• Hindi News
  • International
  • People From Foreign Countries Become Angels For Afghans, Afghan Children Cling To Security Personnel On Seeing Them

तालिबान ने सताया, दुनिया ने अपनाया:अफगानियों के लिए फरिश्ते बने पराए मुल्कों के लोग, सुरक्षाकर्मियों को देखते ही उनसे लिपट पड़ते हैं अफगानी बच्चे

नई दिल्ली3 महीने पहले

तालिबान के खौफ से अफगानिस्तान छोड़ने वाले अफगानियों को दुनिया गले लगा रही है। अमेरिका समेत कई देशों के सैनिक काबुल एयरपोर्ट से लोगों को निकाल रहे हैं तो दूसरे देश में पहुंचने पर अफगानियों का दिल खोलकर स्वागत किया जा रहा है। जो अफगानी बच्चे काबुल एयरपोर्ट के बाहर दहशत में रोते-बिलखते नजर आ रहे हैं, वे दूसरे देशों के सुरक्षाबलों के करीब पहुंचते ही उनसे लिपट जाते हैं। भावुक कर देने वाली ऐसी ही 11 तस्वीरें देखिए...

काबुल एयरपोर्ट पर भीड़ के बीच अपने पिता के कंधे पर बैठा ये बच्चा उस वक्त बुरी तरह घबरा गया जब सुरक्षाबलों ने भीड़ को तितर बितर करने के लिए हवाई फायरिंग की।
काबुल एयरपोर्ट पर भीड़ के बीच अपने पिता के कंधे पर बैठा ये बच्चा उस वक्त बुरी तरह घबरा गया जब सुरक्षाबलों ने भीड़ को तितर बितर करने के लिए हवाई फायरिंग की।
अफगानी बच्चे तालिबान से इस कदर खौफ खाए हुए हैं कि वे सुरक्षित जगह पहुंचते ही इमोशनल हो जाते हैं। अपने परिवार के साथ इटली पहुंचा एक अफगानी बच्चा एयरपोर्ट पर मौजूद पुलिस अफसर के गले से लिपट गया।
अफगानी बच्चे तालिबान से इस कदर खौफ खाए हुए हैं कि वे सुरक्षित जगह पहुंचते ही इमोशनल हो जाते हैं। अपने परिवार के साथ इटली पहुंचा एक अफगानी बच्चा एयरपोर्ट पर मौजूद पुलिस अफसर के गले से लिपट गया।
काबुल से भारतीय वायुसेना के विमान से 168 लोग गाजियाबाद के हिंडन एयरफोर्स स्टेशन पहुंचे। यहां सुरक्षाबलों के एक जवान बच्ची के साथ खेलते हुए नजर आए।
काबुल से भारतीय वायुसेना के विमान से 168 लोग गाजियाबाद के हिंडन एयरफोर्स स्टेशन पहुंचे। यहां सुरक्षाबलों के एक जवान बच्ची के साथ खेलते हुए नजर आए।
अमेरिकी एयरफोर्स के विमान से जा रही एक अफगानी महिला ने प्लेन में ही बच्चे को जन्म दिया। इस दौरान जर्मनी के रैमस्टेन एयरबेस पर सेना के मेडिकल स्टाफ ने महिला और उसके परिवार की मदद की।
अमेरिकी एयरफोर्स के विमान से जा रही एक अफगानी महिला ने प्लेन में ही बच्चे को जन्म दिया। इस दौरान जर्मनी के रैमस्टेन एयरबेस पर सेना के मेडिकल स्टाफ ने महिला और उसके परिवार की मदद की।
इटली के फियुमिसिनो एयरपोर्ट पर पहुंचे अफगानी बच्चों ने वहां मौजूद पुलिस कर्मियों और स्टाफ को ही दोस्त बना लिया। ड्यूटी करने के साथ ही पुलिस कर्मी अफगानी बच्चों के साथ खेलते हुए भी नजर आ रहे हैं।
इटली के फियुमिसिनो एयरपोर्ट पर पहुंचे अफगानी बच्चों ने वहां मौजूद पुलिस कर्मियों और स्टाफ को ही दोस्त बना लिया। ड्यूटी करने के साथ ही पुलिस कर्मी अफगानी बच्चों के साथ खेलते हुए भी नजर आ रहे हैं।
दुनिया के कई देशों में तालिबान विरोधी प्रदर्शन हो रहे हैं। अफगानी मूल के अमेरिकियों ने लॉस एंजिल्स में स्टैंड विद अफगान लिखी तख्तियों के साथ प्रदर्शन किया।
दुनिया के कई देशों में तालिबान विरोधी प्रदर्शन हो रहे हैं। अफगानी मूल के अमेरिकियों ने लॉस एंजिल्स में स्टैंड विद अफगान लिखी तख्तियों के साथ प्रदर्शन किया।
लॉस एंजिल्स के पर्शिंग चौक पर हुए तालिबान विरोधी प्रदर्शन में ज्यादातर अफगानिस्तान मूल के लोग शामिल हुए। इस दौरान अफगानी मूल के हसमत अमीन अपनी बेटी के साथ मैचिंग टोपी पहनकर पहुंचे। अमीन 9 साल की उम्र में काबुल से अमेरिका आ गए थे।
लॉस एंजिल्स के पर्शिंग चौक पर हुए तालिबान विरोधी प्रदर्शन में ज्यादातर अफगानिस्तान मूल के लोग शामिल हुए। इस दौरान अफगानी मूल के हसमत अमीन अपनी बेटी के साथ मैचिंग टोपी पहनकर पहुंचे। अमीन 9 साल की उम्र में काबुल से अमेरिका आ गए थे।
लॉस एंजिल्स में तालिबान के खिलाफ रैली निकाली गई। इस दौरान लोग अफगानिस्तान का झंडा और तालिबानी विरोधी तख्तियां लिए हुए नजर आए। इनमें युवाओं की संख्या ज्यादा थी।
लॉस एंजिल्स में तालिबान के खिलाफ रैली निकाली गई। इस दौरान लोग अफगानिस्तान का झंडा और तालिबानी विरोधी तख्तियां लिए हुए नजर आए। इनमें युवाओं की संख्या ज्यादा थी।
लॉस एंजिल्स में तालिबान विरोधी रैली में कई महिलाएं एम्ब्रॉयडरी वाले हिजाब पहनकर पहुंचीं।
लॉस एंजिल्स में तालिबान विरोधी रैली में कई महिलाएं एम्ब्रॉयडरी वाले हिजाब पहनकर पहुंचीं।
US पहुंच रहे अफगानियों की सरकार ही नहीं बल्कि वहां के लोग भी मदद कर रहे हैं। वॉशिंगटन में एक महिला ने काबुल से पहुंचे परिवार के बच्चों के लिए एक कमरे में बेड लगवा दिए हैं।
US पहुंच रहे अफगानियों की सरकार ही नहीं बल्कि वहां के लोग भी मदद कर रहे हैं। वॉशिंगटन में एक महिला ने काबुल से पहुंचे परिवार के बच्चों के लिए एक कमरे में बेड लगवा दिए हैं।
जर्मनी के रैमस्टेन एयरबेस के सदस्यों ने खिलौने इकट्ठा किए हैं। ये खिलौने अफगानिस्तान से पहुंच रहे बच्चों को दिए जा रहे हैं। यहां अफगानियों की मदद के लिए 24 घंटे स्टाफ मौजूद है।
जर्मनी के रैमस्टेन एयरबेस के सदस्यों ने खिलौने इकट्ठा किए हैं। ये खिलौने अफगानिस्तान से पहुंच रहे बच्चों को दिए जा रहे हैं। यहां अफगानियों की मदद के लिए 24 घंटे स्टाफ मौजूद है।
खबरें और भी हैं...