• Hindi News
  • International
  • Prime Minister Imran Khan's request to the United Nations help fulfill his promise on Kashmir and empower the people

पाकिस्तान / इमरान खान ने कहा- संयुक्त राष्ट्र कश्मीर को लेकर अपने वादे पूरे करने और लोगों को अधिकार दिलाने में मदद करे

प्रधानमंत्री इमरान खान ने यूएन महासचिव एंटोनियो गुटेरस से सोमवार को मुलाकात की। प्रधानमंत्री इमरान खान ने यूएन महासचिव एंटोनियो गुटेरस से सोमवार को मुलाकात की।
X
प्रधानमंत्री इमरान खान ने यूएन महासचिव एंटोनियो गुटेरस से सोमवार को मुलाकात की।प्रधानमंत्री इमरान खान ने यूएन महासचिव एंटोनियो गुटेरस से सोमवार को मुलाकात की।

  • इमरान खान ने कहा- जम्मू-कश्मीर से विशेष दर्जा खत्म किए जाने के बाद वहां मानवाधिकारों की स्थिति बदतर है
  • गुटेरेस ने रविवार को कहा था- वे कश्मीर की स्थिति को लेकर चिंतित हैं और विवाद को सुलझाने में मध्यस्थता कर सकते हैं

दैनिक भास्कर

Feb 18, 2020, 09:22 AM IST

इस्लामाबाद. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने संयुक्त राष्ट्र (यूएन) महासचिव एंटोनियो गुटेरस के सामने कश्मीर राग अलापा। गुटेरस इन दिनों पाकिस्तान दौरे पर हैं। सोमवार को उनके साथ बैठक में इमरान ने कहा संयुक्त राष्ट्र कश्मीर के लोगों से किया अपने वादे और उन्हें अधिकार दिलाने में मदद करे। इमरान ने भारत पर आरोप लगाया कि पिछले साल 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर से विशेष दर्जा खत्म किए जाने के बाद वहां के लोगों के मानवाधिकारों का हनन हो रहा है।

प्रधानमंत्री कार्यालय ने एक बयान में कहा, “प्रधानमंत्री ने संयुक्त राष्ट्र को अवगत कराया कि कश्मीरी लोग अपने अधिकार को हासिल करने के लिए लगातार यूएन की तरफ देख रहे हैं क्योंकि यह मुद्दा संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के कई प्रस्तावों में से एक है।”

इमरान ने दावा किया था कि भारत की तरफ से नियंत्रण रेखा पर लगातार सीजफायर का उल्लंघन किया जा रहा है। साथ ही भारत उकसाने वाली बयानबाजी कर रहा है। उन्होंने कहा कि भारत कश्मीर पर अपनी गतिविधि से दुनिया का ध्यान भटकाने के लिए किसी अन्य कार्रवाई को अंजाम दे सकता है। अफगानिस्तान के मुद्दे पर इमरान ने कहा कि अफगान संघर्ष का कोई सैन्य सामाधान नहीं है और पाकिस्तान यह आश्वस्त कराना चाहता है कि वह देश को युद्ध से निकालकर शांति कायम करने में पूरा समर्थन देगा।

गुटेरेस ने कश्मीर मुद्दे पर मध्यस्थता की पेशकश की थी

इससे पहले, गुटेरेस ने रविवार को इस्लामाबाद में कहा था कि वे कश्मीर की स्थिति को लेकर चिंतित हैं और भारत-पाकिस्तान के बीच लंबे समय से चल रहे विवाद को सुलझाने में मध्यस्थता कर सकते हैं। इस पर, भारत ने कश्मीर पर मध्यस्थता का उनका प्रस्ताव ठुकरा दिया था। विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा था कि असली मुद्दा पाकिस्तान की ओर से अवैध तरीके से कब्जा किए गए क्षेत्र (पीओके) को खाली कराने का होना चाहिए।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था- अनुच्छेद 370 से अलगाववाद और आतंकवाद बढ़े

पिछले साल जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद से भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ गया था। इस फैसले के बाद पाकिस्तान ने भारत से कूटनीतिक संबंध खत्म कर दिए थे और भारतीय राजनयिकों को बाहर जाने को कहा था। भारत ने इस कदम का बचाव करते हुए कहा था कि विशेष दर्जा से कश्मीर में आतंकवाद को पनाह मिल रही थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले साल अक्टूबर में कहा था, “देश ने अनुच्छेद 370 को हटाने का फैसला इसलिए लिया क्योंकि इसने राज्य में केवल अलगाववाद और आतंकवाद को बढ़ावा देने का काम किया था।

गुटेरस गुरुद्वारा करतापुर साहिब जाएंगे

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंटोनियो गुटेरस रविवार को चार दिन के पाकिस्तान दौरे पर पहुंचे हैं। वे इस दौरान गुरुद्वारा करतारपुर साहिब भी जाएंगे। गुटेरस ने कश्मीर में भारत और पाकिस्तान की यूनाइटेड नेशंस मिलिट्री ऑब्जर्वर ग्रुप को क्षेत्र में पूरी पहुंच देने के लिए इमरान खान को धन्यवाद दिया। उन्होंने पाकिस्तान में सुरक्षा स्थिति और पूरे एशियाई क्षेत्र में शांति और स्थिरता के लिए प्रधानमंत्री की सराहना भी की।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना