• Hindi News
  • International
  • Pakistan Chief Justice |CJP Gulzar Ahmed Hit Hard To Army Said Army Is For Defence Not For Business

PAK आर्मी को झटका:सुप्रीम कोर्ट ने कहा- फौज का काम मुल्क की हिफाजत, वो बिजनेस न करे; कुछ जमीन सरकार को लौटाई जाए

इस्लामाबाद6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने फौज को फटकार लगाई है। (फाइल) - Dainik Bhaskar
पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने फौज को फटकार लगाई है। (फाइल)

पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने चार दिन में दूसरी बार ताकतवर फौज को बड़ा झटका दिया है। चीफ जस्टिस ऑफ पाकिस्तान (CJP) गुलजार अहमद की बेंच ने मंगलवार को फौज से कहा- आपको सरकारी जमीन डिफेंस पर्पज के लिए दी गई है। अगर इसका इस्तेमाल बिजनेस के लिए हो रहा है तो यह मंजूर नहीं किया जा सकता। आर्मी यह जमीन सरकार को वापस कर दे।

चार दिन पहले सुप्रीम कोर्ट ने डिफेंस सेक्रेटरी को तलब कर कहा था कि वो लिखित में ये बताएं कि मिलिट्री ट्रेनिंग के लिए दी गई जमीन पर शादी हॉल और मूवी थिएटर क्यों और किसकी मंजूरी से बनाए जा रहे हैं।

फौज से सख्त नाराज सुप्रीम कोर्ट
फौज द्वारा सरकारी जमीन के बेजा इस्तेमाल के खिलाफ एक याचिका पर चीफ जस्टिस गुलजार अहमद की बेंच सुनवाई कर रही है। इसमें जस्टिस काजी मोहम्मद अमीन अहमद और जस्टिस एजाज-उल-अहसान भी शामिल हैं। मंगलवार को बेंच के सामने डिफेंस सेक्रेटरी लेफ्टिनेंट जनरल मिया मोहम्मद हिलाल पेश हुए। बेंच ने उनसे कहा- आपको सरकारी जमीन इसलिए दी गई थी ताकि इसका इस्तेमाल आप सैन्य कार्यों के लिए करें। आप वहां सिनेमा हॉल, शादी हॉल, पेट्रोल पम्प और शॉपिंग मॉल्स बना रहे हैं। यह कारोबार नहीं तो और क्या है?

सम्मान की चिंता कीजिए
इसके बाद चीफ जस्टिस ने कहा- अवाम फौज का सम्मान करती है। आपके इन कामों क्या संदेश जाएगा। कराची हो या कोई दूसरा कैंटोन्मेंट एरिया, आपने हर जगह यही किया है। हमने आपकी रिपोर्ट देखी है, इससे हम कतई संतुष्ट नहीं हैं। इस पर डिफेंस सेक्रेटरी ने कहा- हम आपको पूरी रिपोर्ट और फोटोज देना चाहते हैं। अटॉर्नी जनरल इसे तैयार कर रहे हैं। चार हफ्ते में रिपोर्ट आपके सामने रखी जाएगी। इस पर कोर्ट ने चार हफ्ते की मोहलत दे दी।

मुल्क की हिफाजत ही कीजिए
जस्टिस अमीन ने डिफेंस सेक्रेटरी से कहा- कराची के मामले में हमें कई शिकायतें मिली हैं। आपने हर कानून का उल्लंघन किया है। आपने मेन रोड के करीब हाईराइज बिल्डिंग्स बनाई हैं। हमें यह बताएं कि आपने इसकी मंजूरी ली या नहीं। ये रातोंरात तो तैयार नहीं हो सकतीं।

इसके बाद जस्टिस अमीन ने कहा- फौज का काम सरहदों पर मुल्क की हिफाजत करना है, आप लोग तो खुलेआम कारोबार कर रहे हैं और इसके लिए किसी तरह की मंजूरी लेना भी शान के खिलाफ समझते हैं। आपके कई अफसरों ने सरकारी जमीन पर घर बनाकर उन्हें लाखों रुपए में बेच दिया। आप इस बारे में भी चार हफ्ते में रिपोर्ट सौंपें।