पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

आजादी मार्च पर अड़े मौलाना बोले- मंत्री बातचीत के लिए आएं तो इमरान का इस्तीफा साथ लाएं

9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मौलाना फजल-उर-रहमान (बाएं) और इमरान खान। (फाइल)
  • मौलाना फजल-उर-रहमान 31 मार्च से आजादी मार्च निकालेंगे, आर्मी चीफ से कहा- आंदोलन खत्म नहीं किया जाएगा
  • सरकार ने बातचीत के लिए कमेटी बनाई, इससे मौलाना ने दो टूक कहा- वार्ता के लिए आएं तो दूसरे हाथ में इमरान का इस्तीफा हो
Advertisement
Advertisement

इस्लामाबाद. प्रधानमंत्री इमरान खान के इस्तीफे पर अड़े मौलाना फजल-उर-रहमान को मनाने की कोशिशें नाकाम साबित होती दिख रही हैं। रहमान के आजादी मार्च को रोकने के लिए सरकार और सेना पूरा जोर लगा रही है। मौलाना से बातचीत के लिए इमरान ने मंत्रियों की कमेटी बनाई। यह आज शाम उनसे चर्चा करेगी। लेकिन, मौलाना ने साफ कर दिया है कि कमेटी में शामिल मंत्री अगर बातचीत के लिए आते हैं तो उनके दूसरे हाथ में प्रधानमंत्री का इस्तीफा होना चाहिए। गुरुवार को रहमान ने आर्मी चीफ से मुलाकात की थी। 
 

बातचीत से पहले शर्त
‘द न्यूज’ चैनल के मुताबिक, आर्मी चीफ का प्रस्ताव ठुकराने के बाद मौलाना का रुख ज्यादा सख्त हो गया है। गुरुवार देर रात इमरान ने मंत्रियों की समिति बनाई। इसको मौलाना से बातचीत कर उन्हें आजादी मार्च टालने का जिम्मा सौंपा गया। समिति और रहमान के बीच शुक्रवार शाम बातचीत की संभावना है। इसके पहले मौलाना का बयान आया। उन्होंने कहा- बातचीत करने में कोई दिक्कत नहीं है। समिति में शामिल मंत्रियों का स्वागत है। वो आएं लेकिन दूसरे हाथ में प्रधानमंत्री इमरान खान का इस्तीफा जरूर लाएं। इसके बिना कोई वार्ता नहीं होगी। 
 

धोखा दे रही है सरकार
मौलाना के आजादी मार्च में नवाज शरीफ और बिलावल भुट्टो की पार्टियां भी शामिल होंगी। कुछ कट्टरपंथी संगठन भी समर्थन का ऐलान कर चुके हैं। दूसरी तरफ, सेना इमरान सरकार को बचाने के लिए पूरा जोर लगा रही है। मौलाना ने शुक्रवार को कहा, “हमें धोखा दिया जा रहा है। एक तरफ सरकार बातचीत की पहल करती है तो दूसरी तरफ इमरजेंसी और मार्शल लॉ के हालात पैदा कर दिए गए हैं। कश्मीरियों के साथ भी इमरान ने छल किया है। उनसे कोई उम्मीद इसलिए भी नहीं की जा सकती क्योंकि वो इलेक्टेड नहीं बल्कि सिलेक्टेड प्राइम मिनिस्टर हैं। चुनाव में सिर्फ धांधली हुई। इमरान जब तक इस्तीफा नहीं देंगे, तब तक आजादी मार्च जारी रहेगा।” दूसरी तरफ, बिलावल भुट्टो ने कहा- इमरान खान विपक्षी नेताओं की हत्या की साजिश रच रहे हैं। 
 

मीडिया को चेतावनी
सेना ने देश के ज्यादातर मीडिया हाउसेज को चेतावनी दी है। उनसे कहा गया है कि मौलाना के आजादी मार्च को कवरेज देने से परहेज करें। यही वजह है कि मौलाना के समर्थक सोशल मीडिया पर सक्रिय हो गए हैं। आम अवाम से अपील में कहा गया है कि इस नकारा और सिलेक्टेड सरकार को हटाने के लिए मार्च में शामिल हों। इमरान के बाद आर्मी चीफ भी मीडिया हाउसेज के मालिकों से मिल चुके हैं। हालांकि, सेना ने इसे सौजन्य भेंट बताया। 
 

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज आप अपनी रोजमर्रा की व्यस्त दिनचर्या में से कुछ समय सुकून और मौजमस्ती के लिए भी निकालेंगे। मित्रों व रिश्तेदारों के साथ समय व्यतीत होगा। घर की साज-सज्जा संबंधी कार्यों में भी समय व्यतीत हो...

और पढ़ें

Advertisement