• Hindi News
  • International
  • Nobel Peace Prize 2022; Two Indians In The Race Of Peace Prize | Mohammed Zubair And Pratik Sinha

नोबेल शांति पुरस्कार की दौड़ में दो भारतीय भी:फैक्ट चेकर प्रतीक-जुबैर को मिल सकता है पीस प्राइज; 7 अक्टूबर को ऐलान होगा

वॉशिंगटन/ओस्लो4 महीने पहले

नोबेल प्राइज वीक 2022 जारी है। 7 अक्टूबर को नोबेल पीस प्राइज यानी नोबेल शांति पुरस्कार का ऐलान होगा। ‘टाइम मैगजीन’ के मुताबिक, शांति पुरस्कार के लिए जिन लोगों या संस्थाओं के नाम रेस में हैं, उनमें दो भारतीय नागरिक भी हैं। ये दोनों फैक्ट चेक वेबसाइट चलाते हैं। इनके नाम हैं प्रतीक सिन्हा और मोहम्मद जुबैर।

पीस प्राइज के विनर का सिलेक्शन नॉर्वे के पांच लोगों की कमेटी करती है। इस सिलेक्शन कमेटी को नॉर्वे की पार्लियामेंट अपॉइंट करती है। ये पुरस्कार भी नॉर्वे की राजधानी ओस्लो में प्रदान किया जाता है। बाकी पांच नोबेल प्राइज स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम में प्रदान किए जाते हैं।

इस बार नॉर्वे के सांसदों ने कुछ नॉमिनेशन्स की जानकारी दी है। ओस्लो पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट के डायरेक्टर ने भी कुछ नाम शॉर्टलिस्ट किए हैं।

टाइम ने प्रतीक और जुबैर पर क्या लिखा
‘टाइम मैगजीन’ के मुताबिक- सिन्हा और जुबैर भारत की एक फैक्ट चेकिंग वेबसाइट के को-फाउंडर हैं और गलत सूचनाओं के खिलाफ संघर्ष करते रहे हैं। उन्होंने अफवाहों और सोशल मीडिया पर फेक न्यूज के अलावा हेट स्पीच के खिलाफ भी जंग छेड़ रखी है। जुबैर को 2018 में किए गए आपत्तिजनक ट्वीट के आरोप में इसी साल जून में गिरफ्तार किया गया था। इसका काफी विरोध हुआ था। इसे प्रेस फ्रीडम के खिलाफ बताया गया था। सुप्रीम कोर्ट ने जुलाई में जुबैर को जमानत दी और उनकी रिहाई हो गई।

और कौन है रेस में
एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, पीस प्राइस की रेस में कुल 343 व्यक्ति और संस्थाएं हैं। इनमें 251 इंडिविजुअल्स और 92 ऑर्गनाइजेशन्स हैं। नोबेल कमेटी ऑफिशियली नॉमिनीज के नाम अनाउंस नहीं करती।

न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के एक सर्वे के मुताबिक, बेलारूस की विपक्षी नेता स्वेतलाना, ब्रॉडकास्टर डेविडन एटनबोरो, क्लाईमेट एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग, पोप फ्रांसिस, तुवालू के फॉरेन मिनिस्टर सिमॉन कोफे और म्यांमार की नेशनल यूनिटी गवर्नमेंट भी पीस प्राइज के नॉमिनीज में शामिल हैं। यह जानकारी नॉर्वे के सांसदों के हवाले से दी गई है।

यूक्रेन के राष्ट्रपति वोल्दोमिर जेलेंस्की, UN रिफ्यूजी एजेंसी, WHO और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन के विरोधी नेता एलेक्सी नेवल्नी भी इस रेस में शामिल हैं।

अब तक तीन कैटेगरीज के विजेता घोषित

  • बुधवार को केमिस्ट्री के नोबेल प्राइज का ऐलान किया गया। यह पुरस्कार तीन वैज्ञानिकों को दिया जा रहा है। इनके नाम हैं- कैरोलिन बेट्रोजी (अमेरिका), मोर्टन मेल्डेल (डेनमार्क) और बेरी शार्पलेस (अमेरिका)।
  • मंगलवार को फिजिक्स के नोबेल का ऐलान किया गया था। फिजिक्स का नोबेल तीन वैज्ञानिकों को दिया गया है। ये हैं- एलेन आस्पेक्ट, जॉन एफ क्लॉसर और एंटन जेलिंगर। एलेन आस्पेक्ट फ्रांस से ताल्लुक रखते हैं। वो पेरिस और स्केले यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर हैं। जॉन एफ क्लॉसर अमेरिकी रिसर्चर और प्रोफेसर हैं। एंटन जेलिंगर ऑस्ट्रिया की विएना यूनिवर्सिटी में फिजिक्स के हेड ऑफ द डिपार्टमेंट और रिसर्चर हैं।
  • सोमवार को मेडिसिन का नोबेल स्वीडन के सावन्ते पाबो को दिए जाने का ऐलान हुआ था।
  • इस सप्ताह सिर्फ पुरस्कार जीतने वाले व्यक्ति या संस्थान के नामों का ऐलान होगा। दिसंबर में इन्हें प्राइज दिए जाएंगे। कोविड की वजह से 2020 और 2021 के विजेता स्टॉकहोम नहीं पहुंच पाए थे। कमेटी ने इस बार इन दो साल के विजेताओं को भी स्टॉकहोम इनवाइट किया है।