यूक्रेनी बच्चों की मदद को नोबेल नीलाम:इससे रूसी पत्रकार ने 10.35 करोड़ डॉलर जुटाए, पीड़ितों की मदद की भी अपील

मॉस्को12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

यूक्रेन में रूसी सेना ने तबाही का वो मंजर बरपाया है कि करोड़ों लोगों को अपना घर छोड़कर पलायन के लिए मजबूर होना पड़ा है। इनमें बड़ी संख्या में बच्चे भी शामिल हैं। इन बच्चों की मदद के लिए दुनिया भर से सहायता राशि जुटाई जा रही है। इस बीच रूस के इंडिपेंडेंट न्यूज पेपर ''नोवाया गजेटा'' के एडिटर इन चीफ दिमित्री मुराटोव ने भी यूक्रेनी बच्चों की मदद के लिए अपने नोबेल प्राइज निलाम कर दिया है।

नोबेल प्राइज की निलामी के लिए न्यूयॉर्क में हेरिटेज ऑक्शन ने एक इवेंट आयोजित किया था। एक अनजान खरीददार ने 10.35 करोड़ डॉलर में इस नोबेल प्राइज को खरीदा। मुराटोव को 2021 में फिलीपींस के पत्रकार मारिया रसा के साथ 'फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन की रक्षा के लिए' शांति के नोबेल से सम्मानित किया गया था।

रूस-यूक्रेन जंग: यूक्रेन ने पहली बार क्रीमिया के ऑयल ड्रिलिंग प्लेटफॉर्म पर हमला किया

1993 में की थी नोवाया गजेटा की स्थापना
दिमित्री मुराटोव लंबे वक्त से रूस में फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन के लिए काम करते रहे हैं। उन्होंने 1993 में कुछ साथियों के साथ मिलकर नोवाया गजेटा की स्थापना की थी। कुछ ही सालों में यह अखबार देश के अंदर और बाहर रूसी राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन की आलोचना करने वाला एकमात्र प्रमुख समाचार पत्र बन गया।

1992 में सोवियत यूनियन के टूटने के बाद 1993 में नोवाया गजेटा की स्थापना की गई थी। यह रूसी राष्ट्रपति का मुखर आलोचक है।
1992 में सोवियत यूनियन के टूटने के बाद 1993 में नोवाया गजेटा की स्थापना की गई थी। यह रूसी राष्ट्रपति का मुखर आलोचक है।

साल 2000 में नोवाया के 6 पत्रकारों की हत्या की गई थी
मुराटोव पर कई बार जानलेवा हमले हो चुके हैं। बीते अप्रैल में ही ट्रेन में उनके ऊपर एसीटोन के साथ मिक्स ऑयल पेंट फेंक दिया था, जिसमें उनकी आंखें जल गई थी। साल 2000 में उनके अखबार के लोगों पर हमला किया गया था, जिसमें 6 लोग मारे गए थे। इनमें इन्वेस्टिगेटिव रिपोर्टर अन्ना पोलितकोवस्काया भी शामिल थी।

दिमित्री मुराटोव ने लोगों से यूक्रेनी लोगों की मदद के लिए आगे आने को कहा है।
दिमित्री मुराटोव ने लोगों से यूक्रेनी लोगों की मदद के लिए आगे आने को कहा है।

हेरिटेज ऑक्शन की तरफ से जारी वीडियो में उन्होंने कहा- नोबेल जीतने से आपको सुनने का मौका मिलता है। आज लोगों को यह समझना है कि एक युद्ध चल रहा है और हमें उन लोगों की मदद करने की जरूरत है जो सबसे ज्यादा पीड़ित हैं।

रूस का तोशकिवका शहर पर कब्जे का दावा
वहीं युद्ध हालात के बारे में बात करें तो रूसी सेना ने सोमवार को पूर्वी यूक्रेन के सेवेरोडोनेट्स्क शहर के पास सिवरस्की डोनेट्स नदी के इलाके और तोशकिवका शहर पर कब्जा करने का दावा किया है। सेवेरोडोनेट्स्क पर रूसी हमले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। दूसरी तरफ, यूक्रेन ने रूस के कब्जे क्रीमिया के ऑयल ड्रिलिंग प्लेटफॉर्म पर हमला किया है। क्रीमिया के स्टेट हेड के मुताबिक, इस हमले में तीन घायल हुए हैं।