• Hindi News
  • International
  • Now Blood Test Will Show The Difference Between Calendar Age And Age, Precautions Can Be Taken, Risk Of Serious Diseases Will Be Avoided

सेहत का नया फॉर्मूला:अब ब्लड टेस्ट से पता चलेगा कैलेंडर एज और आईएज में अंतर, बरत सकेंगे सावधानियां, गंभीर बीमारियों का खतरा टलेगा

वॉशिंगटन6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
वैज्ञानिकों के अनुसार इम्युन सिस्टम की जांच बेहद जरूरी। - Dainik Bhaskar
वैज्ञानिकों के अनुसार इम्युन सिस्टम की जांच बेहद जरूरी।

हम अपनी उम्र की गणना कैलेंडर या वर्ष से करते हैं। जैसे जैसे हमारी उम्र बढ़ती है बीमारियों से ग्रस्त होने की आशंका बढ़ती है। इसके उलट जब उम्र कम होती है तो माना जाता है कि बीमारी हाेने की आशंका कम होती है। लेकिन स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी और बक इंस्टीट्यूट फॉर रिसर्च ऑन एजिंग ने एक ऐसा ब्ल्ड टेस्ट इजाद किया है जिससे कि किसी भी व्यक्ति की कैलेंडर एज यानी वर्ष के अनुसार उम्र और आईएज में अंतर किया जा सकेगा।

वैज्ञानिकों ने आईएज नाम दिया है किसी भी व्यक्ति की इनफ्लमेशन यानी जलन, दर्द या फिर कोई पुरानी बीमारी जैसे हार्ट संबंधी रोग अथवा डायबिटीज। खून की जांच से वैज्ञानिक ब्लड में मौजूद कायटोकीन्स और इम्यून सिस्टम प्रोटीन का अध्ययन करते हैं।

यदि ब्ल्ड टेस्ट के बाद किसी व्यक्ति की कैलेंडर एज 45 साल और आईऐज 65 साल आंकी जाती है तो ये साबित होता है कि उस व्यक्ति का शरीर 20 साल ज्यादा बूढ़ा है। ऐसा उस व्यक्ति के शरीर में इनफ्लमेशन यानी पुरानी बीमारियों के कारण हो रहा है। उस व्यक्ति को ज्यादा सवाधानी बरतने की जरूरत है। संबंधित व्यक्ति को हार्ट की बीमारियों और टाइप टू डायबिटीज के प्रति और अधिक सतर्कता बरतनी चािहए।

स्मोकिंग करना, एक्सरसाइज नहीं करना व खानपान में लापरवाही लंबी उम्र में बाधक

स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के प्रो. नाजिश सैयद का कहना है कि हम सभी की उम्र बढ़ी है और हम मृत्यु की ओर बढ़ते हैं। लेकिन सबसे अहम बात ये है कि किस प्रकार से हमारी उम्र बढ़ती है। नए ब्लड टेस्ट से हमें ये पता चल सकेगा कि हम उम्र बढ़ने के साथ कितना सेहतमंद रह पाते हैं। कैलेंडर एज और आईऐज में अंतर आने पर हमें सावधान हो जाना चाहिए। स्मोकिंग करने, एक्सारसाइज नहीं करने और खानपान में लापरवाही बरतने से आईऐज बढ़ जाती है। स्वस्थ दिनचर्या से इसमें सुधार हो सकता है।