पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

पूर्व मंत्री ने कहा- दुनिया में हमारी छवि बेहद खराब; कश्मीर पर ग्लोबल अलायंस बनाएं

10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जावेद जब्बार पाकिस्तान के पूर्व सूचना मंत्री हैं। (फाइल)
  • जावेद जब्बार पाकिस्तान के पूर्व सूचना मंत्री हैं, उन्होंने कहा- 30 साल में हम मुल्क की इमेज नहीं सुधार पाए
  • जावेद के मुताबिक- अगर कश्मीर मुद्दे को जिंदा रखना है तो कई देशों का समर्थन हासिल करना होगा, ये मुश्किल

इस्तांबुल. पूर्व सूचना मंत्री जावेद जब्बार ने कहा है कि पाकिस्तान को कश्मीर मुद्दे पर दुनिया के समर्थन की जरूरत है। हालांकि, उन्होंने साफ कर दिया कि पाकिस्तान की इमेज दुनिया में बेहद खराब है, इसी वजह से उसको समर्थन नहीं मिलता। जावेद के मुताबिक, भारत ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाकर गलत किया। उनके मुताबिक, दक्षिण अमेरिका, यूरोप और अफ्रीका के देशों को मानवाधिकार के मुद्दे पर पाकिस्तान का समर्थन करना चाहिए। 
 

कश्मीर वैश्विक मुद्दा
तुर्की की न्यूज एजेंसी को दिए इंटरव्यू में जावेद ने कश्मीर को वैश्विक मुद्दा बताया। उन्होंने कहा, “कश्मीर पर पाकिस्तान को दुनिया का समर्थन हासिल करना होगा। दुर्भाग्य से अधिकांश देश हमारे साथ नहीं हैं। इसकी वजह यह है कि दुनिया में हमारी इमेज खराब और नकारात्मक है। 30 साल से नकारात्मक छवि हमारा पीछा नहीं छोड़ रही है। नाकामी की सबसे बड़ी वजह यही है।” 
 

भारत बड़ी ताकत
जब्बार ने आगे कहा, “कश्मीर पर हमें बिना रुके और बिना थके कैम्पेन चलाना होगा। वहां के लोगों को फैसला करने दें। लेकिन, पाकिस्तान को यह नहीं भूलना चाहिए कि भारत बहुत बड़ा देश, बाजार और ताकत है।” जावेद कम्युनिकेशन एक्सपर्ट हैं और कई बड़े अखबारों में उनके लेख प्रकाशित होते हैं। जावेद मानते हैं कि पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था को संभालना बेहद मुश्किल है और मुल्क इस वक्त गहरे संकट में है। उन्होंने कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान का समर्थन करने के लिए तुर्की और मलेशिया का शुक्रिया अदा किया। साथ ही ये भी कहा कि भारत के रुतबे की वजह से ज्यादातर मुस्लिम देश कश्मीर मुद्दे पर चुप हैं।  
 

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - धर्म-कर्म और आध्यामिकता के प्रति आपका विश्वास आपके अंदर शांति और सकारात्मक ऊर्जा का संचार कर रहा है। आप जीवन को सकारात्मक नजरिए से समझने की कोशिश कर रहे हैं। जो कि एक बेहतरीन उपलब्धि है। ने...

और पढ़ें