फ्रांस / घरेलू हिंसा को लेकर सैकड़ों लोग सड़कों पर उतरे, 6 महीने में 74 महिलाओं की हत्या हुई



Hundreds of protesters on gathered in Paris to violence against women
Hundreds of protesters on gathered in Paris to violence against women
Hundreds of protesters on gathered in Paris to violence against women
X
Hundreds of protesters on gathered in Paris to violence against women
Hundreds of protesters on gathered in Paris to violence against women
Hundreds of protesters on gathered in Paris to violence against women

  • प्रदर्शन में हर उम्र के महिला-पुरुष और कई एनजीओ ने भी हिस्सा लिया
  • प्रदर्शनकारियों ने 74 सेकंड तक मौन रहकर हिंसा में मारी गईं महिलाओं को श्रद्धांजलि दी
  • गृह मंत्री ने कहा- घरेलू हिंसा पर रोक लगाने के लिए व्यापक परामर्श मसौदा तैयार करेंगे

Dainik Bhaskar

Jul 07, 2019, 03:57 PM IST

पेरिस. महिलाओं के खिलाफ हिंसक घटनाओं के विरोध में मध्य फ्रांस की सड़कों पर शनिवार को सैकड़ों लोगों ने प्रदर्शन किया। उनकी मांग थी कि महिला अपराध में शामिल आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए। प्रदर्शनकारियों ने 74 सेकंड तक मौन धारण कर पीड़ितों को श्रद्धांजलि दी। फ्रांस में पिछले 6 महीने में घरेलू हिंसा की वजह से 74 महिलाओं की मौत हो चुकी है।

 

फ्रांस के डी ला रिपब्लिक स्क्वॉयर पर महिला और पुरुषों ने जमकर नारेबीजी की। उन्होंने 'घरेलू हिंसा बंद करो' और 'पृथ्वी पर महिलाओं का जिंदा रहना जरूरी है' जैसे नारे लगाए। प्रदर्शन में महिला अधिकार के लिए काम करने वाले कई एनजीओ भी शामिल हुए। गृह मंत्रालय के मुताबिक, पिछले हफ्ते चार महिलाओं की हत्या हुई। 2017 में 130, जबकि 2016 में 123 महिलाओं की हत्या उनके पति द्वारा की गई।

 

ओलांद की पार्टनर ने घरेलू हिंसा को नरसंहार बताया

फ्रांसीसी अभिनेत्री और पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद की पार्टनर जूली गेएट ने कहा, ‘‘यह एक नरसंहार है। आज जो कुछ हो रहा है उसे लेकर हमें जागरुकता फैलाने की जरूरत है। हम तरक्की तो कर रहे हैं, लेकिन महिलाओं की हत्या के कारण समाज काफी पीछे जा रहा है।’’

 

घरेलू हिंसा पर परामर्श मसौदा तैयार करेगी सरकार

जेंडर इक्विलिटी मिनिस्टर मार्लिन शियाप्पा ने एक इंटरव्यू में कहा है कि सरकार सितंबर से घरेलू हिंसा को लेकर एक व्यापक परामर्श मसौदे पर काम शुरू करेगी। इस प्रक्रिया में गृह और न्याय मंत्रियों, हित समूहों और एनजीओ को शामिल किया जाएगा। उन्होंने कहा कि ऐसा कोई देश नहीं, जहां महिलाओं पर अत्याचार नहीं होते हैं। लेकिन मेरा मानना है कि अगर सब एकजुट होकर इस पर काम करें तो हिंसा को खत्म कर सकते हैं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना