• Hindi News
  • International
  • Pakistan: Pakistan Army To Save PM Imran Khan, Qamar Javed Bajwa Meets Maulana Fazlur Rehman Over India Pakistan Tension

पाकिस्तान / इमरान को बचाएगी फौज; आर्मी चीफ मौलाना से मिले- भारत से तनाव का हवाला दिया

मौलाना फजल-उर-रहमान (दाएं) ने कहा है कि वो इमरान को हटाए बिना आंदोलन खत्म नहीं करेंगे। बाईं तरफ आर्मी चीफ बाजवा। (फाइल) मौलाना फजल-उर-रहमान (दाएं) ने कहा है कि वो इमरान को हटाए बिना आंदोलन खत्म नहीं करेंगे। बाईं तरफ आर्मी चीफ बाजवा। (फाइल)
X
मौलाना फजल-उर-रहमान (दाएं) ने कहा है कि वो इमरान को हटाए बिना आंदोलन खत्म नहीं करेंगे। बाईं तरफ आर्मी चीफ बाजवा। (फाइल)मौलाना फजल-उर-रहमान (दाएं) ने कहा है कि वो इमरान को हटाए बिना आंदोलन खत्म नहीं करेंगे। बाईं तरफ आर्मी चीफ बाजवा। (फाइल)

  • 31 अक्टूबर से फजल-उर-रहमान आजादी मार्च निकालने जा रहे हैं, नवाज और बिलावल की पार्टी ने समर्थन दिया
  • प्रधानमंत्री इमरान खान का इस्तीफे से इनकार, दबाव बढ़ने पर पिछले दरवाजे से सेना सक्रिय हुई
     

दैनिक भास्कर

Oct 24, 2019, 01:36 PM IST

इस्लामाबाद. इमरान खान सरकार पर संकट को देखते हुए पाकिस्तानी आर्मी सक्रिय हो गई है। आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा ने बुधवार रात 31 अक्टूबर से आजादी मार्च निकालने जा रहे मौलाना फजल-उर-रहमान से गुप्त मुलाकात की। इसके पहले वो देश के कुछ बड़े पत्रकारों और मीडिया हाउसेज के मालिकों से भी मिले। रिपोर्ट्स के मुताबिक, बाजवा ने मौलाना से आजादी मार्च रोकने को कहा। इस दौरान उन्हें भारत से तनावपूर्ण संबंधों का भी हवाला दिया। बताया जाता है कि मौलाना ने बाजवा से सिर्फ इतना कहा कि उनका आंदोलन शांतिपूर्ण होगा। इस बीच, इस्लामाबाद में सुरक्षा व्यवस्था सेना के हवाले कर दी गई। 

 

मुलाकात की जानकारी लीक
‘द न्यूज’ चैनल ने आर्मी चीफ और मौलाना की मुलाकात की जानकारी दी। रिपोर्ट के मुताबिक- बाजवा ने बुधवार देर रात आर्मी चीफ से मिलने पहुंचे। इस दौरान एक टीवी चैनल के मालिक और एंकर भी मौजूद थे। आर्मी चीफ ने मौलाना से आजादी मार्च रद्द करने को कहा लेकिन मौलाना ने इससे इनकार कर दिया। आर्मी चीफ ने मौलाना को देश की सीमाओं पर तनावपूर्ण हालात की जानकारी दी। उन्हें बताया गया कि भारत, अफगानिस्तान और ईरान सीमा पर हालात खराब हैं। लिहाजा, देशहित में मौलाना मार्च टाल दें। हालांकि, मौलाना ने ऐसा कोई आश्वासन बाजवा को नहीं दिया। 

 

सेना ने संभाला मोर्चा
मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि मौलाना को दो प्रमुख विपक्षी पार्टियों नवाज शरीफ की पीएमएलएन और बिलावल की पीपीपी का समर्थन हासिल है। इमरान खान इसी वजह से डरे हुए हैं। उन्हें सेना का समर्थन हासिल है। इसलिए, अब सेना ने सरकार बचाने की कमान संभाल ली है। इस्लामाबाद जाने वाले रास्तों की बैरिकेडिंग की जा रही है। कंटेनर्स से रास्ते बंद किए जा रहे हैं। महत्वपूर्ण सरकारी इमारतों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। सादे कपड़ों में पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं। इतना ही नहीं, कई जगह जेसीबी से गड्ढे किए गए हैं ताकि आजादी मार्च में शामिल गाड़ियों को राजधानी में दाखिल होने से रोका जा सके। 

 

मीडिया पर भारी दबाव
सेना ने देश के ज्यादातर मीडिया हाउसेज को चेतावनी दी है। उनसे कहा गया है कि मौलाना के आजादी मार्च को कवरेज देने से परहेज करें। यही वजह है कि मौलाना के समर्थक सोशल मीडिया पर सक्रिय हो गए हैं। आम अवाम से अपील में कहा गया है कि इस नकारा और सिलेक्टेड सरकार को हटाने के लिए मार्च में शामिल हों। इमरान के बाद आर्मी चीफ भी मीडिया हाउसेज के मालिकों से मिल चुके हैं। हालांकि, सेना ने इसे सौजन्य भेंट बताया। 

 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना