नए किंग चार्ल्स की फोटो वाले सिक्के तैयार:5 पाउंड-50 पेंस के सिक्कों पर लगाई गई फोटो, दूसरी ओर एलिजाबेथ II की तस्वीर भी रहेगी

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ब्रिटेन में अब किंग चार्ल्स की फोटो वाले सिक्के और नोट चलेंगे। रॉयल मिंट ने किंग चार्ल्स III की तस्वीर के साथ नए सिक्के की फोटो शेयर की है। अभी तक देश में चलने वाले सिक्कों और नोटों में महारानी एलिजाबेथ II का चेहरा है। उनके निधन के बाद अब कई शाही प्रतीक बदले जा रहे हैं।

नए सम्राट की तस्वीर सबसे पहले 5 पाउंड और 50 पेंस के सिक्कों पर लगाई गई है। खास बात तो ये है कि सिक्के के दूसरी तरफ क्वीन एलिजाबेथ II तस्वीर होगी। सिक्के के एक तरफ महारानी की फोटो रखने का फैसला शाही परंपरा के मुताबिक किया गया है।

रॉयल मिंट ने किंग चार्ल्स III के चेहरे वाले 5 पाउंड और 50 पेंस के सिक्कों की ये तस्वीर शेयर की है। ये जल्द चलन में आ सकते हैं।
रॉयल मिंट ने किंग चार्ल्स III के चेहरे वाले 5 पाउंड और 50 पेंस के सिक्कों की ये तस्वीर शेयर की है। ये जल्द चलन में आ सकते हैं।

लेफ्ट फेसिंग है किंग चार्ल्स की तस्वीर
करंसी पर कौन सी तस्वीर लगाई जाए, ये किंग चार्ल्स ने खुद तय किया है। उन्होंने लेफ्ट फेसिंग फोटो इस्तेमाल करने पर सहमति जताई। रॉयल मिंट ने बताया कि डिजाइनर मार्टिन जेनिंग्स ने इन सिक्कों को बनाया है। मूर्तिकार मार्टिन ने कहा- मैंने यह काम किया है और मुझे खुशी है कि यह सिक्के अब सदियों तक चलेंगे।

शाही परंपरा के मुताबिक, सिक्के पर तस्वीर बदली जाती है तो नए राजा या रानी का चेहरा पिछले राजा या रानी के चेहरे के अपोजिट यानी दूसरी तरफ होता है। क्वीन एलिजाबेथ का चेहरा राइट फेसिंग था।
शाही परंपरा के मुताबिक, सिक्के पर तस्वीर बदली जाती है तो नए राजा या रानी का चेहरा पिछले राजा या रानी के चेहरे के अपोजिट यानी दूसरी तरफ होता है। क्वीन एलिजाबेथ का चेहरा राइट फेसिंग था।

सर्कुलेशन के मामले में दिक्कत होगी
रिपोर्ट्स के मुताबिक, ये सिक्के क्रिसमस तक इस्तेमाल में आ जाएंगे। हालांकि, कैम्ब्रिज जज बिजनेस स्कूल के मूरो एफ गुलियन का मानना है कि महारानी की तस्वीर वाली करंसी को सर्कुलेशन से बाहर करने में दो से चार साल लग सकते हैं। नोट की तुलना में सिक्कों को रिप्लेस करना महंगा पड़ेगा।

महारानी का चेहरा लगाए जाने की आलोचना हुई थी
1952 में जब महारानी सिंहासन में बैठी थीं, तब सिक्कों या नोटों पर उनकी तस्वीर नहीं थी। 1960 में पहली बार डिजाइनर रॉबर्ट ऑस्टिन ने नोटों में एलिजाबेथ II का चेहरा लगाया था। इसके बाद कई लोगों ने महारानी का चेहरा लगाए जाने की आलोचना भी की थी।

10 और देशों में चलते हैं ब्रिटेन के सिक्के
महारानी एलिजाबेथ II का सिक्का ब्रिटेन के पाउंड के अलावा 10 और देशों में चलता है। कनाडा में कई ऐसे नोट आज भी चलते हैं, जिनमें महारानी की फोटो है। इसके अलावा ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, फिजियन सहित कई देशों के कुछ नोटों में महारानी का चेहरा इस्तेमाल किया जाता है। धीरे-धीरे इन देशों के सिक्के और नोटों में भी बदलाव हो सकता है।

कनाडा में कई ऐसे नोट आज भी चलते हैं, जिनमे महारानी एलिजाबेथ की फोटो है।
कनाडा में कई ऐसे नोट आज भी चलते हैं, जिनमे महारानी एलिजाबेथ की फोटो है।

राष्ट्रगान में भी हुआ बदलाव
किसी भी देश के राष्ट्रगान यानी नेशनल एंथम में उस देश की विशेषताओं की बात कही जाती है। ब्रिटेन के राष्ट्रगान में महारानी का जिक्र किया गया था। राष्ट्रगान में लिखा गया था- गॉड सेव अवर गॉर्जियस क्वीन यानी भगवान हमारी दयालु रानी की रक्षा करें…

अब महारानी के निधन के बाद इसे भी चेंज कर दिया गया है। राष्ट्रगान में बदलाव करके इसे- गॉड सेव द किंग यानी भगवान हमारे राजा की रक्षा करें… कर दिया गया है।

स्टाम्प से लेकर मसालों तक क्वीन या राजशाही के प्रतीक, आखिर क्या-क्या बदलेगा ब्रिटेन

ब्रिटेन में जहां भी जाइए, क्वीन एलिजाबेथ से जुड़े प्रतीक आपको हर जगह मिल जाएंगे। पांच पाउंड के नोट हों, या कांसे के बने एक पाउंड के सिक्के। पोस्ट बॉक्स हों, या स्टाम्प। यहां तक कि जार और जैकेट्स पर भी आपको क्वीन एलिजाबेथ की तस्वीर या राजशाही के प्रतीक मिल जाएंगे। 8 सितंबर को क्वीन एलिजाबेथ का निधन हुआ। सवाल यह उठ रहा है कि ब्रिटेन क्वीन से जुड़े प्रतीकों को कैसे और कब तक बदल पाएगा? इसका सही जवाब मिलना आसान नहीं है। शायद वक्त के साथ तस्वीर साफ हो। पढ़ें पूरी खबर...