• Hindi News
  • International
  • Omicron Coronavirus Variant Travel Restrictions Update; Flights Ban By US Saudi Arabia To South Africa

ओमिक्रॉन के डर से नाकाबंदी:ब्रिटेन के बाद अमेरिका, सऊदी अरब और श्रीलंका ने अफ्रीका की फ्लाइट्स बैन की; क्वारैंटाइन नियम भी सख्त

2 महीने पहले

दक्षिण अफ्रीका में मिला कोरोना का नया वैरिएंट तेजी से दुनिया में फैल रहा है। हॉन्गकॉन्ग और बोत्सवाना के बाद शुक्रवार को इजराइल और बेल्जियम में भी नए वैरिएंट से संक्रमित लोग मिले हैं। इसके बाद ब्रिटेन, ऑस्ट्रिया, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली और नीदरलैंड ने अफ्रीकी देशों से आनी वाली फ्लाइट्स पर बैन लगा दिया। अब अमेरिका, सऊदी अरब, श्रीलंका, ब्राजील समेत कई देशों ने भी अफ्रीकी देशों की फ्लाइट बैन कर दी है। हालांकि, दक्षिण अफ्रीकी स्वास्थ्य मंत्री ने इन बैन को अनुचित बताया है।

अमेरिका में सोमवार से अफ्रीकी देशों की फ्लाइट बैन
अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा कि सोमवार से दक्षिण अफ्रीका, बोत्सवाना, जिम्बाब्वे, नामीबिया, लेसोथो, एस्वातिनी, मोजाम्बिक और मलावी से एयर ट्रैवल रोक कर दिया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि अमेरिकी प्रशासन अभी भी इस नए वैरिएंट के बारे में जानकारी जुटा रहा है। साथ ही उन्होंने अमेरिकियों और दुनिया के अन्य देशों के लोगों से अपील की कि वे वैक्सीन लगवाएं। वहीं, न्यूयॉर्क गवर्नर कैथी होचुल ने ने राज्य में इमरजेंसी लागू कर दी है।

दक्षिण अफ्रीका के जोहान्सबर्ग में ओआर टैम्बो इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर शुक्रवार को पेरिस की फ्लाइट में चढ़ने के लिए लाइन में लगे लोग।
दक्षिण अफ्रीका के जोहान्सबर्ग में ओआर टैम्बो इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर शुक्रवार को पेरिस की फ्लाइट में चढ़ने के लिए लाइन में लगे लोग।

भारत में अब तक ट्रैवल बैन नहीं
भारत ने अब तक किसी देश की फ्लाइट पर बैन नहीं लगाया है, लेकिन दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील, बांग्लादेश, बोत्सवाना, चीन, मॉरिशस, न्यूजीलैंड, जिम्बाब्वे, सिंगापुर, इजरायल, हॉन्गकॉन्ग और ब्रिटेन समेत यूरोप के कुछ देशों से आने वाले यात्रियों को अतिरिक्त सुरक्षा मानकों का पालन करना होगा। मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर ने शनिवार को बताया कि दक्षिण अफ्रीका से लौटने वाले हर व्यक्ति को मुंबई आने पर क्वारैन्टाइन किया जाएगा। साथ ही उनके सैंपल जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजे जाएंगे। वहीं, गुजरात में ऐसे यात्रियों का RT-PCR जरूरी होगा।

यूरोपीय देशों ने अफ्रीकी देश गए पर्यटकों पर लगाया बैन
यूरोपीय देशों ऑस्ट्रिया, फ्रांस, इटली, नीदरलैंड और माल्टा ने उन पर्यटकों पर बैन लगाया है जो पिछले दो हफ्तों में दक्षिण अफ्रीका, लेसोथो, बोत्सवाना, जिम्वाब्बे, मोजाम्बिक, नामीबिया और एस्वातिनी गए थे।जर्मनी ने शुक्रवार रात से दक्षिण अफ्रीका को वायरस वैरिएंट एरिया घोषित कर दिया है। इसका मतलब यह हुआ कि यहां से आनी वाली एयरलाइन्स को सिर्फ इसलिए एंट्री मिलेगी ताकि जर्मन लोग वापस आ सकें।

नीदरलैंड की राजधानी एम्सटर्डम के शिपॉल एयरपोर्ट पर शुक्रवार को कोरोना टेस्टिंग की लाइन में खड़े लोग। देश ने उन पर्यटकों पर बैन लगाया है जो पिछले दो हफ्तों में अफ्रीका गए थे। 600 यात्रियों में से 61 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई।
नीदरलैंड की राजधानी एम्सटर्डम के शिपॉल एयरपोर्ट पर शुक्रवार को कोरोना टेस्टिंग की लाइन में खड़े लोग। देश ने उन पर्यटकों पर बैन लगाया है जो पिछले दो हफ्तों में अफ्रीका गए थे। 600 यात्रियों में से 61 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई।

जापान ने सख्त किए नियम
जापान ने अफ्रीकी देशों के यात्रियों के लिए नियमों को कड़ा किया है। 27 नवंबर से इन देशों के यात्रियों के लिए 10 दिनों का क्वारैंटाइन अनिवार्य किया गया है। मिस्र, सिंगापुर मलेशिया, दुबई, सऊदी अरब, जॉर्डन ने भी सातों अफ्रीकी देशों पर ऐसे ही प्रतिबंध लगाए हैं।

ऑस्ट्रेलिया बनाएगा सख्त कानून
ऑस्ट्रेलिया के स्वास्थ्य मंत्री ग्रेग हंट ने शनिवार को कहा कि सुरक्षा के लिहाज से नौ अफ्रीकी देशों से सभी फ्लाइट्स को 14 दिनों के लिए बैन किया जाएग। उन्होंने बताया कि वे लोग जो ऑस्ट्रेलिया के नागरिक नहीं है या नागरिकों पर आश्रित नहीं है और पिछले दो हफ्तों में अफ्रीकी देश घूमने गए हैं, वे ऑस्ट्रेलिया में घुस नहीं पाएंगे। इन देशों से आने वाले ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों को 14 दिनों तक क्वारैंटाइन होना पड़ेगा।

दक्षिण अफ्रीकी स्वास्थ्य मंत्री ने बैन को गलत बताया
दक्षिण अफ्रीकी स्वास्थ्य मंत्री जो फाला ने शुक्रवार को देशों के इस फैसले को अनुचित बताया है। उनका कहना है कि ऐसा कोई सबूत नहीं है कि यह वैरिएंट पिछले वैरिएंट्स से ज्यादा खतरनाक है और वैक्सीन को भी मात दे सकता है। ऐसे ट्रैवल बैन वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के नियमों के खिलाफ है।

खबरें और भी हैं...