• Hindi News
  • International
  • People's Age Is Decreasing In Okinawa, Japan Young People Are Not Following The Path Of Ancestors, American Lifestyle Is Dominating

जापान के ओकिनावा में घट रही लोगों की उम्र:युवा पुरखों की राह पर नहीं चल रहे, अमेरिकी लाइफस्टाइल हावी हो रही

टोक्यो3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ओकिनावा...यानी जापान का सबसे दक्षिणी प्रांत। इसकी पहचान यह है कि यहां के लोग दुनिया में सबसे ज्यादा जीते हैं। हालांकि, अब आधुनिक जीवनशैली ने यहां के लोगों को जकड़ लिया है और उनकी उम्र गिर रही है। बीते दशकों में यहां पुरुषों की औसत उम्र 84 और महिलाओं की 90 साल थी। प्रति लाख आबादी पर 68 शतायु थे, जो अमेरिका की तुलना में तीन गुना अधिक थे। लेकिन, अब जनगणना के आंकड़ों के मुताबिक ओकिनावा में पुरुषों की औसत उम्र 80.27 और महिलाओं की 87.44 रह गई है।

क्या है उम्र घटने की वजह
इस ट्रेंड पर नाहा स्थित ओकिनावा रिसर्च सेंटर फॉर लॉन्जिविटी साइंसेज के फाउंडर 89 वर्षीय माकोटो सुजुकी कहते हैं युवा पीढ़ी ने पुरखों के पदचिह्नों पर चलना छोड़ दिया है। वे दूसरे समाजों, खासकर अमेरिकी जीवनशैली से प्र‌भावित हो रहे हैं। इसकी वजह यह है कि 1945 में दूसरे विश्व युद्ध में जापान के आत्मसमर्पण के बाद से ओकिनावा अमेरिकी सैन्य ठिकाना बना हुआ है और उनके फास्ट फूड और टीवी के कल्चर को यहां के लोगों ने अपना लिया है।

पहले ओकिनावा में महिलाओं की औसत उम्र 90 साल थी। अब 87.44 रह गई है।
पहले ओकिनावा में महिलाओं की औसत उम्र 90 साल थी। अब 87.44 रह गई है।

पहले लोग फिजिकल एक्टिविटीज पर ध्यान देते थे
उन्होंने कहा- अब इसके दुष्प्रभाव भी दिखने लगे हैं। वे कहते हैं- ‘पहले यहां के खानपान में बहुत सारी सब्जियां, स्थानीय फल, ‘टोफू’ जैसी डिश और मछली-मांस शामिल थे। जब मैं छोटा बच्चा था, तब हम लोग हफ्ते में एक बार ही मांस खाते थे और यह एक आदत है, जिससे आज भी जुड़ा हूं। उन दिनों हम लोग खूब चलते थे। ट्रैकिंग और तीरंदाजी किया करते थे, लेकिन अब समय की कमी के चलते यह आदत कम होती जा रही है।

एक्सपर्ट्स का कहना है कि पहले लोग कसरत करते थे और खान-पान सही रखते थे। इस वजह से उम्र ज्यादा होती थी।
एक्सपर्ट्स का कहना है कि पहले लोग कसरत करते थे और खान-पान सही रखते थे। इस वजह से उम्र ज्यादा होती थी।

मार्शल आर्ट जीवन का हिस्सा था
रयुकियस यूनिवर्सिटी की एसोसिएट प्रोफेसर टोमोको ओवान भी इस बात से सहमत हैं कि ओकिनावा में विदेशी जीवनशैली का दुष्प्रभाव पड़ा है। भोजन समेत कई चीजें बदल गई हैं। यहां के समाज में परिवार और समुदाय हमेशा अहम थे। मार्शल आर्ट जीवन का हिस्सा था। शरीर, मन और आत्मा के प्रशिक्षण के लिए बुजुर्ग आज भी मार्शल आर्ट का अभ्यास करते हैं। वे कहती हैं- मेरी मां ने 105 वर्ष की शानदार जिंदगी जी है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि अब हमारे समाज के लोग इतने लंबे समय तक नहीं जी रहे हैं। मुझे लगता है कि ओकिनावा के युवा अपने बड़ों से सीखने में नाकाम रहे हैं।

यहां की सेहत का राज

  • ओकिनावा में लंबी उम्र का राज जानने के लिए सैकड़ों स्टडी हुई हैं। इनके मुताबिक सामाजिक सुरक्षा तंत्र, रोजाना कसरत की आदत लंबी उम्र का राज है।
  • इनमें खास बात यह है कि यहां लोग बुढ़ापे तक बागवानी करते हैं और खुद को व्यस्त रखते हैं। तनाव और अकेलेपन से दूर रहते हैं।