पेंटागन की रिपोर्ट में खुलासा:2030 तक चीन के पास 1,000 परमाणु हथियार होंगे! LAC पर ड्रैगन ने फाइबर ऑप्टिक नेटवर्क बिछाया

वाशिंगटनएक महीने पहले

चीन अपनी न्यूक्लियर फोर्स को काफी तेजी से बढ़ा रहा है। अमेरिका रक्षा विभाग पेंटागन की रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है। इसमें कहा गया है कि एक साल पहले अमेरिकी अधिकारियों ने जो अनुमान लगाया था, चीन उसकी तुलना में बहुत तेजी से अपने परमाणु भंडार बढ़ा रहा है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि 6 साल के भीतर चीनी परमाणु हथियारों की संख्या बढ़कर 700 हो सकती है, जो 2030 तक 1000 से भी ऊपर पहुंच जाएगी। इसमें यह नहीं बताया गया है कि आज चीन के पास कितने परमाणु हथियार हैं, लेकिन एक साल पहले पेंटागन ने कहा था कि यह संख्या 200 के करीब हो सकती है, जिसके इस दशक के अंत तक दोगुना होने की संभावना है।

चीन से खुले तौर पर संघर्ष का सुझाव नहीं
रिपोर्ट में चीन के साथ खुले तौर पर संघर्ष का सुझाव नहीं दिया गया है, लेकिन यह पीपुल्स लिबरेशन आर्मी को लेकर अमेरिका की चिंताओं को उजागर करती है। चीनी सेना को युद्ध के सभी क्षेत्रों (हवा, जमीन, समुद्र, अंतरिक्ष और साइबरस्पेस) में अमेरिका को चुनौती देने की इच्छा रखती है। वहीं ताइवान को लेकर चीन के रवैये पर भी अमेरिकी अधिकारियों ने चिंता जताई है।

चीन ने हिमालय में फाइबर ऑप्टिक नेटवर्क बिछाया
इस रिपोर्ट को 'मिलिट्री एंड सेक्युरिटी डेवलपमेंट्स इवॉल्विंग पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना 2021' नाम दिया गया है। इसमें बताया है कि 2020 में LAC पर भारत के सीमा गतिरोध के दौरान चीन ने हिमालय के दूरदराज के इलाकों में फाइबर ऑप्टिक नेटवर्क बिछाया स्थापित किया। इसका मकसद कम्युनिकेशन को तेज करना था और विदेशी घुसपैठ को लेकर अलर्ट रहना था। LAC पर हुए टकराव के चलते चीनी सेना ने बॉर्डर पर बड़ी संख्या में सैनिकों की तैनाती भी की थी।

रिपोर्ट में चीन के मिसाइल टेस्ट का भी जिक्र
पेंटागन की रिपोर्ट दिसंबर 2020 तक जुटाई की गई जानकारियों पर आधारित है। इसमें पिछली गर्मियों में चीनी हाइपरसोनिक हथियार टेस्ट के बारे में कुछ नहीं कहा गया है, जिस पर जनरल मार्क मीले ने अक्टूबर में चिंता जताई थी। उन्होंने कहा था कि यह एक परेशान करने वाला कदम है। हालांकि, रिपोर्ट में चीन की DF-17 मध्यम दूरी की बैलिस्टिक मिसाइल का जिक्र है, जो कि हाइपरसोनिक ग्लाइड ह्वीकल से लैस थी।