• Hindi News
  • International
  • Patients Standing At The Door Of Death In America Asking For Vaccine; The Doctor Said It Is Too Late Now, We Are Forced

तीसरी लहर का जोखिम बढ़ा:अमेरिका में मौत के दरवाजे पर खड़े मरीज मांग रहे वैक्सीन, डॉक्टर बोले- बहुत देर हो चुकी, हम मजबूर हैं

वॉशिंगटन4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अलबामा में टीकाकरण के लिए पात्र लोगों में से सिर्फ 33% ने 20 जुलाई तक टीका लगवाया और लुसियाना में 36% ने। ये हाल तब हैं, जब अमेरिका में कोरोना के डेल्टा वैरिएंट के 83% नए मामले हैं। - Dainik Bhaskar
अलबामा में टीकाकरण के लिए पात्र लोगों में से सिर्फ 33% ने 20 जुलाई तक टीका लगवाया और लुसियाना में 36% ने। ये हाल तब हैं, जब अमेरिका में कोरोना के डेल्टा वैरिएंट के 83% नए मामले हैं।

अमेरिका में 60% वयस्क पूर्ण कोरोना टीकाकरण करा चुके हैं। लेकिन अलबामा, ओकाहोम, मिसौरी, अरकनसास, लुसियाना और मिसीसीपी राज्य में टीकाकरण में कमी ने तीसरी लहर के खतरे को बढ़ा दिया है। अलबामा में टीकाकरण के लिए पात्र लोगों में से सिर्फ 33% ने 20 जुलाई तक टीका लगवाया और लुसियाना में 36% ने। ये हाल तब हैं, जब अमेरिका में कोरोना के डेल्टा वैरिएंट के 83% नए मामले हैं।

अलबामा में अस्पतालों में भर्ती कोरोना मरीज टीके के लिए याचना कर रहे हैं, कई तो याचना करते हुए दम तोड़ चुके हैं। अलबामा की डॉक्टर ब्रिटनी कोबिया ने कहा, ‘ग्रैंडव्यू मेडिकल सेंटर में कोरोना का टीका न लगने से कई मौतें हो चुकी हैं। अपने आखिरी दिनों में इन मरीजों ने हमसे टीके के लिए याचना की, पर हम भी मजबूर हैं। ऐसे मरीजों का हाथ पकड़कर मैं कहती हूं कि मुझे खेद है, बहुत देर हो चुकी है। अगर इन लोगों को समय पर टीका लगा होता तो इन्हें बचाया जा सकता था। आगे हालात बिगड़ सकते हैं। इसलिए हम गंभीर संक्रमण वाले युवाओं को अस्पताल में भर्ती कर रहे हैं।’

CDC की डायरेक्टर ने कहा- टीकाकरण न कराने की महामारी चल रही
​​​​​​​ स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार अलबामा में अप्रैल से अब तक कोरोना से मरने वाले लोगों में से 96% ने पूर्ण टीकाकरण नहीं कराया था। जबकि रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) के अनुसार कोरोना मरीज टीका लगवा सकते हैं। सीडीसी की डायरेक्टर रोशेले वैलेंस्की ने कहा कि अमेरिका में टीकाकरण न कराने की महामारी चल रही है। लोग टीका लगाने के लिए आगे नहीं आ रहे हैं। वैलेंस्की ने यह बात इसलिए कही, क्योंकि देश में रोज 5,21,000 टीके लग रहे हैं। ये अप्रैल में रोज लग रहे टीकों से 85% कम है।

खबरें और भी हैं...