स्विट्जरलैंड / ओलिम्पिक कमेटी का 1000 करोड़ रु. का हेडक्वार्टर, यहां सौर ऊर्जा से 60 घरों के बराबर बिजली बनेगी

Olympic House | Olympic Committee New headquarters in Switzerland's Lausanne
Olympic House | Olympic Committee New headquarters in Switzerland's Lausanne
Olympic House | Olympic Committee New headquarters in Switzerland's Lausanne
X
Olympic House | Olympic Committee New headquarters in Switzerland's Lausanne
Olympic House | Olympic Committee New headquarters in Switzerland's Lausanne
Olympic House | Olympic Committee New headquarters in Switzerland's Lausanne

  • नया हेडक्वार्टर लुसाने में 27 हजार वर्ग फीट में बना, इसे ओलिम्पिक गेम्स के 125 साल पूरे होने पर खोला गया
  • बिल्डिंग से बारिश का पानी जुटाकर उसे टॉयलेट और खेती के कामों में इस्तेमाल किया जाएगा

Jun 25, 2019, 08:21 AM IST

जेनेवा. स्विट्जरलैंड के लुसाने में ओलिम्पिक और पैरालिम्पिक गेम्स का नया हेडक्वार्टर खुल गया है। इसे नीदरलैंड्स की कंपनी 3 एक्सएन ने तैयार किया है, जो पुरानी बिल्डिंग के स्थान पर ही बना है। स्विस आर्किटेक्ट इटेन ब्रेशबुल के मुताबिक, यह दुनिया की सबसे ईको फ्रेंडली इमारतों में से एक है। इटेन के दावे को इसी तथ्य से समझा जा सकता है कि नए हेडक्वार्टर में पुरानी बिल्डिंग का करीब 95% मैटेरियल रिसाइकिल किया गया है।

500 कर्मचारी एक साथ काम कर सकेंगे

14.5 करोड़ डॉलर (करीब 1000 करोड़ रुपए) में बनी इस इमारत को आईओसी के 500 कर्मचारियों के लिए तैयार किया गया है। इसमें ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने के लिए भी अक्षय स्रोतों का इस्तेमाल किया गया है। बिल्डिंग की पूरी छत पर सोलर पैनल्स लगे हैं, जो सौर ऊर्जा के जरिए करीब 60 घरों के बराबर बिजली पैदा करेंगे और बिल्डिंग को रोशन रखेंगे।

हेडक्वार्टर बिल्डिंग में पानी बचाने के लिए भी बेहतरीन इंतजाम किए गए हैं। जल संरक्षण को ध्यान में रखते हुए निर्माताओं ने बिल्डिंग में ही बारिश के पानी को इकट्ठा करने के इंतजाम भी किए हैं। इसे सिंचाई और टॉयलेट के लिए इस्तेमाल किया जाएगा।

इमारत का डिजाइन भी आगे की तरफ से झुका हुआ बनाया गया है। निर्माता कंपनी 3 एक्सएन के संस्थापक और सीनियर पार्टनर किम नील्सन के मुताबिक, इससे बिल्डिंग में एयर कंडीशनरों जरूरत कम करने की कोशिश की गई।

किम का कहना है कि बिल्डिंग को कर्मचारियों के मुफीद बनाने के लिए काफी रोशनी की जरूरत पड़ेगी, लेकिन ज्यादा धूप की नहीं। इसलिए इसका अगला हिस्सा झुकाया गया है, ताकि आसमान से सूर्य की सीधी किरणें ग्लास के अंदर पहुंचकर गर्मी पैदा न करें।

बिल्डिंग का निर्माण 2016 में शुरू हुआ था। करीब दो साल के अंतराल में ही इसे तैयार कर लिया गया। 2018 में एम्सटर्डम में हुए वर्ल्ड आर्किटेक्चर फेस्टिवल में इसे ‘ऑफिस- फ्यूचर प्रोजेक्ट’ के अवॉर्ड से नवाजा जा चुका है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना