पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • International
  • Donald Trump Impeachment Twice Update: Capitol Hill Violence | US Politics What Next? Latest News

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ट्रम्प के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव पास:दूसरी बार महाभियोग का सामना करने वाले पहले अमेरिकी राष्ट्रपति, देश के खिलाफ विद्रोह भड़काने का आरोप

वॉशिंगटन3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
हाउस स्पीकर नैंसी पेलोसी महाभियोग पर बहस के लिए जाते हुए। वे दमदार तरीके से ट्रम्प पर इस कार्यवाही की वकालत कर रही हैं।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के खिलाफ महाभियोग चलाने का प्रस्ताव हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव (निचले सदन) में पास हो गया है। ट्रम्प पहले ऐसे अमेरिकी राष्ट्रपति बन गए हैं, जिन पर पद पर रहते हुए दूसरी बार महाभियोग चलेगा। उन पर देश के खिलाफ विद्रोह भड़काने का आरोप है। कुछ रिपब्लिकन सांसदों ने भी ट्रम्प पर महाभियोग चलाने के पक्ष में वोट किया है।

निचले सदन में महाभियोग चलाने का प्रस्ताव पूर्ण बहुमत से पास हुआ है। CNN के मुताबिक, प्रस्ताव के पक्ष में 232 और विरोध में 197 वोट डाले गए। पक्ष में वोट करने वाले सांसदों का मानना है कि ट्रम्प दंगे भड़काने के आरोपी हैं। ट्रम्प की रिपब्लिकन पार्टी के भी 10 सांसदों ने उनके खिलाफ वोट किया है।

प्रस्ताव पारित होने से पहले ट्रम्प ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि अब कोई हिंसा नहीं होनी चाहिए। कोई भी कानून तोड़ने वाला काम या किसी तरह की बर्बरता नहीं होनी चाहिए। यह वह नहीं है जिसके लिए मैं खड़ा रहता हूं। यह वह नहीं है जिसके लिए अमेरिका खड़ा रहता है। मैं सभी अमेरिकियों से अपील करता हूं कि वे तनाव कम करने और माहौल शांत करने में मदद करें।

पिछले हफ्ते समर्थकों ने तोड़फोड़ की थी

ट्रम्प के समर्थकों ने पिछले हफ्ते US कैपिटल बिल्डिंग में तोड़फोड़ की थी। इस हिंसा में एक पुलिस अफसर समेत पांच लोगों की मौत हो गई थी। इस घटना के बाद से ही ट्रम्प निशाने पर हैं। उनके खिलाफ दूसरी बार महाभियोग चलाए जाने की कार्रवाई की गई। यह सब नए राष्ट्रपति जो बाइडेन के शपथ लेने से एक हफ्ते पहले हुआ है।

US कैपिटल के अंदर और बाहर नेशनल गार्ड तैनात

दोबारा हिंसा की घटना से बचने के लिए US कैपिटल बिल्डिंग में हजारों नेशनल गार्ड्स को तैनात किया गया है।
दोबारा हिंसा की घटना से बचने के लिए US कैपिटल बिल्डिंग में हजारों नेशनल गार्ड्स को तैनात किया गया है।

ट्रम्प समर्थकों की हिंसा से सबक लेते हए US कैपिटल के बाहर बड़ी संख्या में नेशनल गार्ड तैनात किए गए थे। कड़ी सुरक्षा के घेरे में सांसदों ने लगभग एक दिन लंबी चलने वाली बहस में हिस्सा लिया। इसमें डेमोक्रेट्स को कुछ रिपब्लिकंस का साथ भी मिला।

'उस दिन जो हुआ वह विरोध नहीं विद्रोह था'

रूल्स कमेटी के चेयरमैन जिम मैक्गोवर्न ने बहस की शुरुआत करते हुए कहा कि हम उसी जगह खड़े होकर ऐतिहासिक कार्यवाही पर बहस कर रहे हैं, जहां अपराध हुआ था। मैक्गोवर्न ने कहा कि उस दिन यहां जो हुआ, वह कोई विरोध नहीं था। यह हमारे देश के खिलाफ संगठित विद्रोह था। इसे डोनाल्ड ट्रम्प ने भड़काया था।

स्पीकर बोलीं- ट्रम्प ने देश के खिलाफ विद्रोह भड़काया

हाउस स्पीकर नैंसी पेलोसी ने बहस के दौरान ट्रम्प को देश के लिए खतरा बताया। उन्होंने कहा कि हम जानते हैं कि उन्होंने देश के खिलाफ विद्रोह के लिए लोगों को उकसाया। उन्हें इसके लिए जाना चाहिए। राष्ट्रपति ट्रम्प ने नवंबर में हुए चुनाव के नतीजों के बारे में में बार-बार झूठ बोला और डेमोक्रेसी पर शक किया।

महाभियोग का समर्थन कर रहीं पेलोसी ने कहा कि मेरा मानना है कि राष्ट्रपति को सीनेट की ओर से दोषी ठहराया जाना चाहिए। यह संवैधानिक उपाय उस शख्स (ट्रम्प) से हमारे गणतंत्र को सुरक्षित करेगा, जो लगातार इसे नुकसान पहुंचा रहा है। वहीं, रिपब्लिकन पार्टी के जिम जॉर्डन ने इस कार्यवाही की आलोचना करते हुए कहा कि डेमोक्रेट्स राष्ट्रपति को हटाने की कोशिश कर रहे हैं।

संवैधानिक विशेषज्ञ इस मसले पर बंटे
महाभियोग पर हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव में सुनवाई हो चुकी है। यहां डेमोक्रेट बहुमत में हैं। लिहाजा प्रस्ताव साधारण बहुमत से पास होकर उच्च सदन यानी सीनेट में चला गया है। वहां रिपब्लिकन का बहुमत है और यहां दो तिहाई मत जरूरी होता है।

साल 2019 में ट्रम्प पर पहले महाभियोग में एक भी रिपब्लिकन ने इसके पक्ष में वोट नहीं दिया था। संवैधानिक विशेषज्ञ इस बात पर बंटे हुए हैं कि क्या राष्ट्रपति के पद छोड़ने के बाद भी महाभियोग चलाया जा सकता है या नहीं।

एक बार वाइस प्रेसिडेंट ट्रम्प को बचा चुके हैं
इससे पहले ट्रम्प को राष्ट्रपति पद से हटाने की कोशिश हो चुकी है। तब उपराष्ट्रपति माइक पेंस ने संविधान के 25वें संशोधन का इस्तेमाल करने से इंकार कर दिया था। इसके जरिए ट्रम्प को पद से हटाया जा सकता था। ट्रम्प अगर हटते तो पेंस बाकी 7 दिन के लिए राष्ट्रपति बन सकते थे। हालांकि, उन्होंने ऐसा नहीं किया।

अब तक तीन राष्ट्रपतियों पर महाभियोग
अब तक तीन अमेरिकी राष्ट्रपतियों पर महाभियोग चला है। ट्रम्प पहले राष्ट्रपति हैं, जिन पर दूसरी बार महाभियोग चलेगा। सबसे पहले 1868 में एंड्रयू जॉनसन, फिर 130 साल बाद 1998 में बिल क्लिंटन और 2019 में डोनाल्ड ट्रम्प पर महाभियोग चला।

1974 में वाटरगेट कांड के बाद रिचर्ड निक्सन ने इस्तीफा दे दिया था। उन पर महाभियोग चलना तय था। किसी भी राष्ट्रपति को अब तक इस प्रक्रिया से हटाया नहीं जा सका है। ट्रम्प के कार्यकाल में सिर्फ 6 दिन बाकी हैं। इस वजह से उन्हें हटाना भी मुश्किल है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कई प्रकार की गतिविधियां में व्यस्तता रहेगी। साथ ही सामाजिक दायरा भी बढ़ेगा। आप किसी विशेष प्रयोजन को हासिल करने में समर्थ रहेंगे। तथा लोग आपकी योग्यता के कायल हो जाएंगे। कोई रुकी हुई पेमेंट...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser