 82 दिन तक पद रहे।
  • 28 अगस्त 2008: एकीकृत नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के पुष्प कम दाहाल प्रधानमंत्री बने। वे 25 मई 2009 तक इस पद पर रहे।
  • 25 मई 2009: CPNUML माधव कुमार नेपाल प्रधानमंत्री रहे। वे 6 फरवरी 2011 तक इस पद पर रहे।
  • 6 फरवरी 2011: CPNUML झलनाथ खनाल प्रधानमंत्री बने। वे 29 अगस्त 2011 तक इस पद पर रहे।
  • 29 अगस्त 2011: एकीकृत नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) बाबुराम भट्टराई प्रधानमंत्री बने। वे 14 मार्च 2013 तक इस पद पर रहे।
  • 14 मार्च 2013: खिलराज रेग्मी प्रधानमंत्री बने। 10 फरवरी 2014 तक इस पद पर रहे।
  • 11 फरवरी 2014: नेपाली कांग्रेस के सुशील कोइराला प्रधानमंत्री बने। वे 10 अक्टूबर 2015 तक इस पद पर रहे।
  • 11 अक्टूबर 2015: CPNUML खड़ग प्रसाद शर्मा ओली प्रधानमंत्री बने। वे 24 जुलाई 2016 तक इस पद पर रहे।
  • 4 अगस्त 2016: एकीकृत नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी(माओवादी) के पुष्प कमल दाहाल प्रधानमंत्री बने। वे 31 मई 2017 तक इस पद पर रहे।
  • 7 जून 2017: शेर बहादुर देउवा प्रधानमंत्री बने। वे 15 फरवरी 2018 तक इस पद पर रहे।
  • 15 फरवरी 2018: खड़ग प्रसाद शर्मा ओली फिर से प्रधानमंत्री बने। 22 मई 2021 को राष्ट्रपति ने अपनी शक्तियों का उपयोग कर संसद भंग कर नवंबर में चुनाव कराने की ऐलान किया है।

2015 में लागू हुआ नया संविधान

2006 में राजा ज्ञानेंद्र ने सत्ता की सारी शक्तियां निर्वासित प्रतिनिधियों की सौंपने की अनुमति दी थी। इसके बाद सभी दलों ने मिलकर अंतरिम सरकार बना ली। इसी सरकार को यहां के संविधान का निर्माण करना था। इस दौरान नेपाल का अंतरिम संविधान बनाया गया। हालांकि, कुछ पहलू पर विवाद होने के बाद लोगों ने इसे स्वीकार नहीं किया। इसके बाद नेपाल में 20 सितंबर 2015 को नया संविधान लागू किया गया। इसे दूसरी संविधान सभा ने तैयार किया था। इससे पहले नेपाल दुनिया का एकमात्र हिंदू राष्ट्र था। वर्तमान में नेपाल धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र है। यहां सभी को इच्छा से किसी भी धर्म को पालन करने की आजादी दी गई है। सभी को साथ चलने की बात इस संविधान में कही गई।

खबरें और भी हैं...