पाकिस्तान में पूर्व मंत्री की पिटाई:आर्मी की आलोचना करने पर पूर्व महिला मंत्री शिरीन मजारी को पुलिस ने पीटा, बेटी ने किया दावा

इस्लामाबाद4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पाकिस्तान की पूर्व मानवाधिकार मंत्री शिरीन मजारी को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। मजारी की बेटी ने जानकारी देते हुए कहा कि पुलिस अधिकारियों ने उनकी पिटाई की और उन्हें अपने साथ ले गए। बता दें कि इमरान खान को पीएम पद से हटाए जाने के बाद से पूर्व मंत्री शिरीन मजारी लगातार सेना की आलोचना करती आईं हैं।
जमीनी विवाद में पुलिस ने किया गिरफ्तार
पाकिस्तान की पूर्व मंत्री शिरीन मजारी को किस आरोप में गिरफ्तार किया गया है। इस बात की अभी आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है। स्थानीय मीडिया के मुताबिक एक जमीनी विवाद में उन्हें गिरफ्तार किया गया है। इस साल के मार्च महीने में उनके खिलाफ जमीन से जुड़ा एक मामला दर्ज किया गया था। इसी मामले में स्थानीय पुलिस ने शिरीन मजारी को गिरफ्तार किया है।
बेटी ने बोली, पुलिस ने उनकी मां को पीटा
शिरीन मजारी की बेटी ईमान जैनब मजारी-हजीर ने इस मामले को लेकर ट्वीट किया है। उन्होंने बताया कि उनकी मां को एंटी करप्शन टीम ने गिरफ्तार किया है।
उन्होंने आगे बताया कि पुलिस अधिकारियों ने उनके मां के साथ पिटाई की और फिर उन्हें अपने साथ ले गए। इस मामले में एसीई (एंटी करप्शन इस्टैब्लिशमेंट) के अधिकारियों ने स्थानीय मीडिया से कहा कि शिरीन को हिरासत में लिया गया है।

बेटी ईमान जैनब मजारी-हजीर ने अपनी मां की गिरफ्तारी मामले में पुलिस पर पिटाई करने का आरोप लगाया है।
बेटी ईमान जैनब मजारी-हजीर ने अपनी मां की गिरफ्तारी मामले में पुलिस पर पिटाई करने का आरोप लगाया है।

PTI कार्यकर्ताओं को थाने पहुंचने के लिए कहा गया
पीएम के पूर्व विशेष सहायक शाहबाज गिल ने पीटीआई (पाकिस्तान तहरीक-ए -इंसाफ) के कार्यकर्ताओं से कोहसार पुलिस थाने पहुंचने को कहा है। बता दें कि पूर्व महिला मंत्री मजारी को यहीं रखा गया है।

इमरान खान अपनी हर एक रैली में मौजूदा सरकार पर लगातार निशाना साध रहे हैं और देशद्रोही सरकार बता रहे हैं।
इमरान खान अपनी हर एक रैली में मौजूदा सरकार पर लगातार निशाना साध रहे हैं और देशद्रोही सरकार बता रहे हैं।

इमरान के समर्थक लगातार कर रहे हैं सेना की आलोचना
इमरान को पीएम पद से हटाए जाने के बाद उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं और समर्थकों ने लगातार सेना की आलोचना की है। सेना के साथ-साथ न्यायपालिका की भी आलोचना की गई है। समर्थकों का मानना है कि अमेरिका के इशारे में इमरान को पीएम पद से हटाया गया है, लेकिन इसके बावजूद वहां की सेना और न्यायपालिका मौन रही है। इमरान ने भी कई रैलियों में मौजूदा सरकार को भ्रष्ट और देशद्रोही सरकार बताया है। इसके अलावा पीएम शहबाज शरीफ को अमेरिका के इशारे पर काम करने वाला बताया।