पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • International
  • Opposition To Chinese Ambassador Yangki's Meeting With Ruling Leaders In Kathmandu, Showing Posters Of China Go Back

नेपाल का सियासी संकट:काठमांडू में चीनी राजदूत यांगकी की सत्ताधारी नेताओं से मुलाकात का विरोध, चीन गो बैक के पोस्टर दिखाए

एक महीने पहलेलेखक: अनिल गिरी, काठमांडू से
  • कॉपी लिंक
छात्रों ने कहा कि यागंकी को दूतावास तक सीमित रहना चाहिए, हमारे नेताओं के घरों में नहीं। उन्हें चुप रहना चाहिए।
  • मई में जब ओली की कुर्सी संकट में आई थी, तब यांगकी ने टॉप लीडर्स का सेमिनार बुलाकर ओली की कुर्सी बचाई थी
  • नेपाल की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने ही केपी शर्मा ओली से इस्तीफे की मांग की, बातचीत जारी है
Advertisement
Advertisement

नेपाल की राजधानी में मंगलवार को दर्जनों छात्रों ने चीन के दूतावास के सामने प्रदर्शन किया। ये छात्र चीन की राजदूत होउ यांगकी की सत्ताधारी पार्टी के नेताओं से मुलाकात को लेकर विरोध कर रहे थे। इन्होंने चीन गो बैक के नारे लगाए और पोस्टर दिखाए।

यांगकी पर नेपाल की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी के अंदरूनी मामलों में तब दखल देने का आरोप है, जब यह पार्टी अंदरूनी मतभेदों में घिरी हुई है और पार्टी के नेताओं ने ही प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली से इस्तीफे की मांग की है।

बाहरी दखल से सत्ताधारी पार्टी का इनकार
यांगकी नेपाल की सत्ताधारी और विपक्षी पार्टियों से मुलाकात, सरकारी विभागों में उनके दखल को लेकर सुर्खियों में हैं। बताया ये भी जा रहा है कि मई में जब ओली की कुर्सी पर संकट आया था, तब यांगकी ने ही उनकी कुर्सी बचाई थी। हालांकि, ओली की पार्टी के नेता ही इस बात को खारिज कर रहे हैं।

पार्टी के स्पोक्सपर्सन नारायन काजी श्रेष्ठ ने कहा कि नेपाल की अंदरूनी राजनीति को लेकर चल रही साजिशों की हर बात को हम नकारते हैं। जैसा कि कहा जा रहा है कि नेपाल की राजनीति को ये विदेशी ताकत चला रही है, वो विदेशी ताकत चला रही है। हम इसे खारिज करते हैं। नेपाल स्वतंत्र देश है और यह अपना फैसला करने में सक्षम है। अगर कोई हमारे मामलों में दखल की मंशा रखता है तो हम इसका विरोध करते हैं।

छात्रों ने कहा- यांगकी दूतावास तक सीमित रहें
इंडिपेंडेंट स्टूडेंट यूनियन ने यागंकी के विरोध में प्रदर्शन के दौरान उनके पोस्टर भी दिखाए। छात्रों ने कहा कि यागंकी को दूतावास तक सीमित रहना चाहिए, हमारे नेताओं के घरों में नहीं। उन्हें चुप रहना चाहिए।

यांगकी ने इन नेताओं से मुलाकात की

काठमांडू पोस्ट की एक रिपोर्ट के मुताबिक, यांगकी ने मंगलवार को भी राष्ट्रपति बिद्यादेवी, प्रधानमंत्री ओली, पूर्व प्रधानमंत्री माधव नेपाल और झालानाथ खनल से मुलाकात की। पोस्ट को चीनी दूतावास के एक अधिकारी ने बताया कि हम सत्ताधारी पार्टी को मुश्किल में नहीं देखना चाहते हैं। हम चाहते हैं कि पार्टी के नेता अपने मतभेद भीतर ही सुलझा लें। 

नेपाल की सियासत से जुड़ी ये खबरें भी आप पढ़ सकतें हैं...

1. नेपाल में प्रधानमंत्री के इस्तीफे पर सस्पेंस / प्रधानमंत्री ओली और विरोधी गुट के नेता प्रचंड के बीच बातचीत खत्म, स्टैंडिंग कमेटी की मीटिंग बुधवार तक टली

2. नेपाल की राजनीति में फैसले का वक्त / प्रधानमंत्री ओली ने कैबिनेट की बैठक में मंत्रियों से पूछा- साफ बताओ, किसकी तरफ हो, देश और पार्टी मुश्किल में है

3. नेपाल के पीएम पर इस्तीफे का दबाव / राष्ट्रपति बिद्या देवी भंडारी से मिले प्रधानमंत्री ओली, इमरजेंसी कैबिनेट मीटिंग भी बुलाई गई

4. नेपाल के पीएम को दो दिन राहत / अब सोमवार को होगा प्रधानमंत्री ओली की किस्मत का फैसला, आज होने वाली स्टैंडिंग कमेटी की बैठक टली

5. नेपाल के पीएम पर भारी पड़ता भारत विरोध / कुर्सी बचाने के लिए नाराज नेताओं के घर पहुंचे प्रधानमंत्री ओली; इस्तीफे पर आज हो सकता है फैसला

6. नेपाल के पीएम को भारत विरोध भारी पड़ा / इस्तीफे की मांग के बीच ओली थोड़ी देर में देश को संबोधित करेंगे, राष्ट्रपति से मुलाकात की; बजट सत्र भी स्थगित

7. नेपाल के पीएम के साथ पाकिस्तान / इमरान ने ओली से फोन पर बातचीत का वक्त मांगा, ओली ने भारत पर सरकार गिराने की साजिश का आरोप लगाया था

8. चीन की एम्बेसेडर यांगकी ने ही मई में ओली की कुर्सी बचाई थी, इस बार वे राष्ट्रपति और ओली के कट्‌टर विरोधी माधव कुमार से मिलीं

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज वित्तीय स्थिति में सुधार आएगा। कुछ नया शुरू करने के लिए समय बहुत अनुकूल है। आपकी मेहनत व प्रयास के सार्थक परिणाम सामने आएंगे। विवाह योग्य लोगों के लिए किसी अच्छे रिश्ते संबंधित बातचीत शुर...

और पढ़ें

Advertisement