पहल / फिलीपींस में नया कानून- ग्रेजुएशन की डिग्री तभी मिलेगी जब छात्र 10 पौधे लगाएंगे



फिलीपींस में हर साल स्कूलों और कॉलेजों से 1.75 करोड़ छात्र शिक्षा पूरी करते हैं। फिलीपींस में हर साल स्कूलों और कॉलेजों से 1.75 करोड़ छात्र शिक्षा पूरी करते हैं।
X
फिलीपींस में हर साल स्कूलों और कॉलेजों से 1.75 करोड़ छात्र शिक्षा पूरी करते हैं।फिलीपींस में हर साल स्कूलों और कॉलेजों से 1.75 करोड़ छात्र शिक्षा पूरी करते हैं।

  • रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस कानून के जरिए एक साल में फिलीपींस में 17.5 करोड़ पौधे लग सकेंगे
  • सरकार और विपक्षी पार्टियों ने पर्यावरण संरक्षण के लिहाज से कानून को मंजूरी दी

May 30, 2019, 07:44 AM IST

मनीला. पर्यावरण के मामले में 20वीं सदी फिलीपींस के लिए एक बुरा सपना साबित हुई है। इस दौरान यहां का वन क्षेत्र 70% से 20% तक सिमट गया। अब सरकार की कोशिश है कि देश को फिर से हरा-भरा बनाया जाए। इसके लिए फिलीपींस में नया कानून बनाया गया है, इसमें ग्रेजुएशन पूरा करने से पहले छात्रों के लिए कम से कम 10 पौधे लगाना अनिवार्य कर दिया गया है।

 

525 अरब पौधे लगाने का लक्ष्य
फिलीपींस की मैग्डलो पार्टी के नेता गैरी अलेजनो की इस कानून को तैयार करने में अहम भूमिका रही। उनका कहना है कि सब कुछ ठीक रहा तो एक पीढ़ी करीब 525 अरब पौधे लगाएगी। जितने पौधे लगाए जाते हैं, उनमें 10% ही जीवित रह पाते हैं। यानी अगली पीढ़ी के लिए 52.5 करोड़ पौधे उपलब्ध होंगे।

 

हर साल पास होते हैं 5 लाख कॉलेज ग्रेजुएट

अलेजनो के मुताबिक- फिलीपींस में हर साल तकरीबन 1 करोड़ 75 लाख छात्र अलग-अलग डिविजन की क्लास पास करते हैं। इनमें 1 करोड़ 20 लाख एलिमेंट्री क्लासेज से पास होते हैं। जबकि 50 लाख हाईस्कूल से और 5 लाख कॉलेजों से ग्रेजुएट होते हैं। इन सभी को मिलाकर देखा जाए तो नए कानून के मुताबिक हर साल 17.5 करोड़ पौधे लगाए जा सकते हैं।

 

जगह के हिसाब से हो पौधरोपण

कानून के मुताबिक- पौधे ऐसी जगहों पर लगाए जाएं, जहां उनके जीवित रहने की संभावना प्रबल हो। इनमें वन क्षेत्र, संरक्षित एरिया, मिलिट्री रेंज और शहरों की चुनिंदा जगहें शामिल हैं। पौधों का चयन भी जगह को देखकर किया जाना चाहिए। देश में तैयार प्रजातियों के पौधों को प्राथमिकता के आधार पर लगाया जाना चाहिए। 

 

वन क्षेत्र सिमटने से प्राकृतिक आपदाएं हो रहीं

कानून को लागू करने का जिम्मा देश के शिक्षा विभाग के साथ उच्च शिक्षा आयोग को दिया गया है। कानून बनाने का ध्येय ग्लोबल वार्मिंग से निपटने के साथ आने वाली पीढ़ी को पर्यावरण के प्रति जागरूक करना भी है। अलेजनो का कहना है कि वन क्षेत्र सिमटने की वजह से ही देश में प्राकृतिक आपदाएं बढ़ रही हैं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना