अमेरिका में यहूदी धर्मस्थल पर आतंकी हमला:चारों बंधकों को छुड़ाया गया, पाकिस्तानी आतंकी की रिहाई था हमले का मकसद

वॉशिंगटन5 महीने पहले

अमेरिका के टेक्सास में एक आतंकी ने शनिवार को एक यहूदी मंदिर (सिनेगॉग) पर हमला कर 4 लोगों को बंधक बना लिया। टेक्सास पुलिस, स्वाट स्क्वाड और FBI टीम ने मिलकर चारों बंधकों को सुरक्षित छुड़ा लिया है। आतंकी का मकसद टेक्सास की जेल में बंद पाकिस्तानी न्यूरो साइंटिस्ट आफिया सिद्दीकी की रिहाई था। आफिया को अल कायदा से संबंध रखने के आरोप में अमेरिका में जेल की सजा सुनाई गई थी।

टेक्सास के डलास इलाके के इसी सिनेगॉग में आतंकी ने 4 लोगों को बंधक बनाया था।
टेक्सास के डलास इलाके के इसी सिनेगॉग में आतंकी ने 4 लोगों को बंधक बनाया था।

टेक्सास के गवर्नर ग्रेग एबॉट ने बंधकों की रिहाई के बारे में जानकारी दी है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन भी लगातार इस घटना का अपडेट ले रहे थे।

कौन है आफिया सिद्दीकी?

आफिया ने मेसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से न्यूरोसाइंस में पीएचडी की है।
आफिया ने मेसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से न्यूरोसाइंस में पीएचडी की है।

पाकिस्तान की नागरिक डॉ. आफिया सिद्दीकी पर अलकायदा से जुड़े होने का आरोप है। उसने मेसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से न्यूरोसाइंस में पीएचडी की है। सिद्दीकी का नाम 2003 में उस वक्त चर्चा में आया था जब एक आतंकी खालिद शेख मोहम्मद ने FBI को उसके बारे में सुराग दिया था। इस सूचना के आधार पर आफिया को अफगानिस्तान से गिरफ्तार किया गया। वहां उसने बगराम की जेल में एक FBI अधिकारी को मारने की कोशिश की थी, जिसके बाद उसे अमेरिका डिपोर्ट कर दिया गया था।

आफिया कथित सोशल एक्टिविस्ट भी है, उस पर यह भी आरोप है कि वह जिस चैरिटी संस्थान से जुड़ी थी, उसने केन्या में अमेरिकी दूतावास पर हमला किया था। वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हमले के बाद भी FBI ने मई 2002 में आफिया और उसके पति अमजद खान से लंबी पूछताछ की थी।

आफिया के भाई पर लग रहा था आरोप
कुछ रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि यह हमला आफिया सिद्दीकी के भाई मुहम्मद सिद्दीकी ने किया है। हालांकि, हमले के बाद ही मुहम्मद सिद्दीकी ने इन आरोपों का खंडन कर दिया है। उसने कहा कि इस मामले में उसका नाम आने से वह नाखुश है।

खबरें और भी हैं...