• Hindi News
  • International
  • Shahid Afridi Yasin Malik | Pakistan Team Shahid Afridi Supports Kashmiri Separatist Yasin Malik

यासीन मलिक को पाकिस्तानी सपोर्ट:शाहिद अफरीदी बोले- मलिक पर मनमाने आरोप लगे; इमरान ने कहा- ये फासीवादी सियासत

इस्लामाबादएक महीने पहले

जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (JKLF) के सरगना यासीन मलिक को NIA कोर्ट ने टेरर फंडिंग मामले में दोषी ठहराया है। हालांकि, NIA ने यासीन के लिए फांसी की सजा की मांग की थी, कोर्ट ने उसे उम्रकैद की सजा सुनाई है। पाकिस्तान को यह नागवार गुजर रहा है। पाकिस्तानी नेता यासीन को सियासी कैदी बता रहे हैं।

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी ने यासीन मलिक का समर्थन किया। अफरीदी ने आतंकी का समर्थन करते हुए सोशल मीडिया पर लिखा- भारत अपने खिलाफ उठने वाली आवाजों को दबाने के लिए कोशिश कर रहा है। उसे नाकामी ही हाथ लगेगी। यासीन मलिक पर मनमाने आरोप लगाए जाने से कश्मीर की आजादी के संघर्ष पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा। मैं संयुक्त राष्ट्र (UN) से आग्रह करता हूं कि कश्मीरी नेताओं के खिलाफ चल रहे गैरकानूनी ट्रायल्स में दखल दें।

शाहिद अफरीदी आतंकी यासीन मलिक के समर्थन में खड़े हो गए हैं। उन्होंने यासीन को बेकसूर बताया है।
शाहिद अफरीदी आतंकी यासीन मलिक के समर्थन में खड़े हो गए हैं। उन्होंने यासीन को बेकसूर बताया है।

भारत के चार्ज डी अफेयर्स तलब
यासीन मलिक को सजा से पाकिस्तान किस कदर बौखलाया हुआ है, इसका उदाहरण बुधवार रात मिला। पाकिस्तान के विदेश विभाग ने इस्लामाबाद में मौजूद इंडियन एम्बेसी के चार्ज डी अफेयर्स (दूतावास प्रभारी) को तलब किया और उनसे यासीन को सजा पर विरोध जताया।

तहजीब भूले डिप्लोमैट
पाकिस्तान के पूर्व डिप्लोमैट और भारत में एम्बेसेडर रह चुके अब्दुल बासित ने भी यासीन मलिक के पक्ष में लिखा। बासित के मुताबिक- यह ज्युडिशियल टेरेरिज्म शर्मनाक है। दुनिया को भारत के इस गैर जिम्मेदाराना रवैये के खिलाफ खड़े हो जाना चाहिए।

इमरान ने यासीन की सजा को बताया फासीवादी रणनीति
पाकिस्तान के पूर्व PM इमरान खान ने यासीन मलिक को सजा दिए जाने का विरोध किया है। इमरान ने लिखा- मैं कश्मीरी नेता यासीन मलिक के खिलाफ मोदी सरकार की उस फासीवादी रणनीति की कड़ी निंदा करता हूं, जिसके तहत उन्हें अवैध कारावास से लेकर फर्जी आरोपों में सजा दी जा रही है। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को मोदी शासन के राजकीय आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए।

यासीन कश्मीर का वीर सपूत- सांसद नाज बलोच
पाकिस्तान की सांसद नाज बलोच ने यासीन मलिक की सजा की खबर पर ट्वीट करते हुए मोदी सरकार को फासीवादी करार दिया। नाज बलोच ने लिखा- संयुक्त राष्ट्र को मानवाधिकारों के उल्लंघन पर तत्काल संज्ञान लेना चाहिए। उन्होंने यासीन मलिक को कश्मीर का वीर सपूत करार दिया और लिखा कि झूठे आरोप में सजा देना मानवता के खिलाफ है। इतना ही नहीं बलोच ने यासीन मलिक की रिहाई की मांग तक कर दी।

शाहबाज शरीफ ने क्या कहा

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहबाज शरीफ ने सोशल मीडिया पर लिखा- दुनिया को जम्मू और कश्मीर में सियासी कैदियों के साथ भारत सरकार के रवैये पर ध्यान देना चाहिए। प्रमुख कश्मीरी नेता यासीन मलिक को फर्जी आतंकवाद के आरोपों में दोषी ठहराना भारत के मानवाधिकारों के उल्लंघन की आलोचना करने वाली आवाजों को चुप कराने की कोशिश है। मोदी सरकार को इसके लिए दोषी ठहराया जाना चाहिए।

यासीन पर लगे बड़े आरोप
19 मई की सुनवाई के दौरान यासीन अपने गुनाह कबूल कर चुका है। मलिक पर 25 जनवरी 1990 को श्रीनगर में वायुसेना के जवानों पर हमला करने का आरोप है। इस घटना में 40 लोग घायल हुए थे, जबकि चार जवान शहीद हो गए थे। स्क्वाड्रन लीडर रवि खन्ना उनमें से एक थे। यह सभी एयरपोर्ट जाने के लिए गाड़ी का इंतजार कर रहे थे, तभी आतंकियों ने उन पर हमला कर दिया था। मलिक ने मीडिया को दिए इंटरव्यू में भी इस बात का जिक्र किया था।

इसके साथ ही पाकिस्‍तानी आतंकियों के साथ संबंध रखने के आरोप भी हैं। साथ ही जम्मू-कश्मीर के पूर्व CM मुफ्ती मोहम्मद सईद की बेटी रूबिया सईद के अपहरण के भी आरोप लगे हैं। 1990 में कश्मीरी पंडितों की हत्या कर उन्हें घाटी छोड़ने पर मजबूर करने में भी यासीन की महत्वपूर्ण भूमिका रही।